पिंजर की यह ग़ज़ल

हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छूटा करते
वक़्त की शाख से लम्हे नहीं टूटा करते 
हाथ छूटे भी तो रिश्ते छूटा नहीं करते 
छूट गए यार न छूटी यारी मौला -४
जिसने पैरों के निशान भी नहीं छोड़े पीछे 
उस मुसाफ़िर का पता भी नहीं पूछा करते 
हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छूटा करते 
छूट गए यार न छूटी यार मौला -४
तूने आवाज़ नहीं दी कभी मुड़कर वर्ना -२
हम कई सदियाँ तुझे घूम के देखा करते 
हाथ छूटे भी तो रिश्ते छूटा नहीं करते 
छूट गए यार न छूटी यारी मौला-४ 
बह रही है तेरी जानिब ही ज़मीं पैरों की 
थक गए दौड़ते दरियाओं का पीछा करते 
हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छूटा करते 

जगजीत सिंह की आवाज़ मुझे कहाँ लिये जा रही है । रात के बचे वक्त के इस किनारे जगा रही है । 

11 comments:

sachin said...

"बह रही है तेरी जानिब ही ज़मीं पैरों की" … वाह ! इसके प्राइवेट एल्बम वाले वर्शन की ये लाइन याद गई -
"लग के साहिल से जो बहता है उसे बहने दो,
ऐसे दरिया का कभी रुख़ नहीं मोड़ा करते"।

("हम कई सदियाँ तुझे घूम के देखा करते" वाली लाइन के बाद वाली लाइन में "… छूटा नहीं करते" को "…नहीं छूटा करते" कर लीजिएगा )

S. M. Rana said...
This comment has been removed by the author.
S. M. Rana said...
This comment has been removed by the author.
S. M. Rana said...

Hairaan is baat se hoon ki
Jagjit ki thaki ghisat-ti awaaz
Aisi sundar shairee ko janam de sakti hai!

Amit Jha said...

MAST GHAZAL KI YAAD DILA DI SIR AAPNE...THANKS

Awadhesh kumar Jha said...

JI RAVISH BHAI,

KABHI BAT HO IS TARAH BHI TO ACHA LAGTA HAI, DOOR HAIN DIL SE BAHUT PHIR BHI SAB APNA LAGTA HAI...

Awadhesh kumar Jha said...

JI RAVISH BHAI,

KABHI BAT HO IS TARAH BHI TO ACHA LAGTA HAI, DOOR HAIN DIL SE BAHUT PHIR BHI SAB APNA LAGTA HAI...

Arvind said...

aahaaaa . . .

प्रवीण पाण्डेय said...

कोई बाँधे रहता मन में,
मन से मन की डोर।

seema singh said...

Jagjit singh gzal ki duniya kay icon jinhonay gazl say hamara prichy karaya unkay sabhi colliction bahtrin hai khas kar mirza galib

USB said...

shayad ye suna hoga gaano me kai baar, par lyrics ko mahsoos nhi kiya itna. Jab aapne likha to arth samajha jyada.
Kahne ka matlab ye ki aaj kal ke gaano me achhi lyrics ki ummid itni khatam ho gayi hai ki, achhe gane bhi nazar andaaz ho jaate hai.