सिनेमा का एक पर्दा

सिनेमा का एक पर्दा 
सत्तर एम एम का 
बिल्कुल मोना सिनेमा सा 
पटना का 
थरथराता है मेरे भीतर डोल्बी साउंड से 
कि मेरी एक कहानी होगी कभी 
पर्दे पर टुकड़े टुकड़े में 
मेरे भीतर दबे तमाम किस्से 
जब भर जायेंगे रंगों से 
वाइड लैंस का कैमरा झांकेंगा जिसमें 
दौड़ती मचलती मेरी कहानियाँ 
रूलाती हंसाती और भगाती 
जैसी छोटी लाइन की रेलगाड़ियाँ 
छुक छुक छुक छुक
एक पर्दा है 
सिमटता खुलता रहता है 
सत्तर एम एम का
बंद बक्से में सालों से रहता है 
ख़्वाबों के शहर में
अधूरा सा 
पूरा होते होते सो जाता है 
टन टन भाजा पोटैटो चिप्स 
की लोरी सुनते सुनते 
घर आ जाता है 

10 comments:

Amit Kumar said...

ये किस्से कहानियां तमाम जो इस तन मन में बसी हैं कब कौन इनका पूर्ण चित्रण कर पाया है. यहाँ सब रंगमंच की कठपुतलियां हैं.......सोचो कुछ होगा जरुर कुछ और.....ये लाला की दूकान नहीं के जो माँगा वो मिल गया,ये फिल्म तो अपने आप ही पूरी हो जाएगी और अगर अच्छी बन गयी तो लोग एक बार तो जरुर देख लेंगे....आपकी फिल्म तो जरुर एक दिन ब्लाक बस्टर हो जाएगी ये मेरा विश्वास है,हम भी आपके पीछे ही हैं, कोशिश करते रहो,हम भी तुम्हें देख कर कर रहे हैं......... प्रणाम

Unknown said...

बेहतरीन!

Unknown said...

Bahut badiya ..

anuj sharma fateh said...

nice portrayal of kaleidoscopic human thoughts n dreams

प्रवीण पाण्डेय said...

जिन्दगी तो फिलिम जैसा ही है, रील सा चलता रहता है।

awadhesh said...

Ji Ravish bhai, acha laga...cinema ka ek parda. satyam...Shivam...Sundaram. Yehi avishkar hai, khoj hai. lekhan ki nayi taknik naye tarike. Adhik likhunga nahi, kahin al-bal na ho jaye. Likhna aata nahin. Isliye comment karna munasib nahin. Sikhna aata hai, Isliye aapko padhunga jaroor. Bahut kuch sikhna hai sir. kuch kuch sikha bhi hai. Nivedan hai aap likhte rahiye ham sirf sikhte rahenge. Dher sari shubhkamnayen. Vacharik Avkash...

awadhesh said...

Ji Ravish bhai, acha laga...cinema ka ek parda. satyam...Shivam...Sundaram. Yehi avishkar hai, khoj hai. lekhan ki nayi taknik naye tarike. Adhik likhunga nahi, kahin al-bal na ho jaye. Likhna aata nahin. Isliye comment karna munasib nahin. Sikhna aata hai, Isliye aapko padhunga jaroor. Bahut kuch sikhna hai sir. kuch kuch sikha bhi hai. Nivedan hai aap likhte rahiye ham sirf sikhte rahenge. Dher sari shubhkamnayen. Vacharik Avkash...

tasneem said...

ravish bhai ab mona cinema wo nahi raha bohat badal gaya hai

tasneem said...

mona cinema ab wo nahi raha kaafi badal gaya hai ab sapne lorion ki suntey nahi kyunki dil ho gaya hai badtameez

S. M. Rana said...

Aapki hingrezi shabdawali khoob hai...