कुर्ता

बहुत दिनों बाद आज कुर्ता पहना । सफ़ेद । ऐसे तो बहुत हैं मगर पहने से पहले उन पर हाथ फेर कर वापस रख देता हूँ । सालों से तह किये कुर्ते अकड़ से गए हैं । पहन ही नहीं पाता हूँ । बाबूजी के जाने के बाद कुर्ते में खुद को देखना उनको देखने जैसा लगता रहा । ऐसा लगता है जैसे वे मुझसे लिपट गए हों । उनकी यादों से दूर भागने के लिए कुर्ते से दूर रहने लगा । न वो दूर हो पाए न मैं भाग सका । 

बहुत दिनों से कुर्ते का कपड़ा रखा था । क़मर अली को दे आया । मालूम नहीं क्यों । शायद बाबूजी को महसूस करना चाहता था । वैसा ही कालर मगर लंबाई उनके जैसी नहीं । बदन पर कुर्ता डालते ही लगा आइने में वे खड़े हैं । उनको अच्छा लग रहा है । नाप सही है या नहीं इस बहाने एक के बाद एक तीनों कुर्ते पहन डाले । सफ़ेद वाला देर तक रह गया । मालूम ही नहीं चला कि कब आँखें भींग गईं और कब कुर्ता । आज बहुत दिनों बाद उनको देखा है । मेरे बदले वही मीन मेख निकाल रहे थे । कंधे पर ठीक फाल नहीं है तो कालर ज़्यादा खड़ा हो गया है । अचानक हाव भाव और चेहरा उनसे मिलने लगा । कभी खुद को आइने के सामने इतनी देर नहीं देखा । इस तरफ़ से मैं और उस तरफ़ से वो । जैसे उन्होंने कह दिया हो फ़र्स्ट क्लास । इ नू भइल कुर्ता ! 

इसीलिए कुर्ता नहीं पहन पाता हूँ । पहनते ही लगता है  कुर्ते में मैं नहीं हूँ । बाबूजी हैं । मन अचानक उनके कुर्ते की खनक को पहचानने लगता है । याद तो बहुत आती है उनकी । हर पल । चलती कार में उन्हें पुकारने लगता हूँ । पाँच साल हो गए । दफ़्तर जाने से पहले बहनों को फ़ोन लगा देता हूँ । किसी न किसी बहाने उनके बारे में बात करने के लिए । जब तक थे हर सुबह उठ कर पहला काम उन्हें फ़ोन करना, दवाई के बारे में पूछता था । अब भी जल्दी उठता हूँ फ़ोन करने के लिए ही, फिर नींद नहीं आती । फ़ोन ख़ाली लगता है । दिन भर में तीन चार बार फोन करना । खाँस रहे हैं । खाए नहीं । सोए थे क्या । 

कुर्ता सचमुच भारी कर देता है । मैं कुर्ता ही पहनना चाहता हूँ मगर होता नहीं है । इतना ख़ालीपन भर जाता है कि बस उनके पुकारने की आवाज़ खनकती रहती है । चलेके बा, कुर्तवा न देलक ह हो । दिल्ली चल जइब त सिया न पाइ । उन्हें लगता था दिल्ली में किसी को कुर्ता सीलने की तमीज़ नहीं । मैंने भी कब और क्यूँ मान लिया पता नहीं । आज क़मर अली ने जब सील कर दिया तो पटना की कमी नहीं खली । कमी खल गई बाबूजी की । 



34 comments:

Vidya visharad mishra said...

dhanya h aapke pita ji jinhe aap itna
yad karate h...yaha to log jite ji pita
ko mar dete h..bat kiye huye mahine beet

jate h..sayad ye lekh padh k unhe b samajh aa jaye...kurta acha laga aapka.

NIRU said...

मन भावुक हुआ जा रहा है ...आत्मग्लानि हो रही है की पिताजी को फोन नही करता बिना किसी खास वजह के , याद है जब घर से पहली बार अहमदाबाद के लिए निकला था तो पिताजी की आँखो को पहली बार भींगा हुआ देखा था , आज भी ज़रा सा बुखार आता है मुझे या मेरे बच्चे को तो सारी रात सो नही पाते वनहा दरभंगा मे, सुबह 5 बजे श्रीमती जी को फोन कर के हाल जानते हैं .
महीने का बिल 25 पन्नो का पर उसमे पिताजी माताजी का नंबर 2 से तीन बार ....मुझे शर्म आ रही है

teacher4gujarat said...

Naaz hota he App par,fakra ki bat he apke bapuje ne aapko insaniyat,sachai ko be jizak bolne ki takak de he,use virasat ko kabhi khone na dena,

Raj said...

Great..........

Raj said...

Great..........

Raj said...

Great..........

nptHeer said...

श्राद्ध पक्ष मैं पित्रुओं की स्मृतियाँ सहज है और उचित भी ।है न? इसको शगुन मानते है यहाँ-पित्रुओं के सद्गुण हम मैं आए वैसी प्रार्थना करते है इस शगुन के होने पर:) वित्तीय स्थिति अछ्छी हो तो कोई पूर्त कर्म का संकल्प करतें है।(मेरे नानी 'बा' मुझे इस जगत मैं सब से प्यारी है(थी) वे हमारे घर आती तो मुझ से ही cupboard share करती-उनके कपडें देख कर मेरी आंकें कल ही नाम हो गई तो मुझे दिया गया आध्यात्मिक मन फेर मैंने आप को लिख दिया है ) :) बाकी इन्सान की जगह तो महाकाल भी भर नहीं सकते-no replacement pattern :-(
कुर्तेवाला फोटो जरुर post कीजियेगा वैसे:)क्या?:)वो तो just conform करने की आप वही ravishji ही हो-i mean नेता जाती मैं convert हुए हो या नहीं:) :-p

Swati Pant said...

father= hero of the child's life...cherish the memory

nptHeer said...

वाव,कुआँ खुदवाना ,पानी की परब बिठाना,गरीब को घर बना के देना,पेड़ लगाना एटक को पूर्त कर्म कहते है -आप एक छोटी सी तुलसी ही बो दीजिये किसी गमले मैं और रोज जल देना पिताजी को याद करके you will feel very good :)

Ran Vijay said...

hummm. Main khush hun mere pitaji mere pas hain. Bas aise h inspire karte rahiyega hame.

Swati Pant said...

father= hero of the child's life...cherish the memory

bahar e-jaan said...

हमारी जिंदगी में बहुत लोग हैं, जिन्हें हम याद करते रहते हैं । बहुत खुशी या ग़म हो.... अपने याद आ ही जाते हैं । आप ही कहते हैं... "चलते रहिए "...."वो जब याद आए बहुत याद आए, ग़में जिंदगी के अँधेरों में हमने.... चिरागें मुहब्बत जलाए बुझाए.... "

Dharmendra Tiwari said...

भाउक कर दिय सर आपने आज.. आपके विचार अतुलनिय है.. हम उन्हे भले न याद करे ..लेकिन ..शायद ऐस कोइ पल नही ..जब वो हमे याद न करे.. :(

rajeev jha said...

ravish सर आपके ब्लॉग को किसी अपने को पढाया, ये बताये बिना क आपका है उसने समझा की मैंने लिखा है। आपके बाबूजी कुर्ते में भी हैं और आपके हृदय में भी।आज भी सुबह शाम वो आपसे जरुर बात करते होंगे। पत्रकार के कर्तव्य को जिस निष्ठा से आप निभा रहे हैं वो उनके कुर्ते को और वे चमकदार बना रहा है।
मैं मुंबई में रहता हूँ रोज आपकी तरह सुबह और रात में पूछता हूँ नींद भैल रहा ,खाना खिलक रहा।एक नौकरी के चक्कर में घर द्वार सब छुट गया|

sachin said...

मार्मिक ! अपने इतने निजी भावनाओं , संवादों और संवेदनाओं को शेयर करके आपने हम सबके जीवन में भरे खालीपन को आवाज़ दे दी.. (सार्वजनिक तौर पर , अभी और ज्यादा लिखते नहीं बनेगा इस विषय में, इसलिए कमेंट यहीं ख़तम किये दे रहा हूँ)

प्रवीण पाण्डेय said...

बाबूजी की स्मृतियाँ आपको सदा ही शक्ति देगी, कुतर माध्यम बनकर आयेगा।

विनीत कुमार said...

मेरी आंखों में आंसू आ गए पढ़कर..

Anshuman Srivastava said...

दिल छू लिया आपने रवीश जी मौका देखिये मैं भी अपने पापा के पास ही जा रहा हूँ उनसे मिलने.....

Unknown said...

bahut badhiya likha sir, aap ke pitasri punyatma hai. jinke gun aap sambhaal rahe ho.. mata pita ke liye ye samaan or itna aadar tabhee aata hai jab unhone apne jeevan main inhi guno palan kiya hoga. Nishchit hi wo ek mahaan vyaktitwa hain.

Aawaz said...

मेरे बाबाजी भी मेरे लिए कुर्ते छोड़ कहीं गायब हो गए, जब भी ज्यादा याद आते है मैं भी उनका कुर्ता पहनकार यादों में जाकर उनसें बहुत सवाल करती हूं।

नीरज पाल said...

आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी यह रचना आज सोमवारीय चर्चा(http://hindibloggerscaupala.blogspot.in/) में शामिल की गयी है, आभार।

Ranjit Kumar said...

स्मृतियों के सहारे ही समय बीतता जाता है और साथ ही बीतते हैं हम...

b.k. Sharma said...

Nirala,Shrilal Shukla ki rachnao ke baad aap ke "satsaiye ke Dohre"ne feer padhne aur padhne,padhte he jau
ki bhukh kojaga diya.
Ravish je ye Dilmange more.

shruti said...

Rajeev ji thik kahete hai aap ke babuji aapke sath hai har vakht. Aajj subah se ndtv pe aap hi ko dekh rahi thi aur abhi ye padh k natmashtak ho gayi. Aap sach me bilkul hindustani hai. Down to earth. Gujarat me pale bade english me padhe mumbai me rahete hai to bhasha koi bhi puri tarah se nahi sikh paye. Aap ki tarah chah kar bhi apni bhavnao ko shabd nahi de pati hu. Satymev jayte ka ek song aaj bhi rulata hai"ghar yad aata hai mije" meta bhi hal yaha aisa hi he
Par thodi jyada khush kishmat hu me apne papa se aur unse hi ajij sasurji rup papaji bhi roj phone pe bat karleti hu. Par aaj bhi jab mere bache apne papa k sath khelte he to mujhe apne papa bahot yad aate he. Maine gujrati me papa par ek article jaisa kuchh likha bhi hai.aap ne to hamari aankhe bhi nam kardi

नीलिमा शर्मा said...

उम्दा पोस्ट

MUKHIYA JEE said...

हम भी एक कुरता सिलवाये हैं :))

Roshan Sharma said...

बड़े भाव से लिखा हुआ लेख है !!!

sandeep singh said...

मन भर गया पढ़ के, बहुत बढ़िया लिखे है रविश बाबु।
संदीप कुमार

Rajat Jaggi said...

bahot achha Likhte hai Aap

Pankaj Dwivedi said...

Sir ji aap ne to aankho ko majbur kar diya chhalakane ko...............

Ashutosh Tryambak said...

व्यस्तता की गर्द से ढंके हुए दर्द को छोटी छोटी चीजें हवा देकर उड़ा देती हैं| लेख में बहुत कुछ जाना पहचाना लगा - पिताजी , कुर्ता और इस याद से जुडी हुई पीड़ा जिससे शब्दों में उल्लेख करना संभव नहीं| :(

snehal dhabarde said...

Very touching sir...jab apke blog padhte hai to lagta hai koi apna sa bol raha hai...man bhar aata hai.

saad rizwan said...

RAVISH SIR AAPKI PITA JI AUR AAPKA UNKI TARAF INTNA PREEM DEKH KE MUJHE AAPNI NANI KI YAAD AHA GAYI KUCH MERI BHI KAHANI AHSI HI HAI BACHPAN SE UNHOONE MUJJHE PAAL POSS KE BADA KIYA JAB PEECHLE SAAL UNKA DIHAANT HO GAYA TOH MUJHE BHI UNKI BAHUT YAAD ATI HAI JAB UNKO CHOODKE MEIN DELHI AAYA TAB MEIN BHI UNHE ROOZ SHAAM KO PHONE KARTA THA AUR APNI PURE DIN HAAL SINATA THA YEH KARKE DIL HALKA HO JATA THA THANK YOU SIR YEH BAAT YAAD DILANE KE LIYE .....

Pradeep Raghav said...

श्राद्ध पक्ष चल रहा है..पिताजी को लेख दिखाया,आंखें भर आईं,अपने मां-बाबूजी को याद करने लगे...मैंने ढांढस बंधाया..पर टूट तो मैं भी चुका था...जीवन के दो पहलू होते हैं दूसरा यही तो है..