बदल रहे हैं कार्ड...देखिये मगर जाइयेगा नहीं





18 comments:

सतीश पंचम said...

रोचक।

मेरे एक प्रोग्रामर मित्र ने भी एक ऐसा ही रोचक कार्ड बनाया था जिसमें C++ और JAVA की तर्ज पर सोर्स कोड बना कर निमंत्रण पत्र छापा था।

वह पत्र भी बहुत रोचक था। ।

सम्वेदना के स्वर said...

रोम जब जल रहा था,
नीरो बंसी बजा रहा था?

(फालोअप कमैंट)

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बड़े अलग प्रयोग हैं .... रोचक

Rahul Singh said...

'कबीर' ने प्राची-उन्‍मुख निशाना साधा है.

Dipti said...

ये तो बहुत पुराना चलन है।

घनश्याम मौर्य said...

भई कमाल के कार्ड दिखाये है आपने. मुझे भी कार्ड को लेकर प्रयोग करने की प्रेरणा मिली है.

डॉ टी एस दराल said...

रोचक ! बस १००० /-के न हों ।

प्रवीण पाण्डेय said...

वाह रे कार्ड।

Mahendra Singh said...

Bachchon kee shadiyon main sochoonga. Bahoot saal baki hai. Vaise hain card bahoot achche.

shailendra k s said...

badlao ke daur mein bas yahi banki rah gaya tha.use bhi aakhir badal hi diya gaya

दीपक बाबा said...

समाज बदल रहा है...... नयी करवट ले रहा है... ट्रक के पीछे की शेरोशायरी बदल रही है...... शादी विवाह के गीत बदल रहे हैं.... तो कार्ड भी बदलेंगे.....


पर नहीं बदल रहा तो

तख़्त और ताज.....
घोटाले बाजों की सरकार

Kunal Verma said...

बहुत ही रोचक

JC said...

चेतावनी के लिए धन्यवाद्! गिफ्ट भी दामी देना पड़ता!

Timple said...

Cards ke design ache lage....aamtor pad hum log apne wedding cards par apne ish dev ke chitra bana dete hain phir unhe idhar udhar phek dete hain...acha nahi lagta.

Parul said...

intresting!

Dr. P.C. Giri said...

भई वाह! अनूठे और रचनात्मक प्रयोग !...
नेट की दुनिया को ऐसे ही समृद्ध करते रहें ।

राकेश पाठक said...

माफ किजिएगा पर ये कार्ड किसी कस्बे में आई भांड मंडली के पैंपलेट ज्यादा लग रहे हैं। सभी रंग भरने के बाद अपनेपन का रंग गायब है...

Shuchita Vatsal said...

Haan jab Vivah "Sanskar" ki jagah "Contract" banta ja raha hai.. toh cards ka swaroop badalne se unhe kaun rok sakta hai.. Show-off ke siwah jeevan ki shaayad aaj koi paribhaasha hi nahi rahi..
Hum badalaav ki taraf bhaag rahe hai-- Chaahe woh achha ho ya bura-Par something should be different!
Kumkum-patri mein likh jane wale vivah ke samahron mein toh, vaise bhi, aaj kisi ka interest nahi.. Shaadi mano "fashion show" ban gayi hai..Itna taam-jhaam par "Pheron" ki formality ki jati hai.. Logon ko aamantrit kiya jata tha ki woh vivah ke saakshi honge par aaj Pheron par sirf Dulha-dulhan, pandit aur kareebi rishtedaron(mata-pita bhai-bahen ke siwah)koi nahi hota..Modern shaadi mein vachan bharte waqt agar "Agni" prajwalit kar bhi Sakshi bana li jaye toh shayaad woh hi bahut badi uplabhdi mani jati hai..
Kash hum simplicity aur ethics ko apna pate toh itne frustations toh nahin hote!