जांता

7 comments:

Ravi Ranjan said...

Ravish ji
jaata ka photo dekher gaon ke purane din yaad aagaye.. ekiswi sadi ke museum ke liye achi photo hai... jahan ise telegrapg machine ke saath rakha gayega... Telegraph jo ki bilkul videsi upkaran tha... aur yeh jaata sudh desi.

May 20, 2014 at 3:20 PM

Jitendra sharma said...

Sir pehli baar dekha hai. Kya hai iska upyog.

kamini singh said...

good one sir . Hamare yhan ise chaaki kahte hain of meri maa batati hain ki pahle subah 4 baje ghar ki mahilayen pratidin k liye anaj peesa krti thin.
Ghar k kuchh purush jo ki sahayta krne se peechhe nahi hat te the wo bhi unki madad kia karte the.
ye aaj bhi hamare ghar main hai or aksar main or maa mn krta hai to besan ya daal pees lia krte hai.
Haathon ki acchi exercise bhi ho jati hai or kamar ki bhi.

Mahendra Singh said...

Gaon me yeh jaant ya chakki chote aakar me thi aur bahut bade aakar me Bailon se chalne wali. Pitaji batate un sabki duty lagti thi bore peesne ke hisab se. Chote chakki me Bhabhiyon ke saath chakki ke hole me anaj dalne ka kaam hamne bhi kiya hai. Kamini ji kee baten bilkul sahi hai.

sachin said...

ये तस्वीर घर में दिखानी पड़ेगी। सख्त पत्थर को भी , किसी नन्हें बच्चे जैसे, प्यार से ढक ओढ़ाकर रखा है । जैसे कितने ही नाज़ुक चीज़ हो। उस पर गढ़ी नक्काशी को देखकर घर में रखा सिलबट्टा और उसका लोहड़ा याद आ गया। वो अक्सर आया करते थे आस-पास के गाँव से । छेनी और हथौड़े से पत्थर पर फ़ूल बेलें उगानें । उबटन , मसाला , चटनी से लेकर सब उसी पे पिसाता था। पीसने वाला भी।

sachin said...

अभी माँ को ये तस्वीर दिखाई । फिर बात निकल पड़ी । बता रही थी जांत के जैसे ही, उसका छोटा स्वरुप होता था/है -चकरी। आकार के अलावा फर्क ऊपर वाले पत्थर के वजन में भी होता था। ऊपर वाला नीचे वाले से हल्का होता है। दाल दरने के काम आता था। माँ ने ये भी बताया की जब बड़े बड़े जांत में आटा , आदि पीसने औरतें बैठती थी (अक्सर दो आमने सामने ) तो उसके साथ जांत/ओखली का गाना भी गाया जाता था।

(ऊपर के लिखे हर वाक्य में समझ नहीं आ रहा था कि वर्तमान काल में लिखूं या भूतकाल में। इसलिए सब घुल मिल जा रहा है। शायद गाँव, घर , आदि को लेकर हमारी मन:स्तिथि भी ऐसी ही है। वर्तमान और भूत में उलझी हुई )

Abu Hanzala said...

Kia baat hai sir dil khush ho gya ye dekh kar.bachpan Ki yaad taxa ho gayi