हनुमान, ज़मानत और सलामत

ऐ हनुमान राम के घर मेरी ज़मानत रखना
मेरी ज़िंदगी, मेरी मन्जू को सलामत रखना
( दिल्ली के मूलचंद फ्लाईओवर के नीचे एक हरे रंग के ऑटो के पीछे ये लिखा था।)

9 comments:

रौशन said...

आमीन !
उस ऑटो पर यह लिखवाने वाले की दुआ कबूल करना हनुमान जी

Arvind Mishra said...

Jay Hanuman !

आदर्श राठौर said...

जय हो...
एक और रोचक पंक्ति याद आ गई जिसे ट्रक के पीछे पढ़ा था
बुरी नज़र वाले, तू विदेश चला जा

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

इन दिनों हनुमान जी पर बहुत वर्कलोड है, कैसे पूरा करते होंगे वे सब का काम?

मधुकर राजपूत said...

एक ज़ुमला हमने भी पढ़ा था। एक जुगाड़ु पर एक साइड लिखा था हाय अल्ला इतना लंबा जुगाड़! और दूसरी तरफ लिखा था आ बैठ मेरे जुगाड़ पे।

jamshed said...

Aap sabhi bhai mujhe Bhagwan( Eeshwar) ki paribhasha bataden agar aap ko aati hai to....Dhanywad

JC said...

Shri Jamshedji, 'Ishwar' shabd 'nashwar' ka ulta hai - yani jo anant ya sthayi hai, samaya ke saath nahin badlta...Aur hum aur aap jaise sab asankhya prani asthayi hain jo roz bachhe/ ande se shuru ker badalte badalte ek din zameen ke saath mil jate hain - khak ban ker ya uske neeche kabra mein khak hone ke liye samaya ke saath...peechhe chhord auron ko rone ke liye jinke hum karibi hua karte the kabhi...

Ise 'kaal-chakra' ka hissa maana gaya hai jo 'Ishwar' chala rahe hain, shayad kisi majboori ke karan...jo her neta aur her janata ke madhyam se bhi shayad jhalkta hai, vibhinna karanon se...aur Hanuman jaise niswarth sewak hi kuchh madad ker sakte hain - aisa kuchh ka vishwas hai: Mano ya na mano, ya kisi aur ko man lo jo aapko pasand ho...Dukandar bhi kehta hai 'Babuji lena hai to lo...(varna jao - meri dukandari kharab mat karo!)...Channel bhi ab 100 ho gaye hain, NDTV dekho ya na dekho!
____________
note: Kshama prarthi hoon - yeh comment maine ghalat post mein chipka diya tha!

नवीन कुमार 'रणवीर' said...

बात कुछ छिपी हुई है, मंजु किसी और की हो गई क्या? शायद! मुझे तो यही लग रहा है कि मंजु को राम(कोई गैर) ले गया फिर भी बेचारी दुआ कर रहा है उसकी सलामती की,
पता नहीं मुझ तक तो यही पहुंचा, लेकिन अच्छा लिखा है, सोचने पर मजबूत कर देता है,

anupam mishra said...

क्योंकि ये वही मंजू है जो जो शाम को थके हारे ऑटो वाले को बैगन का भर्ता, आलू टमाटर की सब्जी बनाकर देती है, उस मंजू के लिए ही वो ऑटो चलाता है, उस ऑटो वाले के लिए सचमुच कमाल की है मंजू...हाय री मंजू..