भागलपुर की जीप

देश के कई हिस्सों में गाड़ियों का मानवीकरण एक दिलचस्प प्रक्रिया के रूप में नज़र आती है। सभी अपने अपने हिसाब से गाड़ी को सजा कर रखते है। गाड़ियों की भीतरी सजावट को देखकर लगता है कि चलाने वाला अपनी गाड़ी को कितना प्यार करता है। इन गाड़ियों में उसका स्व झलकता है।




16 comments:

"अर्श" said...

आदाब ,
आप भी कमाल की चीजें ढूंढ़ कर लाते हो जनाब !


अर्श

sanjay jha said...

anchue pahlu pe aap apne tourch phenkte hain.....

pranam.

प्रवीण पाण्डेय said...

मानव कल्पना कहाँ नहीं है?

संतोष कुमार said...

आप को सलाम करता हूँ.

रिपोर्ट व्यक्त की अनूठी शैली.
अच्छी तस्वीरें और भाषा.

uma said...

apki reporting ka treeka bilukl aam admi ke dilo ko chu jane jaisa hai.

uma said...

2 saal pehle lahore mai maine bhut sje hui trucks dekhe kali prandiya ltki hui plastic ke flowers aur filmi abhinetriyo se sje hui sb .

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

अनूठी , रोचक रिपोर्ट ... जीवन रंग बना रहे

saurav said...

jeep selection mein thodi si chook ho gayi...nahi to aur bhi ranginiyat dikhti......
sir maza aa gaya......
ek baar ek reporting ,ye kaise kiraya wasool karte hain is par bhi likhein to marketting ka naya pehlu logo ko dikhega .....

savita kumari said...

Sir Mai V Blog Likhti hu. Please hamara v Blog padhe. aimsavita blogspot

Devendra Gehlod said...

Ravish ji aapka dhanyawad aapne apne guest column me mere blog ko jagah di. aur sach me aap apne blog par aise pics kaha se dhundh lar laate hai.

Devendra Gehlod

Atul Shrivastava said...

वाह रवीशजी, आपका तो अंदाज ही जुदा है। मजा आ गया।

शोभना चौरे said...

बढिया जी
इदौर में भी एक ऐसा रिक्शावाला है जिसने अपने रिक्शे में रेडियो टी.वि .पंखा और रोज का अख़बार पढने की भी सुविधा लगा रखी है |

mymedia said...

bhagalpur ki jeep hai . mai bhi vahi ka hu.apne yaha ki khabar ko dekh kar achha laga.

mymedia said...

bhagalpur ki jeep hai . mai bhi vahi ka hu.apne yaha ki khabar ko dekh kar achha laga.

DINESH said...

RAVISH JI REALLY AAP HAR KHABAR ME JAAN DAL DETE HAI

Sanjeet Tripathi said...

बढ़िया. अंत में जो बागी बलिया लिखा है उस से जाहिर होता है की इसका रिश्ता यूपी के बलिया से है जहाँ के रहवासी इसे बागी बलिया कहने में गर्व महसूस करते हैं