बनारस क्लब

बनारस क्लब गया था । डाक्टर नमित, शिप्रा और बालक शुभम के साथ । शानदार शाम रही । 1848 का यह क्लब है । शायद हिन्दुस्तान के 'प्राचीन' क्लबों में से एक होगा । क्लब की दीवार को बनारस की अलग पहचान से नवाज़ा गया है । मनीष खत्री की पेंटिंग से अलग ही बनारस का रूप उभरता है । उनकी पेंटिंग बनारस को अलग पहचान देती है । बल्कि बनारस की पहचान को बनारस में घर देती है ।





क्लब शानदार है । साइकिल ट्रैक है । बड़ा सा टीवी स्क्रीन है और हरी दूब का मैदान । बनारस की धार्मिकता में हम इतने डूब गए हैं कि भूल ही गए कि न्यू ईयर पर बनारसी डाँस कहा़ं करते हैं । हलक की तलब होती है तो कहाँ जाते हैं । यहाँ के बार का नाम भी हाउस आफ़ लार्ड है । बनारस के विमर्श में भरी पौराणिकता में थोड़ी आधुनिकता ठेलने के लिए यह तस्वीरें लेकर आया हूं । सूत्रों के मुताबिक़ आजीवन सदस्य बनना हो तो बारह लाख देने पड़ेंगे ! 


13 comments:

CoolPriti said...

Club ke photos dekh kar angrezon ki yaad aa gayi...

Unknown said...

Sir ye ravish ka matlab kya hota hai ?

Unknown said...

Ravish ka matlab SURYADEV , guptaji google kiya kijiye.

Unknown said...

अगर आप सोने की चम्मच लेकर पैदा नहीं हुए तो पढ़ाई ही एक ऐसी शक्ति है जो रातों-रात आपकी किस्मत बदल सकती है.
BY- राहुल वैश्य ( रैंक अवार्ड विजेता),
एम. ए. जनसंचार (राज्य पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण, हिमाचल लोक सेवा आयोग)
एवम
भारतीय सिविल सेवा के लिए प्रयासरत

Unknown said...

पंडित जी आप बहुत gyani है मेरी नदानी को मु्र्खता न समझे
बस 'श' का अंतर है।

Unknown said...

Halak ki Talab ... :-) esi vacubelary kaha se laate hain? Vaise thandi bear ki dukan to hoti hongi banaras main bhi :-) .Ye clubs har area main hone chahiye aur yahi nahi kids clubs, recreation center for old age people.most important is affordable. 12lac/ annum is too much.

Unknown said...

Dear Ravish,
Saw the concluding episode of your election tour. I guess, it must be a unique experience for you as a journalist and you also got us hooked towards electorate politics of India. I am also one among many Indians who may agree with Shree Kashi Naath Singh's opinion about kind of politics being played during this election.
For all Modi's Bhakts:
जो पुल बनायेगें
वो अनिवार्यतः
पीछे रह जायेंगे,
सेनायें हो जाएंगी पार
मारे जायेंगे रावण
जयी होंगे राम,
जो निर्माता रहे
इतिहास में
वो बन्दर कहलायेंगे.
-- अज्ञेय

Unknown said...

hello sir ..........
तो सर अब वापस स्टूडीयो मे होगे
वैसे ground reporting का आसर आपके चेहरे पर दिख रहा है

pragati sinha said...

bahut hi accha experience diya aapne hume...roz intezar rehta tha ke aj aap kaha gaye honge...aapki studio wali news bhi acchi hai par wo maza nae h jo reporting me hai...
waise agar mai aapki boss hoti toh hafte me 7 din aapse kaam karati..aur aapko a/c me baithne ka mauka toh kabhi nahi deti...aapko roz tv par aana padta... HAHA :)

Unknown said...

Sir Ji,
Apko yah nahi lagta hai ki kuch thekedaron ko bula kar is par charcha honi chahiye ki Banarasi club ka humare bharteey sankrit par prabhaav. Dekhiye sir, apke studio aane se pahale apko hot discussion topic ka ghyan de diye hum.
Mai bachapan se Banars ko do cheejo ke liye sunta aaya hoon. Patra (panchang) banane wale jaankar, kapda bunne wale julahe. Aur marni-karni ke baad phoola lekar banaras jana.
Ye club culture par to discussion banta hai na sir.

Unknown said...

"THE HOUSE OF LORDS BAR"
Sir ji sab paise walo ke aib hai.
Ek taraf ye club aur bar dusri taraf vikas ko tarasta banaras. YHA SIRF SETH LOGO KI HI ENTRY HOGI JAHA TAK MERA KHYAL HAI.

Unknown said...

Patani kyon ankhey gilee ho rahi hain jaankar k ap fir studio loat rahe ho...
"" Agar Ye Haal Hai Dil ka To Koi Samjhaye.......!!!!!!

Rajat Jaggi said...

12 LAKH!!!
SAB AMEERON KE CHONCHLE HAI BHAI