आओ ग्राहक आओ










7 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

वाह, चित्रावली।

ravishndtv said...

abhee bahut hai. khatam hi nahee ho rahee hai. kya karen. aur koi kaam nahee hai jivan me isliye tapaa-tap post karte rahta hun.

Rahul Singh said...

आदमपुर थाने का हौव्‍वा सिर चढ़कर बोल रहा है.

Satish Chandra Satyarthi said...

मोटरसाइकिल लगाकर गुप्त रूप से निगरानी रखें...
हाहाहा... और कोइ काम नहीं बचा है करने को...

Parul said...

aapki report kabhi hi miss hoti hai...'dhara 144' jehan mein hai..asal jindagi to vahi hai...sabse jyada touchy reporting thi..!

kaboolnama said...

रवीशजी,आपके चित्र लाजबाब होते हैं ,आपने भीतर बहुत सरे राज को छिपाए बस बोलना ही चाहते हैं ,वो सारी स्पर्श जो हम देखते तो रोज है ,लेकिन महसूस तो आप ही करते हैं

kaboolnama said...

रवीशजी,आपके चित्र लाजबाब होते हैं ,आपने भीतर बहुत सरे राज को छिपाए बस बोलना ही चाहते हैं ,वो सारी स्पर्श जो हम देखते तो रोज है ,लेकिन महसूस तो आप ही करते हैं