होली आ गई क्या

वैशाली सेक्टर चार के मार्केट में पिचकारियां बिकनी शुरू हो गईं हैं । कोई नया माडल नहीं दिखा मगर रंग आख़िर रंग होता है मन खिल जाता है । 



5 comments:

Parveen Sharma said...

मुर्गा बड़ा प्रबल प्रतीक बन गया है क्वालिटी का... दिवाली के पटाखे और अब रंग.....

sachin said...

मुर्गा ब्रांड का माद्दा आईएसआई छाप जैसा है। जिसपर लग जाए समझिए "क्वालिटी" का माल है। इस मुर्गा छाप के बारे में और पढ़ने का मन करता है।

Gopal Girdhani said...

उमंग और उल्लास का त्यौहार होली !
कब है होली ?

प्रवीण पाण्डेय said...

बिना रंग जीवन यह कैसा

Kriti Bhargav said...

Aap Vaishali sec 4 kafi aate hain lagta hai , India main hoon . Aapse Milne vahi aana parega.:-) kuchh din pahle chai ki dukan