दिल्ली के आश्रम फ्लाईओवर का जाम

कितनी उम्मीद से देखता हूं
सामने वाली लंबी सी कार में
बैक मिरर से चलाने वाले की आंखें
किसी दयावान की लगती हैं
कहता रहता हूं कि कब बढ़ायेंगे
बहुत देर हो गई,कार कब चलायेंगे
तभी अपने बैक मिरर में भी आंखें
किसी परेशान की दिखती हैं
पूछती है मुझसे वही सवाल
आप अपनी कार कब बढ़ायेंगे
बीस मिनट से वहीं थमी रही दुनिया
एफएम ने अनाउंस किया बदल गई दुनिया
ठहरे हुए,सरकते हुए,एक दूसरे से बचते हुए
सबने एक दूसरे को देखा और पूछा भी है
कार चलाने वालों की क्यों नहीं बदलती दुनिया
बस सबने बदल दिया अपना रेडियो चैनल है
रेडियो सिटी के जॉकी ने भी कर दिया एलान है
आश्रम चौक पर पांच किमी प्रति घंटे की रफ्तार है
हर दिन घर जाने का रास्ता लंबा होता जाता है
आश्रम आते ही सब कुछ थम सा जाता है
इस जाम का क्या करें, कैसे कहें इसका दर्द
बगल वाली कार की मोहतरमा ने देख कर मुझे
गुस्से से फेर लीं अपनी नज़र हैं
पीछे की कार में अंकल जी, छुपके छुपाके
कुरेद रहे हैं अपनी नाक को
सामने वाली कार में बैठा साफ्ट वेयर इंजीनियर
ईयर फोन ठूंस कर अपने कानों में
बतिया रहा है कलिग से, गरिया रहा है बॉस को
बीच बीच में पत्नी का टूं टूं करता एसएमएस भी
आता जाता रहता है
दिल्ली के आश्रम चौक का यह आंखों देखा हाल है
कहने को चौक है, लगता कारों की लंबी कतार है

19 comments:

SUNIL DOGRA जालिम said...

कवि महोदय आप कवि नहीं संवेदना के सागर में डूबे हुए एक ऐसे पत्रकार हैं जो दुनिया को कुछ गम कुछ खुशी दिखा रहे हैं

बधाई

अविनाश वाचस्पति said...

कविता अच्छी है
बिल्कुल सच्ची है
इसमें कल्पना की तो
नहीं कोई उड़ान है
फिर भी मित्र आपकी
कविता महान है

कविता में सिर्फ
कल्पना ही नहीं
ज़हान भी होता है
और ज़हान में
जो भी होता है
घटता है
सच्चा होता है
यथार्थ घटता है

कुछ इसे सस्मरण
कुछ डायरी के पन्ने
कहते हैं
उसमें भी सच्चे
किस्से और सच्चे
लोग रहते हैं

वैसे ही लोग रहते हैं
कार में
सरकार में
अ-सरकार में
बे-कार में
और आपकी कार के
साथ चलती बढ़ती रुकती
हुई कार में

अब अगर मैं
इसी तरह
आगे बढ़्ता रहा
तो लग जायेगा
एक और जाम
कविता का

जो बहती तो रहेगी
पर सुनने वाले को
महसूस होगा कि
लो लग गया
एक और जाम.

आपकी कविता के लिये
आपको एक जोरदार सलाम.

Dipti said...

आपका ये अनुभव पढ़कर यही लगा कि मैं आपसे ज़्यादा भाग्यशाली हूँ। जाम के दौरान भरी बस या ऑटो में उदास होने की या एफ़एम की याद ही नहीं आती। आसपास बैठे लोगों की बातें और ड्राइवर की पसंद की कव्वालियों के बीच कब जाम लगता है, कब खुलता है, पता ही नहीं चलता।
-दीप्ति।

Rajesh Roshan said...

ha ha ha ha ha. Mumbai mein hote to waha ki bheed bhari train ka jikr karte. achha hai ki delhi mein hain kam se kam caar mein sukun se to baithe hain waha to sukoon se khade bhi nahi hone diya jata

Smriti Dubey said...

दिल्ली को सपने देखने की नगरी और मुम्बई को सपने साकार होने की नगरी माना जाता है। लेकिन यहॉ जाम की बढती दर्दनाक समस्या इस बात को साबित करती है कि दिल्ली सपनों के पीछे भागने और उन्हें पूरा करने का शहर भी है। ये पीड़ा केवल आश्रम की नहीं पूरी दिल्ली की है। वो दिन दूर नहीं जब दिल्ली दूसरी मुम्बई हो जाएगा।

स्मृति

JC said...

Baat purani hai
Howrah pul par jam nahin mila
Khushi hui
Train chhoot jati varna!

Bachche nirash huve
Tab chhote the kyunki
Angrezi pardh rahe the

Station per bole
Aap kah rahe the jam milega -
Howrah pul per!
Jam to mila hi nahin!

JC said...

Chhote hi nahin
Bharat ki zuban ki khichardi
Kabhi tamasha bhi bana deti hai
Barde bardon ka

Ek dwibhashi Andhra Pradeshi sajjan
Bus mein baithe the
Tabhi pehchan ki ek mahila
Bus mein pravesh karti dikhin
We sadar unhein pukare
Bus ke sabhi yatri chaukanne ho
Unki ore drishti ghooma diye!
We paseene paseene ho gaye!

We mujhe karan yoon samjhaye
Ki Jaise Hindi mein Name ke peeche
‘Ji’ laga diya jata hai
(Jiski Bengali mein
Ek anya chutkula bhi hai!)
Vaise hi Telugu bhasha mein ‘andi’
Jisko sadar pukara jata hai
Kisi Shabda ke baad jord dete hain
Aur Telugu mein ‘ra’ ka matlab
Pas ya karib bulana hota hai
‘Ra + Andi’ mila unhone
Us mahhila ko ‘Randi’ pukara tha!

JC said...

Kal phir ho na ho
‘ji’ ka joke suna hi dein.

Angrez Magistrate naya naya aya tha
Tab Calcutta rajdhani thi Bharat ki
Usne ‘ji’ lagana shuryu kar diya
Bharatiya name ke peechhe

Char chor hazir kiye gaye
Name bataiye kahne per bole
Bannerji, Chatterji, Mukherji

Gali dete bole
Brothers-in-law
Chori karte ho aur ‘ji’ lagate ho!

Munshi ko phir bole
Likho Banner, Chatter, Mukher!

JC said...

Dosh rasna ka hi nahin hota
Kan ya karna ka bhi ho sakta hai.

Ek satya katha mein ek professor
Vanspati Vigyan ke Vidyarthi toli
Simla le ja rahe the bus se.

Simla ki seema pravesh ke pehle
Bus toll tax ke liye ruk gayi.

Ek vidyarthi ne karan poocha
Anubhavi teacher se
To unhone kaha chungi deni pardegi
Vidyarthi ne phir poocha
Kya sabko deni pardegi?
Uttar haan mein pa
Wo bola bardi ajib pratha hai!

Phir usne poocha kaun lega?
Ek dardhi-moonch wala aadmi
Bus ki ore a raha tha
Kuch kagaz haath mein liye
Uski ore teacher ne ishara kiya.

Vidyarthi ko chain tab aya
Jab wo aadmi paise le chala gaya
Kyunki usne suna tha
‘Chummi deni pardegi!

JC said...

Raveesh’ji’ ke pas samaya ki kami
Ajke sare Youth ki majboori hai.

Nahin to koi poochhta mujhse
Ki maine char chor kahe the
Chandal chaukardi ke saman
Per teen hi name kyun darshaye?

Kyunki samaya shayad vastav mein
Kum rah gaya ho Kaliyug mein
Ya manav ke sandhya kal mein.

Chalo bata hi dein
Ki wo censor kiya tha
Kyunki aj ke sandarbha mein
Wo rajniti se prerit lagta
Mumbaiyya Raj ki bhanti
Aur aaj cricketers chhaye hue hain
Her bachche se boordhe ke mun mein.

Jab ek Bengali ne yeh sunaya tha
Us samaya logon ke pas samaya tha
Tab jam bhi nahin hote the Sardakon aur mun per bhi.

Chauthe name mein ‘ji’ nahin tha
Per name mein khud
Andhere ke peshe ki jhalak si thi!

क़ैसर रज़ा said...

काश आप हम बसों में सफर करते तो शायद ऐसी नौबत ही नहीं आती। लेकिन क्या करें पब्लिक ट्रास्पोर्ट के चक्कर में तो ऑफिस ही वक्त पर न पहुंच पाए। क्यों रविश भाई। लिहाजा कार ही सही विकल्प है। पर हम दोपहिया वाहनों का इस्तेमाल भी तो कर सकते हैं। पर क्यूं करें अपनी मर्ज़ी जाम लगे तो लगे। दरअसल पहले लोगों को हाथी पालने का शौक था अब कार पालने का शौक हमने पाल लिया है। हम तरक्की की नई इबारत लिख रहे हैं ना। लेकिन इस जाम को देख कर तो यहीं कहा जा सकता है कि
वो अंधेरा ही भला था कि कदम राह पर थे,
रौशनी लायी है मंज़ील से बहुत दुर हमें।

JC said...

Jab jam ho tab Hanumanji yad ate hain - Ram-Laxman ko kandhe per le urd chale the!

Anheriya mord per ek miyan-bibi 3 ghante mahasagar saman truckon ke jam mein phans gaye. Agle din Hanuman Mandir mein prasad chardha ker wo sambhrant mahila milin aur sunaya kaise wo apne ko kos rahe the ki driver ko kyun nahin le gaye! Arjun ne tabhi to Krishna ko hi apna driver chuna!

JC said...

1999 ke ant ki Andheriya Mord ne shayad Jam athva 'vighna' ka arambh darshaya tha ishare se!
'999' sanketik bhasha mein Christ ko darshaya jata hai 'paschim' mein, jinke hum ghulam hein, usi tarah jaise 1999 mein '1' jurda hai '999' ke sath - jo darshata hai pehli, 'Uttar Bharatiya', Ganga-Jamuni, sabhyata ko! Raj ise ab tordna chahte hein - Paschim ki ghulami ke karan!

JC said...

Is 'mithya-jagat'
Yani 'jhoote bazaar' mein
Dilli ki sardakon ke SETU aj
Jam becha rahe lagte hain

Ashramwala Sadhuon ke liye
Moolchandwala bimaron ke liye
Gurgaonwala Dronacharya ke shishya
Kshatriyon ke liye Kaliyuga se hi
'Mahabharat' ki tayyari mein jaise!

Dilliwale shayad samjhein
Kyun Gita mein likh gaye gyani
'Krishna mein atma-samarpan'

Aur Ramsetu ne Bharatwasiyon ko
Jordne ka kam kiya Treta mein
Kaliyug mein tordta hi dikhega
Kyunki tab wo poora bana nahin tha
Kewal neenva-matra dali gayi thi!

Maya ke karan
Kal ki chal ulti dikhti hai -
Satyuga se Kaliyuga tak!

Kah gaye gyani-dhyani YOGI
Athva jordne wale
Ghatane wale nahin!
Rai ka pahard jaise
Shunya ko Shiva banane wale!

JC said...

Jab Kisi bhi ‘channel’ ka
Koi bhi ‘anchor’ yani langur
Pani-ke-jahaj wale jaisa
Apne hi vicharon mein
Jam ke gum mein dooba
Mike bardhata hai
Vakta ke moonha ki ore
Na maloom mujhe kyun lagta hai
Jaise use nimantran de raha ho
‘Ice-cream-cone’ khane ka
Ya Shivlinga ko matha chhoone ka
Per her koi vakta ishara na samajh
Shayad kal vash
Ghanton bakta hi chala jata hai
Samaya ki kami ke karan!

Phateechar said...

JC kee kuchh kavitayein achhi lageen aur kaisar raza ke vichaar.

Public transport, khaas kar Bus ko ek sazish ke tahat samapt kiya za raha hai shayad. taki caron kee bikree bardhe. na jaane kitne ki ghooskhori huee hogi sarkaar aur car banane waalon ke beech. Bus kee sankhya kam hoti ja rahee hai aur car keerdon kee tarah bardhte ja rahe hain.

waise metro aa rahee hai har taraf, dekhiye kya hota hai !!

JC said...

Dhanyavad phateecharji
Bus mein ‘ab bus’ bhi chhipa hai -
Bahut ho chuka natak shayad!

Baati said...

जाम की झंझट ज़रुर रही। लेकिन उस दौरान कुछ पल आसपास के लोगों को देखने-समझने का मिलना,उस दर्द का मुआवज़ा मान सकते हैं। इसी बहाने मेट्रो सिटीज़ में दूर होते लोग..जाम में ही सही कुछ वक्त के लिए करीब तो आए.. एक-दूसरे को देखा..उनके बारे में सोचा तो सही।

JC said...

Jam adhunik yug mein
Kumbha ke mele ki
Shayad ek jhalak ho
Jismein her ruka hua aadmi
Majboori mein hi bhale hi
Khojta nazar ata hai Satya ko
Apni bhitari mun ki ankh se
Aur anya chehron per bhi
Bahari mayavi ankhon se bhi…