मज़दूर बस्तियों का हाल

आज नोएडा में था । नया गाँव । यह गाँव आस पास की फैक्ट्रियों में काम करने वाले मज़दूरों का ठिकाना है । सौ कमरे का ऐसा बेतरतीब मकान देखा कि बता नहीं सकता । सीढ़ियाँ एक दूसरे पर चढ़ती हुईं ऐसे चली गईं हैं कि कोई वास्तुशास्त्री भी हैरान हो जाए । सस्ते कमरे ऐसे ही अंधेरे और ख़तरनाक होते हैं । इन अंधेरे बंद कमरों में रहने वालों के स्वास्थ्य का सर्वे होना चाहिए ।


ऐसी उदास जगहों से निकल मज़दूर चमकदार कारख़ानों में जीडीपी बढ़ाने जाते हैं । आख़िर ऐसा क्यों हैं कि गुजरात से लेकर उत्तर प्रदेश तक में इनके रहने की स्थिति एक सी बदतर है । सस्ते श्रम के शोषण से ही मुनाफ़े का संसार फैलता है । एक मज़दूर तो ऐसा भी मिला जिसने छह हज़ार की मज़दूरी छोड़ पान की दुकान खोल ली है । बाक़ी नहीं छोड़ सकते इसलिए काम कर रहे हैं । ठेकेदारी प्रथा ने मज़दूरों को न्यूनतम मज़दूरी के नीचे धकेल दिया है । इस पर न तो मोदी बोलेंगे न राहुल । कोई बोल कर देख ले कि सरकार बनते ही ठेकेदारी प्रथा बंद कर देंगे । बनने से पहले ही कारपोरेट हरवा देगा ।


इस गाँव में बिजली कम आती होगी । इसलिए फ़ोन ऐसे बिक रहे हैं जिनकी बैटरी महीने भर चलने वाली है । दुनिया भर में जहाँ फ़ोन साइज़ ज़ीरो के हो रहे हैं  हिन्दुस्तान के बिन बिजली वाले गाँवों में फ़ोन मोटे हो रहे हैं । बिल्कुल पुराने हैंड सेट की तरह । पाँच हज़ार का यह फ़ोन विचित्र है । ढाई तीन सौ ग्राम का ।


बैटरी इतनी मोटी है कि कार चल जाये । एक बार चार्ज होने पर बैटरी बीस दिन चलती है । दो दो प्रकार के चार्जर से चार्ज होने के लिए पिन लगे हैं । स्पीकर बड़े हैं । रेडियो का भी विकल्प । पाँच हज़ार का यह फ़ोन चीन से आया है । चीन हमारे बाज़ार को कितनी अच्छी तरह समझता है । बिजली नहीं है तो ऐसे उत्पाद बना देता है जो बिना बिजली के चल जाए । दो हज़ार तक में टच स्क्रीन फ़ोन बनाकर बेच रहा है ।


इस दुकान पर एक और ज्ञान प्राप्त हुआ । पाँच छह हज़ार महीने का कमाने वाले ये मज़दूर जब गाँव जाते हैं तब अपने फ़ोन बेच जाते हैं । उनके पास पैसे नहीं होते हैं घर जाने के लिए । 


69 comments:

Jitendra sharma said...

Ravish sir garibi insaan ko bahut Kuch sikhati.is tarah ki basti aur Un bastiyo mein hajaro lakho ki sankhaya mai majdur varg ke log hai.sab partiyan vote mangne to jayegi Lekin inki maari halat ki sudh lene koi nahi aayega. Wo alag baat hai ki lakho crore rupe ke paiso ke aid garibo ko lubhane ke liye diye jaa rahe hai.

Jitendra sharma said...

Vastav mein in garib logo ki bastiyo mein ja kar logo ko ye sab dikhakar jo nek kaam aap kar rahe hai iske liye smaj aapka aabhari rahega.hum sab ki duwaein aap ke saath hai ravish sir. We all salute u.

दिलबाग विर्क said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 03-04-2014 को चर्चा मंच पर चर्चा " मूर्खता का महीना " ( चर्चा - 1571 ) में दिया गया है
आभार

KARAN said...

it is always challenging to live as a poor what is more frightened is, the attitude of government of for all these issues.

Mahabir Rawat said...

सही हैं सर हमारा भारत हमारा भारत कर्रते है। चोरो को सत्ता सौप डीते है। भुगतेगा कौन ।चीनी पाकिस्तानी नहीं

Ashok Chandel said...

Good work Ravish.Even I like the way you present the reports.But I have some difference in opinion. Aapne garibi ke pehluon ko darshaya , apna dard bhi jahir kiya hospitals ki lambi lines aur majduron ke andhere gharon par. Unki parshaniyon ke liye MP, MLA doshi jaroor hain. Par aapne unse poocha ke unke ghar me kitne bache hain.kyun hai itna rush dawai lene ke liye,ya unke aas paas jo gandgi faili hai use failaya kisne, unhi logon ne, aur agar gandagi se dukhi hain to khud milkar safai kyun nahi ki....main sach me dukhi hun ke jadd tak koi nahi ja pata... shayad aap bhi nahi...

Ashok Chandel said...

Good work Ravish.Even I like the way you present the reports.But I have some difference in opinion. Aapne garibi ke pehluon ko darshaya , apna dard bhi jahir kiya hospitals ki lambi lines aur majduron ke andhere gharon par. Unki parshaniyon ke liye MP, MLA doshi jaroor hain. Par aapne unse poocha ke unke ghar me kitne bache hain.kyun hai itna rush dawai lene ke liye,ya unke aas paas jo gandgi faili hai use failaya kisne, unhi logon ne, aur agar gandagi se dukhi hain to khud milkar safai kyun nahi ki....main sach me dukhi hun ke jadd tak koi nahi ja pata... shayad aap bhi nahi...

Ashok Chandel said...
This comment has been removed by the author.
I M sweating out blood... said...

Dekha aapka karykarm..peeda hui....main rohini ,dilli main rehti hoon jo ki dilli ka ek sambhrant nahi to upper middle class hissa .kripya itni "dilliyon" main ek dilli yaha suraj park jj cluster area bhi hai....kabhi ek chakkar laga jayea..gujrat ki kuposhit ladkiyan is liye dikhte hain kyonki wo figure conscious hain....par yahan ladkiyan es liye nahi khaati kyonki shauchalaya nahi hain...ya hain to 5rs lagte hain aur ek pariwar jisme 5 bhi vaykti hain...to rs35 ho gaye...for a daily wager...ab aap soch lijiye.

I M sweating out blood... said...

Dekha aapka karykarm..peeda hui....main rohini ,dilli main rehti hoon jo ki dilli ka ek sambhrant nahi to upper middle class hissa .kripya itni "dilliyon" main ek dilli yaha suraj park jj cluster area bhi hai....kabhi ek chakkar laga jayea..gujrat ki kuposhit ladkiyan is liye dikhte hain kyonki wo figure conscious hain....par yahan ladkiyan es liye nahi khaati kyonki shauchalaya nahi hain...ya hain to 5rs lagte hain aur ek pariwar jisme 5 bhi vaykti hain...to rs35 ho gaye...for a daily wager...ab aap soch lijiye.

ankurbanarasi said...

हम तक मजदूरों का यह पहलु पहुचाने के लिए धन्यवाद। एक बात तो बिलकुल सही है कि गाने लिखे जा रहे हैं बड़े बड़े प्रचार हो रहें हैं लेकिन एक हॉस्पिटल के लिए जहाँ १० डाक्टर हो सिर्फ पांच ही हैं। गलती हमारी ही है , हमीं चुनते हैं

harsh chaudhary said...

ravish yar tum se main bas kya kahun bas ese jagah na jaya karo jo rulaye kare ,,,,,fir bhi keep it up jab koi sunega nahi to sochega kya aur kerega kya.......i love u

Gopal Girdhani said...

आज प्राइम टाइम में आपकी रिपोर्ट देखी इस संबंध में । मन भर आया । मजदूरों की रहने और अस्पतालों की हालत देखकर आज तो खाना ही नही खाया गया ।

hemant said...

बड़िया था आज का विषय।

nil said...

Nice reporting sir. Education is one and only solution of all this problems. I also work very closely with this workers in Mumbai

Aarti Raghuraman said...
This comment has been removed by the author.
Rashmi R said...

Ravishji- Today's episode was the best episode of the series.

Its really sad to see workers suffer so much. I did not even know that such India exist. Thank you for sharing their problems.

rajesh mishra said...

Sir ek jaruri jankari apke liye...ki inlogo se 35-36 hrs lagatar overtime v karaya jata hai.jo nhi karna chahate use gate se bahar nhi nikalne Diya jata.

Aarti Raghuraman said...

नमस्ते रवीशजी। मैं आरती वीरनाला, न्यू यॉर्क में डॉक्टरेट कर रही हूँ और दिसंबर, जनुअरी से मैं आपकी शो देखती आ रही हूँ।

बड़ा अच्छा लगता है कि भारत में एक ऐसा जौर्नालिस्ट है जो T.R.P रेटिंगस एवं लुट्येन ज़ोन के पीछे भटकता नहीं बल्कि जिसमे, अपनी कार्यक्रम और लेखन के ज़रिये, सच्चाई और असलियत दिखाने कि हिम्मत है। आपके पिछले 9-10 प्राइम टाइम के एपिसोड्स मुझे सबसे अच्छे लगे। एक ओर से ख़ुशी हुई कि मज़दूरों एवं पिछड़े वर्ग के लोगों कि करुण कहानी बहार निकल रही है परन्तु दूसरी ओर से इन लोगों कि हालत को देखकर मुझे बुरा लगा। कई बार प्रश्न यही उठता है कि लोग बार बार क्यों इतनी आसानी से वोट दे देते हैं ?

रवीशजी, आपके प्रोग्राम और ब्लॉग के लिए बहुत बहुत शुक्रिया और आपके N.T अवार्ड के लिया मेरी हार्दिक बधाइयाँ।

आरती वीरनाला

P.S:मैंने दसवी कक्षा के बाद हिंदी में लिखा नहीं है इसलिए मेरी भाषा को क्षमा कर दीजिए। :)

ravishndtv said...

आरती ,

शुक्रिया आपका । मैं ब्लाग पर अच्छी बुरी सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ता रहता हूँ । मज़दूरों की हालत बेहद ख़राब है । उनके कई अस्पताल तो ऐसे हैं जिन्हें देखकर यक़ीन नहीं होता । कोई नेता इनके बारे में बोलता भी नहीं । सब कारपोरेट को ख़ुश रखना चाहते

kripanath jha said...

Aap ne jo raah chuni hai vo raah aage band milegi .apna sir dhunege per kuch bhi nahi hoga, jab tak jansankhya niyantrn per koi karyakram nahi banayenge aapko kisi sawaalon ka koi jawaab nahi milega. CHEHRE PE CHEHRA

Nandan Kumar said...

Sir, Dhanyavad in achhe show ke liye. Sirf yahi nahi aur bhi bahut sare jagho par halat kharab hai. yaksh prashna yah hai ki in sab ke liye kaun jimmewar hai. Yah sun kar dukh hota hai ki hamare desh me abhi bhi mool suvidhao ki kaphi kami hai. Log mare mare phir rahe hai. lekin us waqt aur dukh hota hai jab pade likhe samajhdar log bhi kuchh paiso aur daru ki botal lekar apne prajatantrik hone ka adhikar bhi bech dete hai.Ham sab ko yah dhyan rakhna hog ki Improvement always begins with I"

Pooja Vijay said...

Gudmrngg Ravih ji..

Kal ka apka show dkhke bht acha laga ki hmre samaj mai koi toh hai jo in vishiyo pe baat krta h aur logo ko jagruk krta hai..

Chaliye kal ki baat se aage badte h aur aaj ki ek baat apko batati hu...aaj maine desh ke ek bade newspaper mai ek survey padha jisme desh k logo k liye Women Security 10th position pe hai aur delhi wale toh women security ko top 10 mai akte hi nai h..ab aap hi batau ky hoga hm jaise logo ka jab hum khud hi apne bare mai nh soch rhe hai...

Sir apse gujarish hai ki election ka ye dur khatam hone se pehle ek show is vishay par bhi kr hi dijiye..

Apke replay ka intezar rahega...:):) plzz ek bar pahdhiyega jarur..

ANITA SINGH said...

ravish ji , kal ka p.t. dekhkar dukha hua. vyavastha me kami to hai par sara dosha sarkar ka hi nahi hai. lagatar badhti aabadi bhi jimmedar hai. hamare neta is par bhi bat nahi karte. darte hai shayed. par janta ko to samjhana chahiye.

Anjan Singh said...
This comment has been removed by the author.
Anjan Singh said...

सर नमस्कार,

आपको वापस से पुराने अंदाज़ में देखना सुखद है। आपने कल मजदूरों के रहने से लेकर उनके स्वास्थ्य का जो हाल दिखाया झकझोरने वाला था। ईएसआई अस्पताल का हाल किसी भी सरकारी अस्पताल के जैसा है कोई फ़र्क़ नहीं, ये हल आप इस देश के सबसे बड़े अस्पताल AIIMS में भी देख सकते है, हर जगह एक जैसा हाल है। मैं आईटी प्रोफेशनल हूँ, एक राजनैतिक दल का सदस्य और प्रचारक भी, कल का आपका प्रोग्राम देख कर अंदर से आत्मग्लानि हुई, मैंने कभी इन विषयों पर अपने पार्टी के बड़े नेताओं से सवाल क्यूँ नहीं किया, अब पूछूंगा! खुद से एक वादा भी कि जितना सशक्त आज प्रचार कर रहा हु अगर इस सवाल का जवाब या समाधान नहीं मिला तो उतना ही सशक्त विरोध भी करूँगा। हम एक चमक दमक से भरे हुए कार्यालय में काम करते हुए कभी उन लोगों के बारे में सोचते ही नहीं जो हमारे कार्यालय पहुँचने से पहले फर्श से लेकर टेबल कुर्सी तक चमका देते है, खुद एक ऐसे कमरे में रहते हुए जहा सूरज कि रौशनी तक मयस्सर नहीं। आपने हमें सोचने को मजबूर किया है कि हम किस प्रगति कि बात कर रहे है और किस भारत को विकसित होने का सपना देख रहे है? और उस सपने में क्या हम उनको देख रहे है जिनके कंधे दिन रात बिना थके इस देश को विकसित बनाने के निर्माण कार्य में लगे हुए हैं।

CA MANOJ JAIN said...

बहुत अच्छा सर , अपेंडिक्स वाले को छुटियाँ दिलवा आये आप। जनता को बता दिया कि सेहत और राजनीति दोनों का ख्याल रखें। लेकिन कैसे रखें ???? इसका जवाब किसके पास है।

अब तो केजरीवाल भी जाति के आधार पे टिकट बाँट रहे हैं। जनता किससे उम्मीदे रखे।

Dr. Pardeep Rai said...

Ravish ji salute 2 u. ur coverage these days is nice and need of the hour. lekin aap hee ke sabdon mein kanhoo tau kuch farak nahi padne wala inn netaion par. phir bhi janta ki bhi tau kuchh jimedaree banati hai. Hai naa

neeru jain said...

good job sirji

Summersmile1975 said...

Excellent program Ravish, I really admire your courage and sensibility to do such programs and make people aware of these realities that are so evident around and we choose to ignore them. I am writing for the first time on your blog but has been reading it for a long time. What really came out of this was that despite you asking these labourers so many times that why dont you go and tell your problems to your politicians, the only answer was that we've sadid so many times but nothing has been done. In my view the problem is not that the politicians have not been listening to them but it is of their "IDENTITY" with what identity do these guys go and demand something are they labourers or are they Hindus, Muslims, Sikhs, Christians, or they are of upper caste or lower caste. When they are in Noida they become labourers and want rights for their work but when they go to their villages and vote then they identify themselves only in terms of religion or caste. This is the main reason that their voice is not heard as people who want rights as workers or labourers because politicians seem to be doing enough for each of the religions and each of the castes in their own sweet ways. These thiings will improve only if we are ready to bargain one identity for the other. Thank you so much

Mahendra Singh said...

Garib hona apneaap me ek bahut bada abhishap hai tab aur jyada jab voh satta ke liye koi mudda nahi hai . voh kewal vote dene ke samay he yaad aate hai. khule me Sauch (toilet)hamare desh me ek bahut badi problem hai. Vidya balan ji ke bolne se yeh nahi khatam hone wala . Sulabh International wale pandit ji jaise hazaro logo kee aaj jaroorat hai . Yeh area aisa hai jisme bahoot badi kranti kee jaroorat hai . Hazipur(Bihar) ke industrial area se satee colony me rahta hoon . Paswan chawk se lekar colony ke bahoot se log kisi bhi samay dabba liye industrial area ke khali padi jameen par pharig hote hue mil jayenge. Yeh problem barsaat me parakashtha par pahoonch jati hai , jab Ganga aur Gandak ka back water mahino tak ke liye bhar jata hai.

Kamal Lakhera said...

Is desh ke buddhijivi politics ke liye jaan laga dete hain apne aur sunane-dekhne walon ka dimag dahi kar dete hain aur gareebon ke vikas ka kaam tarkari yojnaon ke bharose chhod dete hain. Kisi prime time in kathit think tank ko ghaseet deejiye. Aapka har aam karyakram hamare liye khas hota hai.

मनप्रीत सिंह said...

प्यारे सर रविश जी , हम टिप्पणी तो कर देते है आपके लेखन पर } पर पता नहीं आप इन्हे पढ़ते भी हो के नहीं ?
बस आपसे इतना विन्रम अनुरोध है कृप्या आप जनता से ये जन संपर्क सोशल मीडिया के माध्यम से बंद मत करना | सर हाथ जोड़ के विनती है कृप्या हम से दूर मत होना और ये संपर्क ऐसे ही कायम रखना
आपका
मनप्रीत सिंह (हरियाणा)

afreen naaz said...

परमाणु बम बनाने और चाँद पर जाने की योजना बनाने वाले इस देश में ये है असली सच्चाई विकास की. भूखे को खाना नहीं, सर पे छत नहीं मूलभूत सुविधा नहीं. ये कैसा विकास है ?

Sudhanshu said...

अभी यही प्रसारण देख रहा हूँ। लगता है जैसे एक भारत ऐसा भी है। वे मजदूर जो इतना काम करते हैं उन्हें रहने का घर भी ठीक से उपलब्ध है।

Himanshu Singhal said...
This comment has been removed by the author.
sheelu said...

hello Ravish Sir
abhi mein South Korea me rahti hoon..
aapke recent prime time ko dekhkar aisa lagta hai ki kya kuch accha bhi ho raha hai India me ya sab avyvasthith hi hai,,,
kya Modiji ke aane se ye sab thik ho jayega???
Congress ka aana bhi ek nightmare se kam nahi hoga..





SHIVANI SRIVASTAVA said...

SIR JI every time you bring such fascinating pictures
of the society , that it gives a lot of pain and frustration as well.

Sunil Kumar said...
This comment has been removed by the author.
Sunil Kumar said...

रवीस जी आपका कार्यक्रम दिल को छु गया काश ये सच इंडिया शाइनिंग और भारत निर्माण के नारा लगाने वाले भी देख पाते ।

dusy said...

A nice change from routine chik chik on TV.....Hope apke programme ko TV ke doosre anchor bhi dekhe.....Kuch dikhana hai..to dhang ka dikhao....din bhar MODI RAGA JHAADU lagi rehti hai.....

Pulkit Gupta said...

Sacchi Aur nirbhik patrakarita karte rahiyega warna aajkal us ka to makhol banaya Jane laga hai. Apne aas-pass is samay aise kitno ko dekh raha hu, jinhone apna jivan, bacche sabse Kuch laga diye logon ki bhalai ke liye. Par news rakhi sawant ka Mumbai se chunav hai. Aap jaise 1-2 logon ko salam

Kriti Bhargav said...

Who says India is developing country , actually it's reverse development these days and speed of this is really high. Aaj se 3 saal pahle jis India ko hum chhor kar aaye the , usase bhi kahi pichhe aa chuka hai. Aap Jo baar baar ek baat Bol rahe the ki advertisement main Jo neta lagate hain .. Un becharon ko to pata bhi nahi hoga ki Jo add program ke beech main aate hain kis bharee keemat par aate hai....but we done . You deserve round of applause bcos studio se nikalkar in bastiyoon main Jana ek ek se baat karna usake dard ko samjhana ye sirf journalist nahi usake ander ka achha insaan kar raha hai.

bhavesh jha said...

सर एक समय हमने ये ज़िंदगी जी है, और दावे से कह सकता हूँ कि वो हमने चुना नहीं था. जैसा कि कुछ लोग अपने कमेंट से बता रहे हैं. गरीबी एक चक्र है, जिससे निकलना आसान नहीं होता. वो अपने साथ गंदगी लाता है, बीमारी लाता है, और इंसान को बौद्धिक और नैतिक रूप से कमजोर कर देता है. आपकी क्या बात कहैं, कार्यक्रम कि रिकॉर्डिंग मोदी जी और राहुल जी को भेज दीजियेगा, कुछ सुधर जायें शायद!!!!!!.

DrMandhata Singh said...

रवीशजी मैं भी आपका कार्यक्रम देख रहा था। मजदूरों के घर के पहले ईएसआई का हाल भी देखा। मुझे वहां आपकी यह जानने की कोशिश अच्छी लगी कि अगर समस्याएं हैं तो इस चुनाव में परेशान लोग अपने समाधान के लिए राजनैतिक स्तर पर कितने जागरूक हैं। आपने संकेत में ही सही मगर कई मजदूरों से पूछ भी लिया कि आप सभी वोट देने से पहले अपने नेता से समस्या के समाधान का आश्वासन क्यो नहीं लेते। शायद मजदूर इस तरह से सोचने के लिए प्रशिक्षत नहीं हैं तभी कईयों के पास चुप रहने के अलावा कोई चारा नहीं। रवीश जो आप चाह रहे थे वह जनता जिस दिन करने लगेगी उसी दिन सही लोकतंत्र आएगा। अभी तो भोगतंत्र बना रखा है। जबतक चुप्पी नहीं तोड़ें तबतक अंधेरे और बदबूदार जगहों में जीने को मजबर होते रहेंगे।
शुक्रिया इस बेहरीन प्रयास के लिए जिसमें रिपेर्टिंग के साथ जनता को प्रशिक्षित भी कर रहे हैं। सार्थक प्रयास है आपका।

Ashfaque Ahmed said...

Ravish jee....accha laga aap ka blog padh kar.....bahut kam reporter bachae hai bharat mai.....aap jae siva koi aur aisae reporting koi nahee karta......yaa to galomerous..sensation....ya bikiu news hee chapta....hai.....jis trarah sae yeh madroor lagae huwae hai apne kaam mai.....aap bhee lagae rahiyae.....tan man laga kar.....

मनप्रीत सिंह said...

रविश सर, अभिज्ञान प्रकाश सर ने बीजेपी कार्यलय के कार्यकर्म को कवर करते समय एक जगह पर जहाँ सभी महापुरुषो की तस्वीर लगी हुई थी वहां महापुरुषो का नाम लेते समय अम्बेडकर जी का नाम नहीं लिया ,जबकि अम्बेडकर जी की तस्वीर भी वहां थी |
वैसे माफ़ मेरी बात छोटी हो सकती है पर कृप्या उन तक संभव हो तो मेरा सन्देश अवश्य पहुंचा दे | वैसे आप भी इस कार्यकर्म की विडियो देखे कृप्या |
आपका
मनप्रीत सिंह

Ashfaque Ahmed said...

Ashok....aap kee baat sahee hai......kabhee kabhee aisae sooch bhee chezo ko badlanae ka karan hotee hai.....

rahularyansharma said...

sir

ek paksh yeh bhi h

http://www.bbc.co.uk/hindi/india/2014/04/140330_tribal_girl_election2014_vs.shtml

Vidrohi said...

मजदूरो कि हालत सभी जगह एक जैसी ही है। उम्मीद नहीं थी कि इस पहलू को भी कोई छुएगा। आपने छुआ इसके लिए तहे दिल से धन्यवाद। कभी एक दौर था जब लेफ्ट पार्टिया इस मुद्दे पे सजग रहती थी। आज भी बहुत सारे संगठन है जो संगठित छेत्र के मजदूरो कि आवाज़ उठाते है या ये कह ले कि मजदूरो के नाम पे दलाली कर रहे है। सेल , BCCL , CCL , NTPC etc में ये श्रमिक संगठन उन लोगो कि आवाज़ उठा रहे है जिनको इसकी जरूरत नहीं। उदहारण के लिए कभी सेल में लाखो मजदूर हुआ करते थे, सेल ने लाखो परिवार के जीवन अस्तर को बेहतर बनाया पर आज बोकारो इस्पात जो एशिया का सबसे बड़ा स्टील प्लांट है उसमे मात्र 17000 कर्मचारी बचें हुए है और इसमें से भी 3500 अधिकारी है। ऐसा नहीं कि इस इस्पात सयंत्र को मजदूरो कि जरूरत नहीं , आज भी 15000 से 20000 मजदूर ठेका मजदूरी कर के इस प्लांट को चला रहे है और देश कि उन्नति में अपना योगदान दे रहे है पर इसके बदले उन्हें मिलता क्या है इसका जवाब आप जानते है। बस यो समझ ले जो लोग अपने मेहनत के दम पे देश सवार रहे है उनके अपने भविष्य अँधेरे में है। कहने को यहाँ सीटू , NITUC , और ऐसे दर्जन भर यूनियन है पर ठेका मजदूर का शोषण बदस्तूर जारी है। SAIL कहती है हमारा मुनाफा बढ़ा, क्या वास्तव में sail का मुनाफा बढ़ा या ये ओ मुनाफा है जो हज़ारो मजदूरो के खून को बेच कर कमाया गया है बदले में उन्हें तिरस्कार कि रोटी और CSR ( कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी ) का झूनझूना थमा दिया गया है?

Neeraj Kumar said...

us appendix wale ladke ko dawa dilakar bahut achha kiye........... Mahan vichar hai.....

Mayank Gautam said...

Ravish, Thank you bringing such programs on television. The country should know the human cost of economic development. This is a sad outcome of the model that we chose for economic model. Unfortunately, there is no better model and we know that from experience of other countries who did this before India. China is somewhat comparable, but their labor conditions are not much better. Even though China has a political system which is supposed to provide better protection for labor. The reality of this model is – Capital is the king and labor is dispensable.

But it is not to say that flaws of economic development can’t be filled by active government role. However, not the type of government which is busy running enterprises. Rather, it’s the government that governs by effective policies and smarter regulations. A government that creates avenues to fulfill economic aspirations of its citizens. A government that ensures its citizenry education, health, equal opportunity, security, and so on. Thankfully, the list is not too long. It is doable and other countries in similar situation have do it before. I am convinced that we as a country can do it. But, what I am uncertain about is timing. With every delay in devising the right policy and implementing the existing ones, we are risking the fortunes of millions of people.

I appreciate your program which brings these issues to the mainstream. One suggestion though, if you get a chance you should end this series with studio discussion. It is good to get a field perspective, but with scores of voices during the program, it is hard to draw solid conclusions. You can end with a 4-5 minutes extempore like the one that you do in the beginning for your studio discussions. Also, you can end this series with a studio discussion with experts who can help disentangle real issues out of your recent field visits. Just a suggestion, otherwise, I like what you do.

Devendra said...

sir hamare neta karte to hai 20-30 rikshe walo ko pakar kar bhasan dete hai vo bhi railway station ke pas jisse am public paresan bhi hoti hai aur vo chunav me publicity stunt karke chale jate hai ........
vo neta kya dard samghega ek majdoor ka jis neta ke ghar ka safai karne vala kapra bhi kharida jata hai aur vo majdoor ya riksha chalan evala apna pehnane wala kapra bhi kharid n pata hai

Devendra said...

sir hamare neta karte to hai 20-30 rikshe walo ko pakar kar bhasan dete hai vo bhi railway station ke pas jisse am public paresan bhi hoti hai aur vo chunav me publicity stunt karke chale jate hai ........
vo neta kya dard samghega ek majdoor ka jis neta ke ghar ka safai karne vala kapra bhi kharida jata hai aur vo majdoor ya riksha chalan evala apna pehnane wala kapra bhi kharid n pata hai

Aarti Raghuraman said...

रवीशजी नमस्कार,
आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद। कल, उस अपेंडिक्स मरीज़ कि हालत को देखकर मेरे आँखें भर आए। अच्छा हुआ जब अंत में, आपकी बदौलत, उसको अपनी दर्दनाक परिस्थिती से थोड़ा छुटकारा मिला।

इसके दौरान, मुझे आपके B.P.L (बिलो पावर्टी लाइन ) वाली शो कि याद आई। हमारे नेता महोदय मज़दूरों, गरीबों, पिछड़े वर्ग के लोगों, माइनॉरिटीज इत्यादि को बस एक statistical नंबर के ज़रिये देखा करते हैं। इन सब श्रेणियों को अलग अलग प्रतिशत के रूप में परिभाषित किया जाता है और इस तरह कि परिभाषा में इन लोगों कि कठिनाइयां, इनके मुद्दे, इनकी परिस्थितियां सारे दब जाते हैं। नेता एक नंबर पर घंटों बात कर सकता है और जल्दी से उसके बारे में भूल भी जाता है। एक नंबर के ऊपर तो कोई मानवीयता हो नहीं सकती ना? कोई इन मज़दूरों के साथ समय बिताता तब असलियत पता चलता।

आरती वीरनाला

Yogesh Vaishnav said...

Ravish ji

I am a software professional. I want to do something for you (indirectly for our country). Allow me to contact you.

Thanks for inspiring our lives.
-Regards
Yogesh vaishnav

vinay kumar said...

मुझे लगता है चीन हमारी सरकार से अधिक आम आदमी की रोजाना की जरूरतों को जनता है.ग्रामीण इलाकों.में वहां की परिस्थितिओं के हिसाब से चीनी सामान बहुत ही सस्ते दामों पे मिल रहा है.150 रु.का chargeable LED लैंप हो या 20 रु. का सामान बांधने का पट्टा या बेहतरीन कील हो जो बीम में भी बिना टेडा हुए घुस जाता है या सिंचाई के लिए ३००० रु का पम्प . ऐसे अनगिनत सामान मिल रहे हैं. हमारी सरकार मंगल मिशन में व्यस्त है.

RAHUL KAKKAR said...

i love you sir......kal raat ko aapka noida wala episode dekha...actually main paas me vahin sector 58 me job karta hu,,bilkul relate kar gya sir sab jagah se...vo ESI dispenary...sachin chat wala...wo puri wala....
but sir ye comment maine sirf isliye kia hai...ki fan to main aapka bhot pahle se tha..par kal wala episode dekh ke aapka bhakt ho gaya....sir aap jab logo ke beech hote hai to other jouranalists ki tarah fake nahi hote hai...aapke expressions,,apki feelings.un dispensary me khade logon ke liye bilkul original dil se thi....us appendix ke operation wale bhai ka kaam jaldi karwana...ekdam bha gaya sir...aur last me jate jate line me khadi us aurat se kahna ki raajneeti ko aap log hi badlenge....too awesome sir....

b.k. Sharma said...

बरसों पहले बुद्धिनाथ मिश्र कि लिखी ये कविता कब तक सच रहेगी.आपने जो दिखाया है ये देख के तो लगता है शायद कई दशक तक.
“बिजली नहीं, पानी नहीं
केवल यहाँ सरकार है।
इस राज की सानी नहीं
केवल यहाँ सरकार है।
सदियाँ गयीं तटवास में
पैसा न कौडी पास में
धारा कभी जानी नहीं
केवल यहाँ सरकार है।
शिक्षा, चिकित्सा, न्याय भी
है अपहरण व्यवसाय भी
होती है हैरानी नहीं
केवल यहाँ सरकार है।
विश्वास की भाषा मरी
वरदान की आशा मरी
चलती है परधानी नहीं
केवल यहाँ सरकार है।“

Akhil Raj said...

इसका हल गांधीजी ने तो दिया था "सहकारिता की भावना का विकास " जिसके तहत अमीरों को अमीर नहीं होना चाहिए जब तक मजदूर अमीर न हो जाये ..मेरी समझ से भी यही उत्तम राजनीति होगी पर ,किन्तु ,परन्तु सब जारी है , सच कहूँ तो हर हाँ हर, आदमी आज अत्याचारी है ,बाकी तो आप जो कहते है सो हैये ही

प्रवीण पाण्डेय said...

जहाँ व्यवस्था का सहारा नहीं होता है, संचयन प्रारम्भ हो जाता है। यह तो महाबैटरी है।

babu garh & netaland said...

हर शहर में एक या अधिक मजदूर चौक होते हैं जहाँ रोज सुबह 9 baje तक ही मजदूर बिकते हैं.

babu garh & netaland said...

हर शहर में एक या अधिक मजदूर चौक होते हैं जहाँ रोज सुबह 9 baje तक ही मजदूर बिकते हैं.

babu garh & netaland said...

हर शहर में एक या अधिक मजदूर चौक होते हैं जहाँ रोज सुबह 9 baje तक ही मजदूर बिकते हैं.

babu garh & netaland said...

हर शहर में एक या अधिक मजदूर चौक होते हैं जहाँ रोज सुबह 9 baje तक ही मजदूर बिकते हैं.

babu garh & netaland said...

हर शहर में एक या अधिक मजदूर चौक होते हैं जहाँ रोज सुबह 9 baje तक ही मजदूर बिकते हैं.उनकी आईडेंटिटी क्या है ?

babu garh & netaland said...

हर शहर में एक या अधिक मजदूर चौक होते हैं जहाँ रोज सुबह 9 baje तक ही मजदूर बिकते हैं.उनकी आईडेंटिटी क्या है ?

babu garh & netaland said...

हर शहर में एक या अधिक मजदूर चौक होते हैं जहाँ रोज सुबह 9 baje तक ही मजदूर बिकते हैं.उनकी आईडेंटिटी क्या है ?

Abdulrahman Mohammad said...

अगर आप की जानने में दिलचस्पी हो तो मैं बता सकता हूँ कि कहाँ बीटेक और डिप्लोमा होल्डर फ़्री में और बहुत ही कम दिहाड़ी पर काम कर रहे हैं इस उम्मीद पे कि इस experience की बिना पर कहीं नौकरी मिल जाए