टीवी पर युद्ध

युद्ध चाहिए 
एस एम एस कीजिए 
बम गिराना है 
एस एम एस कीजिए 
रक्त चाहिए
एस एम एस कीजिये 
सबक़ सीखाना है 
एस एम एस कीजिये 
क़ुर्बानी गाइये 
एस एम एस कीजिये 
शहीद शहीद 
एस एम एस कीजिये  
बयान बयान 
एस एम एस कीजिये 
जवाब जवाब
एस एम एस कीजिये 
पाकिस्तान चाहिए
एस एम एस कीजिये 
सख़्त क़दम के लिए
एस एम एस कीजिये 
नकारा भारत
एस एम एस कीजिये 
चीन से डरता भारत
एस एम एस कीजिये 
एक अरब के भारत में 
दो लाख लोगों ने किया है 
उस एंकर को एस एम एस 
जो पूछता है जनमत से 
कि पक्ष में हों युद्ध के
फ़ेसबुक ट्विटर पर चीख़ते 
कुछ लोगों को देख 
ट्विटर पर कुछ फ़ालतू राष्ट्रवादी 
युद्ध माँगते हैं 
कुछ फ़ालतू राष्ट्रवादी नेता 
पुरुषार्थ जगाते हैं 
एक ट्विट से जंग मचाते हैं 
ले बदला 
दे बदला 
चिल्लाते हैं 
रिमोट बदल बदल 
इस चैनल से उस चैनल 
आते जाते रहते हैं 
टीवी पर युद्ध खोजते हैं 
शहीदों के लिए रोते धोते 
अपना इंवेस्टमेंट प्लान करते हैं 
एंकर लफंदर होता है
और
लफंदर हमेशा युद्ध चाहता है 
लड़ने के लिए नहीं 
उकसाने के लिए 
आप लफंदर हो जाइये 
टीवी के सामने बैठे बैठे
एंकर हो जाइये 
राष्ट्रवाद के पालतू बंदर
राजधानी के फ़ालतू बंदर
सब बन जायें टीवी एंकर
फिर कीजिये एस एम एस 
हमें युद्ध चाहिए 




24 comments:

suchak patel said...

we have forex reserve for only 6 months...how can we afford war ? &

If have a time than read : Indo-pak relations : decoded

http://suchak-indian.blogspot.in/2013/08/indo-pak-relations-decoded.html

Aspect of relations !

sahbaz sufi said...

Sahi kaha sir apne kuch tv show mai to india pakistan war ke
dono desh ki senik skti or topo ki number bhi ginane lage hai
sb TRP ka khel hai desh ki aam janta ki bhavna se khal rahe h

Kaushal Lal said...
This comment has been removed by the author.
प्रवीण पाण्डेय said...

लट कट जीवन जीवामि,
युद्धं शरणं गच्छामि।

Pratap said...

prime time dekha tha, jo baat navaz shareef ko karni thi vo hamare kuch log pakistan ki himayat me kah rahe the.
logo ne kaha ki pak sena pr unki sarkar ka control nahi, to iska khamiyaza bharatiya sena kyu bhugate?
ye sahi he ki yudh hi ekmatr vikalp nahi lekin jis tarah israel apne sainiko ki hatya pr akramak rukh dikhata he vo to kee jae, punch ke us ilake se lagi pakistani chowki pr to akramak karyvahi karni chahiye thi.

आशुतोष कुमार पाण्डेय said...

भारत को युद्ध करने की जरुरत नहीं है पर सबक तो सिखाना ही होगा, नहीं तो फिर आज के युवा अपने फ़ौज में शामिल होना ही छोड़ देंगे। कौन शामिल होगा जब उसके पराक्रम का गला अपने नेता ही काट दे रहे हैं।

seema singh said...

Suru karo bahs bahs lay kar prbhu ka nam samy bitanay kay liy karna hai kuch kam

rajkumar jha said...

Madhya pradesh ke ek gaon me swasthy par ek film kar raha tha. Bheed se ek ladka aaya aur poocha, aap NDTV se hain kya? meine kaha "Nahin". Kuch der baad bola aap ravish ji ko jaaante hain? meiene kaha haan..kyon?
unko patrkarita ke liye puruskaar mila hai...mein bhi unke jaisa banna chahta hun. Meri aankhein nam ho gayeein, yahi sachha puruskaar hai..aap ko dheron badhai aur shubhkamana- rajkumar jha

rajkumar jha said...

Madhya pradesh ke ek gaon me swasthy par ek film kar raha tha. Bheed se ek ladka aaya aur poocha, aap NDTV se hain kya? meine kaha "Nahin". Kuch der baad bola aap ravish ji ko jaaante hain? meiene kaha haan..kyon?
unko patrkarita ke liye puruskaar mila hai...mein bhi unke jaisa banna chahta hun. Meri aankhein nam ho gayeein, yahi sachha puruskaar hai..aap ko dheron badhai aur shubhkamana- rajkumar jha

shruti said...

Samanya insan aise hi sochte hai. Dinbhar ki bhagadodi k bad ghar aane par pata chale ki sarhad par sainik mare gaye to pakistan par gussa aana aam hai

shruti said...

Samanya insan aise hi sochte hai. Dinbhar ki bhagadodi k bad ghar aane par pata chale ki sarhad par sainik mare gaye to pakistan par gussa aana aam hai

Shikha simlply special said...

vese bhi sir UPA govt. ne anginat scams ke jariye jis tarah apne desh ko khokhla kiya hua he, sb jg jahir he, kisi bhi desh se war ..... NO NO NO soch ke hi dar lagat he, vese jyada fark nhi padega, sdiyon se gulami ki aadat jo pdi hui he, Angrej nhi to UPA shi, UPA nhi to chin ya Pak sena shi..... :'(

Sushil Kumar Tomar said...

sab superhit ke chakkar mein lage hai..bayan bhi 3 din waali 100 crore ki filmo jaise ho agye hai..aate hai jaate hai..aahat na ho!

ankur kate said...

humrhe priya rajneta jab desh aur deshwasiyo ki suraksha se aanch hai to sab aapas mai ladte hai lekin jab parliament pe aanch aati hai to sab ek ho jate hai

ankur kate said...

humrhe priya rajneta jab desh aur deshwasiyo ki suraksha se aanch hai to sab aapas mai ladte hai lekin jab parliament pe aanch aati hai to sab ek ho jate hai

दिनेशराय द्विवेदी said...

दुनिया का बँटवारा चाहिए
पूंजी को युद्ध चाहिए।

Sikander Alam said...

Wah sir, kya likha hai aapne.

sunil said...

बम घरों पर गिरें कि सरहद पर
रूहे-तामीर ज़ख़्म खाती है
खेत अपने जलें या औरों के
ज़ीस्त फ़ाक़ों से तिलमिलाती है

टैंक आगे बढें कि पीछे हटें
कोख धरती की बाँझ होती है
फ़तह का जश्न हो कि हार का सोग
जिंदगी मय्यतों पे रोती है

इसलिए ऐ शरीफ इंसानो
जंग टलती रहे तो बेहतर है
आप और हम सभी के आँगन में
शमा जलती रहे तो बेहतर है।

sunil said...
This comment has been removed by the author.
अभिषेक मिश्र said...

सटीक वर्णन है...

Jayprakash Mishra said...

उन लाफंदारों को कोई संचालित भी करता है क्या?

Unknown said...

badhiya

Shivam S said...

ममेरे भाई के लिये तो बहुत परेशान होते हो ..देश के सैनिक मरते ही तो उनके लिये भी थोडा परेशान होइये .. लोगोकी भावनाये समझा करो ...कोई नही कहता है के जाके परमाणु बाम गिरावो..लेकिन जब आपके सैनिकोके सर कटके ले जाये और उसके बाद और मारे और मारतेही रहे तो कुछ तो मर्दानगी दिखावो .. आप जैसे गांधीजीके बंदर से तो अच्छे हि है फालतू राष्ट्रवादी बंदर .. वैसे आपके घर का कोई है फौज मे या कोई मरा है बोर्डर कि रक्षा करते हुये ...?

nptHeer said...

युद्ध के लीए मेरा एक confusion है।
रविशजी,युद्ध तो वहाँ होता है न जहाँ कोई frontal line ho?

i mean--आपके ही शो मैं कोई जैसवाल करके बता रहे थे--बकरी army :) तो कोई भेद रेखा भारत-पाकिस्तान क्या दुनिया की किसी भी दो फौजों मैं भी आप को दिखती है क्या?

see--markets,education,food,clothes, banking,technology, transportation, tourism सब तो सभी का एक जैसा ही तो है। फिर युद्ध हो कौन से base पर रहे है?:-\