कौन क्या पढ़ रहा हैः पुस्तक मेले से लौट कर

पुस्तक मेले से लौट कर सोचा कि क्यों न हम ब्लागर इस बात की भी चर्चा करें कि कौन सी किताब खरीदी है और क्या पढ़ रहे हैं। तो शुरूआत कर रहा हूं कि कौन कौन सी किताबें मैंने खरीदी है।

१.मीडियानगर पार्ट ३, नेटवर्क संस्कृति, वाणी प्रकाशन
२.1857 के बाग़ी सिख- शम्सुल इस्लाम,वाणी प्रकाशन
३.1857 के हैरत अगेज़ दास्तान- शम्सुल इस्लाम, वाणी प्रकाशन
४.जातियों का राजनीतिकरण, बिहार में पिछड़ी जातियों के उभार की दास्तान - कमल नयन चौबे, वाणी
5.Noam Chomsky- Powers and prospects
6.Islam and healing, loss and recovery of an indo muslim medical tradition
by Seema Alavi, Permanent Black
7.The languages of political Islam in India c1200-1800 by Muzaffar Alam, Permanent Black
8. Man-eaters of Kumaon- Jim Corbett
9.Covering Islam- Edward W.Said
10.अंतरंगता का स्वप्न, भारतीय समाज में प्रेम और सेक्स, सुधीर कक्कड़
11.हिंदू स्त्री का जीवन, पं रमाबाई,अनुवाद- शंभू जोशी, संवाद प्रकाशन
12. रेहन पर रग्घू- काशीनाथ सिंह, राजकमल प्रकाशन( प्रियदर्शन ने भेंट की है यह किताब)
13. काशी का अस्सी- काशीनाथ सिंह, राजकमल प्रकाशन( प्रियदर्शन जी की एक और मेहरबानी)
14 तीन द्विज हिंदू स्त्रीलिंगों का चिंतन- डॉ धर्मवीर, वाणी प्रकाशन
१५. राजेंद्र माथुर संचयन, वाणी प्रकाशन

कुछ पुस्तकें पहले भी खरीदीं गईं हैं। लेकिन पाठकों को प्रभावित करने के लिए सूची लंबी कर दी गई है। कितना पढ़ पाते हैं यह तो आने वाला वक्त ही बतायेगा। (वैसे आने वाला वक्त ही बतायेगा पंक्ति टीवी में खूब इस्तमाल होती है। पीटूसी के अंत में, पता नहीं पत्रकार पत्रकार रहेगा या नहीं लेकिन वो अपनी रिपोर्ट इस लाइन से खत्म करता है)

15 comments:

राजीव कुमार said...

लखनऊ की पाँच रातें - अली सरदार जाफ़री
आनामदास का पोथा - आचार्य द्विवेदी
मैं - विमल मित्र
संस्कृति के चार अध्याय - दिनकर
नौकर की कमीज़ - विनोदकुमार शुक्ल
मछली मरी हुई - राजकमल चौधरी
लखिमा की आँखें - रांगेय राघव
मंटो एक बदनाम लेखक
Indian Democracy - MK Santhanam
The Indian Police: A Critical Evaluation - Arvind Verma

शुरुआत "संस्कृति के चार अध्याय" से हो गई है। लिखते वक्त तक लगभग सौ पन्नों को निपटा भी चुका हूं। लगभग साढ़े पाँच सौ और बचे हैं। लगन ऐसी ही रही तो हो सकता है हफ्ते भर में ख़त्म कर दूं। लगन...और समय! अब देखना यह होगा कि ऊँट किस करवट बैठेगा?

सुजाता said...

खरीदा तो काफी कुछ है । पता नही कब पढा जायेगा !
नाओम चोम्स्की की 9.11,महुआ माजी -मैं बोरीशाइल्ला ,दोस्तोयेव्स्की - अपराध और दण्ड ,स्टुअर्ट मिल्ल - स्त्रियों की पराधीनता ,मनोहर श्याम जोशी की -क्याप और हमज़ाद ..... और भी दस किताबें
बुढापे का सहारी होंगी अभी तो समय मिलने की उम्मीद नही :)

Aflatoon said...

ब्लॉग के साथ वाला गीत बदलते रहिए , न?

Rajesh Roshan said...

यह पढ़ना अच्छा लग रहा है

वैसे किताब तो खूब पढता हू लेकिन खरीदी एक भी नही. शायद कुछ समझ नही आया हा लेकिन किसी ने दी है वह पढ़ रहा हू मिल्स एंड बून की रोमांटिक बुक है. मैंने मिल्स एंड बून(Mills and Boon) का नाम पहली बार सुना इस बुक फेयर में. यह केवल रोमांटिक किताब पब्लिश करती है यह जानकर ताजुब हुआ. वैसे किताब की बात चली है तो यह बताना शायदा थिक रहेगा की अभी मैं अरिंदम चौधरी की लिखी किताब Count your chickens before hatch पढ़ रहा हू

रवीश जी ये सुधीर कक्कर के बारे में आप कुछ जानते हैं या किताब यू ही ले ली है?

राजीव जी यह संस्कृति के चार अध्याय ऐसी किताब जिसे हम सभी भारतीयों को जरुर पढ़ना चाहिये

काकेश said...

मेरी लिस्ट यहां देखें.

http://kakesh.com/?p=318

अजित वडनेरकर said...

हम तो दिल्ली के पुस्तक मेले में जा नहीं पाए, मन ज़रूर था और भोपाल से सिर्फ एक रात का सफर ...हर पखवाड़े एक किताब खरीदी जाती है।
हम अपने ब्लाग पर पुस्तक-चर्चा की पहल भी कर चुके हैं। आप भी आइये यहां-http://shabdavali.blogspot.com/2008/02/2007-495.html
आपकी सूची की कुछ पुस्तकें मेरे लिए भी नई हैं। शुक्रिया ।

विनीत कुमार said...

clashes of civilisation- hatington
orientalism- edward sayed
culture and emperialism- edward sayed
macdonaldisation of society- ritz
media and culture studies: reader
culture industry-adorno
writing with difference- derrida
end of history-fukuyama
post colonial studies;ania lumba
television-raymond williams
popular culture theories- e.maranathi
global media-mancheski
maaf kare mai to bibiligraphy banane laga, aur bhi bahut saari apne research aur media se judi dher saari kitabe

gautam yadav said...

kuch kitaben humne bhi khridi hai .
do khidkiyan amrita pritam
rag darbari shrilal shukl
galibnama
aapka bunti mannu bhandari

Pramod Singh said...

मेरी लिस्‍ट यहां देखें (कहां देखें? शायद दूकान में जाकर ही देखनी होगी).

JC said...

Jawani mein bahut pustak pardhin. Ab bhi kabhi-kabhi pardh leta hoon. Kintu jab bhi samaya mile mastishk mein hi unka ras le raha hoon. Kyunk jiwan ke saar arthat ‘satva’ ne matha hila ke rakh diya tha, “Pothi pardh-pardh jug mua/ Pundit bhaya na koi/ Dhai akshar prem ka pardhe so pundit hoye.”

JC said...

Daya aati hai! Bechare Raveeshji kya, kisi bhi jawan aadmi ke pas aaj ‘time’ hi nahin hai, verna wo bata pate, athva pata karte, ki ajka school jane wala bachcha goli chalana kahan se seekhta hai…

Hamare samaya mein to aisa nahin tha. Sab ko bataya jata tha ki manava ki utpatti pashu yoniyon se guzar ke hui hai. Kushti avasya larda lete thay. Marne maarne ka khel nahin hota tha!
Shayad yeh ‘kal ka prabhav’ ho…Manav ke bheetar ka junglee sher/ haivan jaag gaya ho – jise phir se billi/ manava ban-ne mein samaya lage!

Aaj Internet per sab vishayon per jankari uplabdha hai, aisa maine bhi anubhav kiya hai swasthya athva adhyatmik adi vishayon ke sandharbha mein...

Pracheen, kintu gyani, ‘Hindu Jogi’ ne gyan-marg dwara jana ki prashna kewal gantavya nirdharan ka hai – aur drishti Lakshamana ki tarah ‘lakshya’ per banaye rakhne ka! Athva Yudhister ki bhanti yuddha mein bhi sthir rahne ka aur ‘satya palan ka’!

Yatra kintu Satyuga se Kaliyuga ki hai - ulti Ganga bah rahi hai...

fasadi said...

kitne pakistan :kamleshwar
gunaho ka devta:dharamvir bharti
ye kitabe kuch purani ho gayi hai par mujhe ye kharidne ka mouka abhi mila hai chahta tha ki koi eloctronic hindi patrakarita par koi stariya kitab mil jaye lekin hindi me shayad koi bahut badhia kitab uplabdh hi nahi hai is par aur haa yad aya bashir badr ki shyari bhi kharidi hai paper back print is liye ki ptc ke ant me ane wala waqt hi batayega wala sentense dohrana na padhe

JC said...

AAJ antarnad ke karan her aadmi kahna chhata hai, sun-na nahin! ‘Nakkar khane mein tooti’ kaun sun payuega!

Shayad, mere alava (!) kabhi kisi ne socha na ho ki NASIK ko ulta karo to KISAN ban-ta hai! Aur Dilli mein bahut sare krishi utpad Nasik se atey dikhai dete hein!

Kyoon????

Gyani logon ne aathon (8) disha ka Raja ek Graha (jiska matlab ek adbhut jiva, Magarmachcha, bhi hota hai!) ko, athva ‘planet’ ko mana hai, asthayi aadmiyon ko nahin bhale hi wo pashu ka raja kyoon na ho!

Kabhi Atlas dekha aur suna hoga hi ki 8 dishayein hoti hain aur phir yeh bhi jana hoga ki Bharat ke dakshin-pachimi tat per ‘Arab Sagar’ hai. Aur yahi sagar Bharat mein jab-se ‘Indra devta’ arthat Surya ki utpatti shunya se hui hai tabse yehi jal-chakra ka shrote hai, aur Mumbai aaj Hindi filmon ka. Aur yeh chalta rahega jab tak Brahma ka ek din samapt nahin ho jata…aur Surya-devta so nahin jate…prithvi per barf ka raj hoga tab!

Sampoorna Bharat mein varshik varsha-chakra ka janma-data, panchtatva, ke karan aur Uttar disha mein sthit Himalaya ke karan hi Bharat ko adi kal se ‘sone ki chirdiya’ jana gaya hai – jiske pankh noch liye jate rahe hain shaktishali athva buddhiman vyaktiyon dwara, ‘bhagte bhoot ki langoti’ jaise!

miHir pandya said...

रवीश आपकी शुरू की चर्चा को मैंने अपने ब्लॉग पर भी आगे बढाया है. मेरी लिस्ट यहाँ है...
http://www.aawarahoon.blogspot.com/
.....

anurag said...

Sir ... agar ek kitaab mile to jaroor dekhiyega ... Gyanpeeth ki hai " Nagade ki tarah bajte hain shabd" Nirmala putul ki rachna hai ... Santhali bhasha main thi ... Gyanpeeth ne anuwwadit chaapi hai ...