दिल्ली में दिख गई ढेंकी


कभी-कभी घूमते-घूमते ग़ज़ब का अनुभव हो जाता है। बवाना की पुनर्वास कालोनी में ढेंकी के दर्शन हो गए। दिल्ली में ढेंकी के दर्शन हो जायेंगे कभी सोचा नहीं था। कुछ महीने पहले चंद्रभान प्रसाद कह रहे थे कि गांवों से जांता और ढेंकी ग़ायब हो चुके हैं। जांता पर गेहूं और चना पीसा जाता था। बल्कि पीसने की जगह दरने का इस्तमाल होता था। ढेंकी से धान की कूटाई होती थी। धीरे-धीरे। वक्त लंबा होता था तो औरतों ने ढेंकी कुटने के वक्त का संगीत भी रच डाला था। मेरी चचेरी बहन,फुआ और बड़ी मां को खूब गाते देखा है। हम भी जब उधर से गुज़रे तो दस पांच बार ढेंकी चला लिया करते थे। ढेंकी से निकलती चरचराहट की आवाज़ गांव घरों में दोपहर के वक्त के सन्नाटे को अपने तरीके से चीरा करती थी।

हालांकि ढेंकी और जाता पूरी तरह से ग़ायब नहीं हुए हैं मगर गांवों में कम दिखने लगे हैं। मशीन की कूटाई-पिसाई ने न जाने कितने सैंकड़ों साल पुरानी इस तकनीक को ग़ायब कर दिया। ग़नीमत है समाप्त नहीं हो पाई ढेंकी। हम सोचते रहे कि दिल्ली जैसे महानगर में ढेंकी जाता का बात कौन करेगा। मगर महानगर में ढेंकी को देखकर ऐसे लगा जैसे बवाना में डायनासोर देख लिया या फिर अजगर निकल कर किसी के बिस्तरे पर आ गया हो। हैरानी। तीन चार लड़कियां उसी मस्त अंदाज़ में झूमते हुए चावल कूट रही थीं।

अब यही से विश्लेषण सामाजिक टाइप होने लगता है। कई संस्कृतियों वाली पुनर्वास कालोनी में एक पुरानी तकनीक का जगह बनाना। कूटने वाली महिलाएं बांग्ला बोल रही थीं। कूट रही थीं चावल। धान नहीं। महिला ने बताया कि पचास किलो चावल पीसने में तीन घंटे लग जाते हैं। पीसे हुए चावल से वो बस्ती में इडली डोसा बेचती है। हद हो गई। कॉकटेल की। बंगाली औरतें,उत्तर भारतीय ढेंकी और कूटाई-पिसाई दक्षिण भारतीय व्यंजन के लिए। बंगाल में भी ढेंकी का इस्तमाल होता रहा है। बांग्ला में इसका कुछ नाम था जो मैं लिखते वक्त भूल गया। क्या पता यह टेक्नॉलजी पूरे भारत में ही हो। बल्कि होगी ही। बहुत आनंद आया इस ढेंकी को देखकर।

29 comments:

शोभना चौरे said...

अब तो लगता है गाँव की बहुत सी पुरानी जो गाँव की आवश्यकता थी वे चीजे शहर में ही मिलेगी |भले ही गाँव में घंटो बिजली न रहती हो वे चक्की में गेंहू नहीं पिसेंगे चांवल खा लेंगे यानि की जो श्रम
वहांकी पहचान हुआ करता था अब वो सब शहर आ गये है नये ढंग से अपने को स्थापित करने |
जो एकता सरकार नहीं कायम कर पाई वो एक ढेंकी ने कर दिखाया |
बहुत अच्छा लगा ढेंकी और इडली सोसे का मिश्रण |
आभार

शोभना चौरे said...

कृपया सोसे को डोसे पढ़े \

रंजन said...

गाँव याद आ गया ..रवीश भाई :))

Satish Chandra Satyarthi said...

ओहो.. क्या चीज ढूँढ के लाये आप.. :)
हमें तो ठीक से याद भी नहीं.. बहुत छोटे थे तब घर में ढेंकी हुआ करती थी.. जांता अब भी है..
मजेदार बात यह है कि जांता जैसी मामूली चीज भी हर घर में नहीं होती... पड़ोस की औरतें अग्रिम आरक्षण कराके जांता पर अनाज वगैरह दरने आती हैं.. और दोपहर समय घर की महिलाओं का भी गप-शप में मनोरंजन हो जाता है.. गप-शप के लिए कोइ उपलब्ध न रहने पर जांता दरने वाली महिलाएं गीत गाना शुरू कर देती हैं :)

FAKKAD said...

sahi kaha ravish ji thode din baad to lagega ki sheher se sheher bhi gayab ho jaenge. aapse ek request hai please delhi ke khatm hote cofee house or restaurant culture pe bhi ek report kijie aapak aabhar rahega

Arunesh c dave said...
This comment has been removed by the author.
Arunesh c dave said...

जो मजा इसके पीसे आटे की रोटी मे है वो कैप्टन कुक का ताऊ भी नही दे सकता

सतीश पंचम said...

बढ़िया लगा जान कर। मस्त।

sadhana said...

गाँव याद आ गया ..रवीश जी ...मेरे ननिहाल में ढेंकी थी ,पर पता नहीं अब है भी या नहीं २० साल पहले देखी थी ..!!!

vibidha said...

रवीश जी आपकी एक रिपोर्ट बाबा रामदेव द्वारा चलाये जा रहे भारत स्वाभिमान यात्रा पर भी होनी चाहिये जो स्वतंत्र भारत के इतिहास में तथा गॉधीजी के बाद इतना बड़ा ऑदोलन भ्रष्टाचार ओर भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कर रहे हैं तथा ये स्वर्ग तथा सेक्स परोसने वाले खबरिया चेनलों के पास इतना वक्त भी नहीं है कि उनकी यात्रा की एक झलक भी दिखाते धिक्कार है ऐसे मीडिया पर। पर आपसे आशा है कि आप अवश्य इस तरफ ध्यान देंगे।

संतोष कुमार said...

Ravish Jee Namaskar,
Dheki ka jikr mere ek bihari dost karte hai, halaki me jharkhand ka hon par us samay tak Dheki se parichay nahi tha, woh Kehte "Santosh jee, kabhi (Dheki Kutal Chawal Khaye hai?) Sabdh aache lagte par swad nahi patta tha , phir mere shadi giridih me hoi aur aap ko bataoo mere Sasural me Dheki hai tab jakar us chawal ka swad mila , jhor wale murge ke sath chawal ka chilka .... swad aparampar kabhi ranchi taraf aana hua aapka tu jaroor aapko bhi taste karonga...

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

सच बड़ा अच्छा लगता है जब कुछ गाँव की यादें सामने आती हैं....

राकेश said...

ढेंकी हम भी चलाए हैं अपनी दादी के साथ खूब. एक बार चाउर छांटते वक्‍त उसकाते हुए मेरी इया (दादी को हम सब भाई बहन इया ही कहा करते थे) की एक उंगली कट गयी थी जिसे बाद में पूरी तरह काटना पड़ा था. रवीश जी आपका तजुर्बा मुझे अपनी इया याद दिया गया जो लगभग याद्दाश्‍त से बाहर हो चुकी थीं. आपका शुक्रिया.

GUROOJI said...

गांव और कसबों से शहर के मुहल्लों तक का सफ़र आम आदमी ने शौकिया कम और मजबूरी से अधिक किया है. देंकी , मौनी , सिकहवली जैसी ज़रूरत के देसी सामान भी गली कूचों मे कभी कभार दिखाई दे जाते हैं . वैसे शहरी अमीरों के लिए ये सजावट का सामान या 'एंटिक' है. राजनीति के किसी महान व्यक्ति की नज़र इस पर इनायत हुई तो शायद यही 'कुटनी' उसका चुनाव चिन्ह बन जाए यह कहना आतिशयोक्ति न होगी.

JC said...

हमने ढेकी पहली बार (अस्सी के दशक में) असम में देखी थी एक गाँव में, और दूसरी बार उसकी केवल तस्वीर, अब!

प्रवीण पाण्डेय said...

चलिये, हमें भी दर्शन हो गये।

गिरधारी खंकरियाल said...

वहुविध भारत के एक रूप दर्शन

kumar said...

बचपन में गाँव में हमलोग ढेका (हमारे आरा के साइड उसको ढेका ही बोलते हैं) पर चढ़ने के लिए आपस में खूब लड़ते थे. आज की पीढ़ी को तो पता भी नहीं है की ऐसा भी कुछ होता था उन दिनों. एक बार मैं अपने भतीजे को बता रहा था की एक ढेका होता है जिसको एक साइड से पैर से दबाने से वो दूसरी साइड से ऊपर उठ जाता है .. तो उसने बोला की हाँ डस्टबिन भी ऐसा ही होता है :)

Rishi said...

sach me nahi pata ye 'dhenki' kis chidiya ka naam hai...haan 'jata' jaroor dekha bhi hai aur aap hi ki tarah bachpan me paas se gujarte hue,do-chaar round chala deta tha.

Chandan Kumar said...

muje aaj bhe yaad hai jab main chota tha tab hamari nani ke ghar me bhe ek dekhe the.. shayad aaj bhe ho but bahut dino se gaya na..
aur humlog us pe chahad ke khelte the,, aur bahut daant padte the.. ke chot lag jaayege.
.
.
anyways bahut achcha laga padh ke

brajmohan said...

क्या बात है रवीश जी, मैंने तो केवल ढेंकी का नाम ही सुना था. आज देख भी लिया :)

DR NIRANJAN KUMAR SINGH said...

anewali pidhi sirf kitabon men dhenki ke bare men padhegi.apki report padhkar meri bhi yad taja ho gai.ek ajib tarah ka sangeet nikalta tha dhenki chalte waqt.hamare bihar men chura bhi dhenki men hi kuta jata tha.dhenki aur janta chlakar mahilayen svasth bhi rahti thi.

Shuchita Vatsal said...

Sir, You write so well...Simple tools & effective work culture..This is what real India is..A blend of cultures in day to day life..A real secular way of life..Keep writing and introducing us back to, our own year old cultural heritage, which still mingles with today's world!

RAJWANT SINGH said...

DEAR RAVISH I HAVE NOTICED YOU ONLY DO SADISTIC, OR NOSTALGIC TYPE OF REPORTING ESPECIALY IN RAVISH KE REPORT, INDIA IS A EVOLVING COUNTRY, KINDLY SHOW GOOD WORK PEOPLE IS DOING FOR SOCIETY. BEING A EXECUTIVE DIRECTOR OF NDTV YOU HAVE GREAT RESPONSIBILITY.KINDLY SHOW SOMETHING WHICH SHOULD MOTIVATE PEOPLE. LOT OF YOUNG PEOPLE WATCH YOUR SHOW. AND FOR GOD SAKE CHANGE YOUR GUESTS IN PRIME TIME , I AM TIRED OF SEEING SAME FACES DAILY AND LISTENING THEIR COSERVATIVE STYLE OF RESPONDING , ESPECIALY MR JAVEDEKAR OF BJP AND OTHER FROM CONGRES I ,

SRV said...

I have not seen The Mahatma...but i have seen YOU SIR ANNA ..today I am fortunate enough to be a part of ur Satyagrah ....Anna your name indicates the true fact that you are not One but Thousands (Hazare)....my heart beats for my country and now I want to see it aa a corruption FREE INDIA....United we stands for U and our beloved country...Jai Hind!!!!!

Nazir said...

ye to app hai sir jo kahi say bhi report nikal laatay hai , i m really very happy to see ur report yesterday 19/12/2011 , which is related with muslim reservation quota in u.p ,,,,,,,,,,,,

thnx sir
this is nazir reporting from patna like U ( i hope so )

Nazir said...

no any channel is like NDTV
BECAUSE some body says "NDTV NEWS IS A WORLD MIROR"


ravish sir u r great can i meet in delhi , plz

nazir anwer
b.com part 2
magadh university,
patna , ( bihar ) 9334976747

Ravinder Pandey said...

ravish bai is it possible can i come in debate

Shivangi Thakur said...

gaon ki yaad aa gai...