घूँघट में मर्द बनारसी !

गर्मी ने बनारस को गमछा आर्ट दिया है । तेज़ धूप से अपने नाज़ुक गालों और ललाटों को बचाते हुए तरह तरह के गमछानशीं मर्द दिख जायेंगे । कोई इन्हें घूँघट की तरह ओढ़े रहता है तो कोई मुरेठा बाँध के चाक चौबंद । गमछे में कुछ मर्द ख़ूबसूरत हो जाते हैं तो कुछ भकुआये और बकलोल भी लगते हैं । गमछा बाँधने की भी अपनी अपनी कला है । गमछे के भी कई प्रकार है । करोड़ों रुपये का गमछा कारोबार है । बनारस से लेकर बिहार तक में । आइडिया दे रहा हूँ । किन्हीं रघु राय जी को इस पर फोटो फ़ीचर करना चाहिए ।









32 comments:

Jitendra sharma said...

Garmi aur loo se bachne ka ek sasta aur badhiya idea hai. Log apne baccho ko bhi dhoop mein isi se bachate hain.


shirin jaiswal said...

ise bahane banaras ke logo ke liye ye summer fashion ho jayega jo
aakhir kuch toh apna desi - creavity
kab tak har cheez west se copy karenge hum....

shirin jaiswal said...
This comment has been removed by the author.
Manish Kumar said...

आपने भी एक लिया है, गमछे के साथ एकदम जमीन से जुड़े पत्रकार लगते हो :)

Sanjay Jatav said...

जिहाद और तक़िया का मिला जुला रूप:
मोदी को बेनियाबाग में सभा करने की अनुमति न देने के पीछे सुरक्षा कारण बताया गया है। वास्तविकता यह है कि एक कथित एन जी ओ 'दि इन्डिया फाउंडेंशन' के अध्यक्ष 'खान' ने वहाँ इसी तिथि को कार्यक्रम करने के लिये अनुमति ले रखी है जिसके लिये शुल्क भी 'मुआफ' कर दिया गया है।
आमीन जिल्ले इलाही!

Sanjay Jatav said...

#‎ठग‬ के लिये दूसरे स्थान पर आना जीवन मरण का प्रश्न है। उसका भविष्य इससे जुड़ा हुआ है। इसीलिये उसने अपनी सारी विद्या इस अभियान में लगा दी है।

Rachit G said...

काशी में सारे कम्निस्ट जमा हो गए है। जो लोग धर्म को अफीम और मंदिरों से बेहतर शराबखाने को बताते है वो अब गंगा जी में डुबकी लगा के अपने पाखंड के नाम पर वोट मांग रहे है। कुछ ऐसे जिनकी हड्डी तक कम्निस्ट चाप सेक्युलर है वो केवल मुस्लिम बस्तियों में टोपी लगाये घूम रहे है, गंगा जी की चरणों में नहीं गए।

सवाल भी है- दिल्ली में अगर चुनाव हुआ तो क्या केजरीवाल फिर से मुख्यमंत्री बनने के लिए चुनाव नहीं लडेगा??

neeru jain said...

सर अच्छा है |मुझे अखबार वाली सीरिस भी पसंद आई थी |

mishra babloo said...

Grameen bharat men angocha bahuayami suvidha pradaan karatee hai. Dhoop lagi to sar par aodh liya, sardi badhi to kaan bandh liye, need lagi to makkhi se bachne ke liye muh dhak kar so gaye, nahana huva to pahan kar naha liye aur 2 minute me angocha sookh kar punah use ke liye taiyar. koyi na koyi kavi ek din jaroor kahega:
angoche me gun bahut hai
sada rakhiye sang........

SHIVANI SRIVASTAVA said...

WOW this is called "DESI SHTYLE".
It rocks!!!!!

Nitin Shrivastava said...

Its Khujli style in first pics...Its Sucks not rocks

Nitin Shrivastava said...

संत ना छोड़े संतई,
चाहे कोटिन मिले असंत ।
कजरी ना छोड़े कुत्तई,
चाहे झांपड पडे अनंत...

Nitin Shrivastava said...

केजरीवाल की मोदी को खुली बहस की चुनौती देना ठीक वैसे जैसे सात फेरो से भागी औरत का गृहस्थी बसाने पर ज्ञान बाँटना!!

Nitin Shrivastava said...

@ Shivani Ji

Koi jawab aaya kya????

Khatam nahi ho raha intejaar...Abki Baar Modi Sarkar

Kriti Bhargav said...

Arun Jaitley lena bhool gaye ye otherwise shayad dharna kuchh der aur kar pate ....

ajay said...

Ye kuttai tumhare bhale ke liye hi hai bhai.

ajay said...

Bhai gariyao mat yaha par. Bahas nahi karna tha modi ko nahi kiye. Itna chidhane ki kya baat hai.

ajay said...

So you see kejriwal in everyone face. Thats great!

Chandra Kishore said...

ravish babu kal aur aaj ka pt dekha thoda saa bt pura pic n aap aur apke panalist ka view 2mint me samjh me aa gaya.yaar aap leftist to ho hii issme koi sahq nahi...lekin kisi party aur kisi khaas neta pe aaki kheej samjh me turant aa jati haii.aap ka pt gujrat ke chunav me bhi vidhansabha me dekhta tha ussi tarah ka panal choose karte hain jo aksar kahta tha modi ne bedagark kar diya gujrat kaa wo chnav haar jayenge aur aaj bhi jab aapka trailer dekha to aap yahi khana chaah rahe the ki modi haar rahe hain kaabtak aap apne dil ko dilasa doge ravish babu....bahut kbarab lagta hai...mai apne bare me kah doo ki mai kisi ka andhbahkt samarthk nahiii hooo...par aap ku h log jo biased hoker...sirf negative batten kartee ho to bahut bra lagta hai...aap ke blog pe comment karne wale so called pudiyawale baba ke bhaqt hain jnki pudiya sungh kar sab unki taraf chale aate hai...aap bhi dost to unhii ke hooo......babut kharab laga hai aapki ngative reporting dkh kar...sudhar jaa naa...taa puriyawala milihen naaa koi aur...dil se bura lagta taa....aur ek baat suna...performer ke log chune laa...promiser ke naa....sudharba ki naaa

bliss of solitude said...

Today's Prime Time was soothing both to the eyes and heart as well!
Achha sameta apne is chunavi paryattan ko

bliss of solitude said...

Today's Prime Time was soothing both to the eyes and heart as well!
Achha sameta apne is chunavi paryattan ko

Richa Sharma said...

(मनीष सर जी की बात पर) रवीश सर पर ये अच्छा भी लगता है !!
रवीश सर का यह अंदाज़ फैशन स्टेटमेंट बन गया है " लुक कूल दिस सीज़न " :)
और मुझे आज भी लमही गाँव के सर के फैंस का वोह कॉम्पलिमेंट याद है - रवीश सर आप बिलकुल ज़मीनी पत्रकार हैं..जिसके बाद सर ने कहा था चलो अब थोड़ी शिक़ायत भी कर दो :)

Rajat Jaggi said...

Urban girls bhi activa chalte waqt aisa hi kuch karti hain

Shipra K said...

भकुआये और बकलोल!!!! हा हा हा...

suryakant bhatt said...

Sir aj kal "gamcha" abhigyaan ji bahut acha gale me dalte ha

प्रवीण पाण्डेय said...

सर पर गमछा, धूप से बहुत बचाव रहता है।

Pankaj Dwivedi said...

E gamcha bade kam ki chij hai .......

Pankaj Dwivedi said...

E gamcha bade kam ki chij hai .......

Seema Taneja said...

this Gamchcha art has appealed to the NDTV journalists so much that all of them (reporting from Banaras) have bought a large number of them..... chahe vo Ravishji aap hai ya Abhigyan ya phir Hridayesh Joshiji! asal me ye Bhartieeya 'jugaad' ka bahut achcha udahran hai!

Mukund Kumar said...

ऐसे आप उजरका गमछी में मस्त लगते हैं..

anandita raiyani said...

Ise gamacha hi kahiye...ghunghat nahi..kyunki ghunghat me sirf ghutan hoti hai...aur kuchh nahi

Bornphilosopher said...

In Indian villages , angaucha अँगौछा is life saving accessory especially summer season.