देवा ने कल ज़िंदगी बख्श दी

मैं देवा हूं। यहां का देवा। चल कैमरा दे। टेप निकाल। ऐ आकर घेरे इनको। बाहर मत जाने देना। किससे पूछ कर अंदर आए। किसलिए शूट कर रहे हो। चल निकाल टेप और कैमरा दे। यहां से अब तू बाहर नहीं जाएगा। तू जानता नहीं मैं कौन हूं। मैं देवा हूं। मैंने बसाया है इनलोगों को। उजाड़ा नहीं है किसी। जाकर बाहर बोल देना कि देवा ने कैमरा ले लिया।

लंबे कद का लोकल गुंडा। दोनों हथेलियां मरहम पट्टियों से ढंकी थीं। लगा कि पिछली रात उस्तरेबाज़ी में दोनों हाथ ज़ख़्मी हुए हैं। मैंने बोला कि इसमे चिप है,टेप नहीं है। आपके किसी काम का नहीं है। आप एक बार चला कर देख लो। कई लोगों ने मुझे घेर लिया था। देवा बार-बार बोल रहा था कि इनको बाहर मत जाने देना। मीडिया और सरकार ने नहीं मैंने तुम लोगों को बसाया है। लोग भी हां में हां मिला रहे थे। आखिर देवा मान गया। मैंने कैमरे का चिप रिवाइंड कर दिया। अब टेप का इस्तमाल कम होता है। चिप पर रिकार्डिंग होती है।

देवा ने हेडफोन पहन लिया। ध्यान से सुना। मैं बोल रहा था कि क्या हम कभी शहरी ग़रीबों की रहने की जगह को कानून-ग़ैर कानूनी दायरे से निकल कर मानवीय या अमानवीय संदर्भों में देखने की कोशिश करेंगे? इनके पास शौच के लिए जगह नहीं है। दो किमी से पानी भर कर लाते हैं। घर तक पहुंचने के रास्ते नहीं हैं। यह सुनकर देवा की आंखें चमक गईं बोला तू अच्छा इंसान मालूम होता है। बढ़िया पत्रकार है। चल इसे कैमरा दे दे। ये हमारी बात कर रहा है। इसको चाय पिला। फिर मुझे अपने कमरे में ले जाने लगा। बोला आओ कभी ग़रीबों के साथ चाय पी लो। मेरा नंबर ले जाओ। जो दिखाना है,दिखाओ। तुम्हारे इस कैमरे से देवा का कुछ नहीं बिगड़ेगा। बच गए तुम। हम लौट आए। देवा किसी बी टाइप फिल्म के दादा की तरह सबको बाय बोलकर अपने कमरे की तरफ चला गया। हमने चाय नहीं पी। मेरा नंबर ले लिया। अपना भी दे दिया।

फ़रीदाबाद के खोरी गांव में शूट कर रहा था। धीरे-धीरे अरावली के चट्टानों के नीचे मकानों की तरफ बढ़ गया। बिना सड़क की बस्ती थी। काफी अंदर चला गया। पीछे-पीछे लोग चले आ रहे थे। मना कर रहा था कि पीछे न आएं। रहने की मजबूरी आदमी को कहां-कहां ले जाकर बसा दे रही है। जिसके लिए आज भी देवा टाइप लोग पैदा हो रहे हैं। एक किस्म को अघोषित टैक्स दे रहे हैं ये लोग। गुंडों को। यहां तक कि वोटर आई कार्ड के नाम पर भी पैसे वसूल हो जाते हैं। डराया जाता है कि यह नहीं बनेगा तो झुग्गी परमानेंट नहीं होगी। दिल्ली साइड आया तो पता चला कि डीडीए और पुलिस मिलकर हर झुग्गी से दस-दस हज़ार रुपये वसूलते हैं। लोगों ने कहा कि हम यह झुग्गी खरींदें तो भी इन्हें इतने पैसे देने पड़ते हैं वर्ना ये आकर लैट्रिन तोड़ देते हैं और नया लैट्रिन का रेट ही दस हज़ार है। तभी हम अपने घरों में लैट्रिन बनवा सकते हैं। वर्ना जाइये खुले में। इनको कोई फर्क नहीं पड़ता है जी। डीडीए में भी देवा हैं। पुलिस में भी देवा है। मीडिया में भी देवा हैं। फंस जाते हैं कुछ हम जैसे फटीचर पत्रकार जिन्हें हर तरह के मानकों पर कस कर गरिया जाता रहता है।

24 comments:

सतीश पंचम said...

अपनी शौकिया फोटोग्राफी के चलते इस तरह की अजीबोगरीब स्थिति में मैं भी कई बार मुंबई में फंस चुका हूँ :)

एक बार तो मुझे पत्रकार समझ एक शख्स एकदम से चढ़ आया था - तुम लोग काएका फोटो खिचता है....क्या करेगा दिखा कर....क्यो होएंगा.....दिखा रहा है तो इसको भी दिखाओ....उसको भी दिखाओ। बहुत अलग अलग तरह के expectations होते हैं लोगों के।

एक बार बहुत ज्यादा बारिश के चलते पेड़ गिर गये थे और मैं दादर में फोटो शूट कर रहा था कि एक बंदा पास आकर बोला ये गिरेला पेड़ का फोटो खिच के क्या करेगा, पेपर में देगा ?

इसका फोटो मत खिचो, हम सोसायटी वाले इसको रस्सी बिस्सी से खड़ा करने जा रहे हैं। इसका फोटो पेपर में आएगा तो बीएमसी वाले इधर वृक्ष छाटणी वाले को भेज देगा औऱ वो लोग इसको काट डालेगा। हमको पेड़ नहीं कटने देने का है।

देवा जैसे लोग हर जगह मिलेंगे.....सहमत।

HARSH BAJAJ said...

Dear Ravish Sir................U r really brave!

Tushar Mangl said...

sahi kaha

प्रवीण पाण्डेय said...

कभी कभी बोले गये शब्द संकट मोचक बन आ जाते हैं।

Rahul Singh said...

घुमक्‍कड़ी के साथ ऐसा होने की संभावना बनी रहती है.

sanjay said...

देवा ने कल ज़िंदगी बख्श दी!
हा.. हा.. हा..
अजब हालात पर गज़ब टाईटिल।
सवजी चौधरी,अहमदाबाद-९९९८० ४३२३८.

MANOJ KUMAR said...

क्यों रवीश भैया,
देवा का फोटो नहीं लिया क्या?
बड़ी रोचक बातें की उसने!
फिल्मों में ऐसे लोग तो हीरो होते है.

गिरधारी खंकरियाल said...

मीडियाकर्मी के साथ ऐसा होना कोई अभूतपूर्व नहीं है यही तो उनकी निष्ठां का परिचायक है

विनीत कुमार said...

इ झुग्गी का लोकल गुंडा देवा था कि बच गए आप। नहीं तो लुटियन जोनवाला होता तो सटका ही देता।.

anoop joshi said...

sir abhi to aap ne mazak me likh diya par us samay dar to laga hoga........????????

Harsh said...

ravish ji se takrane wala deva kaun hai? uska photo to daliye sir.... jara hum bhi dekh lein?deva jaise log aaj hamare samaj me har field me baithe hai....
ravish ji k jajbe ko salam............... media k devao k bare me aap jaise log hi likhne ka sahas kar sakte hai

डॉ टी एस दराल said...

बहुत रोमांचक अनुभव रहा यह भी ।
शुक्र है सब ठीक रहा ।
इसे ही कहते हैं प्रोफेशनल हज़र्ड्स ।

आलोकिता said...

Achi prastuti

Jai Prakash Pathak said...

नमस्कार!
भारत में भ्रष्टाचार की अच्छी तस्वीर है. पूरे भारत में इस प्रकार कितने पैसे बनते हैं कोई नहीं जानता.

Parul said...

:)

Santosh - House of Knowledge said...

Ravish Jee,
Aapne Deva ka charit chitran bahut rochak dhag se kiya hai, Aap Nidar patrakar hai, ek dum Sehwag ki tarah .

बगुला भगत said...

संभलकर भाई, जान है तो जहान है। जान रही तो
रवीश की रिपोर्ट रोज जाती रहेगी।

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

देवा और उसका दर्द .... पूरे देश में फैले हैं....

anil yadav said...

अच्छा है कोई देवी नहीं मिली....

दीप्ति शर्मा said...

bahut khub
...

vibidha said...

रवीश जी ये लोकल टाईप के देवा कम से कम गरीब जनता को पैसे लेकर सर छुपाने के लिऐ छप्पर तथा अश्रय तो दे ही रहे है किंतु जो देवा लोकतंत्र की बड़ी कुर्सियों पर धाक जमाये बैठे है उन्होंने इस देश को लूट कर भी लोकल देवाओं की तरह कोई सुविधा इस देश की प्रजा को उपलब्ध नही ंकरायी है जबकि रोटी कपड़ा मकान सड़क स्वास्थय सुरक्षा बिजली पानी सड़क उपलब्ध कराने के बडे़ बड़े वायदे इन देवाओं द्वारा पिछले साठ सालों से किये जा रहे है इससे अच्छे तो ये लाकल देवा है कम से कम वायदे तो पूरे कर रहे है।

प्रमोद भारतीय said...

Dear Ravish bhai apki ptkarita ko salam...........
deva jaise log hamare hi nhai hai jo shayad samay ke anusar chal rahe hai..........
wo sochate hain jab desh ka raja aam janta ka koon pee sakta hai vo bhi unhe bina kuch diye to main kyo nahi.........
ye deva jese bhai koi maa ke pet se to nahi janmte...........
inhe kallu se kaliya banaya jata hai............thanx fo great post..............9315888825
sir please manna mat karna ek baar jarur...............

MUKESH said...

bahut hi badhiya ravish ji, plz keep it up

Shuchita Vatsal said...

Well presented..Sir agar aap apne aap ko "Fateacher Patrkaar" kahte hain toh shayaad aaj desh ki media ko aap jaise Fateacher patrakaron ki hi zaroorat hai.. Keep writing and exposing the social wounds,Regards.