आश्रम पर उपन्यास

बाहर की दुनिया को धीरे धीरे सरकता हुआ देख कर
अंदर एक शख्स ठहरा हुआ सा बैठा है
पीठ टेढ़ी हो गई है
गर्दन टेढी हो गई है
कमर सिकुड़ गई है
आंखें थक गई हैं
सीट बेल्ट से ज़कड़ा हुआ शरीर उसका
जाम में किसी बंधुआ सा लगता है
नैय्यरा नूर को सुनते हुए अविनाश ने
एफएम की तरह फरमाइश की
लिखा जाए आश्रम जाम पर एक उपन्यास
क्या लिखा जाए आश्रम जाम पर उपन्यास
सीट बेल्ट से आज़ादी के सपने देखता हमारा किरदार
ज़रा सी जगह की गुज़ाइश देख हरकत में आ जाता है
क्लच पर पांव दबाता है, ब्रेक से पांव हटाता है
गियर को हाथों से इधर उधर करता है
सरकारी फाइल की तरह सरक कर उसकी कार
वापस उसी अवस्था में ठहर जाती है
दफ्तर से सात बजे का निकला हुआ
दस बजे तक अटका हुआ है
किरदार आश्रम जाम में फंसा हुआ है
कहानी आगे कैसे बढ़ाई जाए
किरदार को सोचने के लिए कहा जाए
ट्रैफिक जाम के तीन समाधानों पर लिखो एक लंबा लेख
सिग्नल फ्री, फ्लाईओवर और एक्सप्रेस वे
उसकी व्यथा को शब्दों में बांध सुनाए, इससे पहले
रेड एफएम पर सूड नाम के जॉकी की आवाज़
पढ़ने लगता है हंसी के फव्वारे जैसी किताब
जाम में फंसे हुए लोगों का एक बाज़ार बनाता है
सूड उन्हें यथार्थ से दूर ले जाता है,रोते हुए लोगों को
एफएम वाला हंस हंस कर गाना सुनाता है
इस उपन्यास के कई काल खंड हो सकते हैं
कोई आश्रम में कोई सीपी में फंसा हो सकता है
दूर से राहत की तरह नज़र आती ट्रैफिक सिग्नल की लाइट
घर पहुंचने जैसे अहसासों से भर देती है
चौराहो पर पहुंच कर सफर अपने मंज़िल के करीब लगती है
गियर,क्लच और सीटबेल्ट के ज़रिये लिखा जा सकता है
ट्रैफिक जाम में फंसे किरदार पर उपन्यास
जब भी लिखा जाएगा, जैसा भी लिखा जाएगा
जाम में फंसे लोगों को ही समर्पित किया जाएगा

9 comments:

Pramod Singh said...

कार में फंसा, जाने कैसे व्‍यूह में धंसा किरदार हंसते-हंसते रोने लगेगा/ धर्मेंद्र और फिर संतोषी को मां-बहन की बकने लगेगा/ एफएम के बाद शायद वहीं बीच सड़क पर एक पोर्नो चैनल की फरमाइश होने लगेगी/ गाड़ि‍यों में अटके लोग आश्रम से अजमेरी गेट तक पोर्नो के प्रताप और आशाराम की करुणा में नहाये भावुक होने लगेंगे..

JC said...

Ashram shabda hi
De sakta hai anant vishaya -
Brahmacharya-ashram
Grihastha-ashram
Vanprastha-ashram
Sanyas-ahram adi per

Dwaper mein Guru Dronachary ka
Treta mein Maharshi Vashistha ka
Satyuga mein Yogeshwar Shiva per
Unki ghor smadahi per
Kamdev ke bhsma hone se
Bhasmasur ki moorkhta tak
Jis mein jorda ja sakta hai
Vartman ashramon per -
Unke badalte roop per
Kala pani ke
Swatantrata sangram ke kaidiyon se
‘Tihar’ ke adhunik kaidi tak
Kiran Bedi ke prayason per bhi
Ki galati kahan hui hum sabhi se?!

JC said...

Sharir se ghulam hain aj bhi
Ananata kal se jaise
Hum sabhi Bharatvasi

Usi desh ke
Jis mein Shiva ki
Aur Rama ki bhi Ganga
Krishna ki Jamuna bhi
Aj bhi bahti hain

Mail to inmein hamara apna hi hai -
Darpan mein pratibimb saman
Kyunki Chehra to hamara maila hai
Kal ke prabhava se shayad
Kaliyuga nam hi
Sartha hai Ma Kali ka
Jinki jhalak pana sambhava hai

Gyani kaha gaye
Kavi ghulam hai sharir se
Mun se nahin kintu -
Jahan ‘Ravi’ na pahunch paye
Wahan Kavi pahunch jata hai!

JC said...

Shabda ki nadi bahti jati hai
Ek Ashram se
Anek ashramon ko jordete
Milne sagar ke shant jal seMaun se!

Jawahar Lal ki Bharat ek khoj
Upaji thi jail roopi ashram mein

Aurobindo ke
Evam anya anekon ke
Adhyatmik vichar bhi
Swatantrata sangram ke
Jail bharo andolan adi mein

Lal batti na hoti
Sardak per rukavat hetu
Tab Vighna-harta
Nano car roopi
Mooshak vahan mein jaise
Athva shaktishali Pavan putra
Vanar kintu pakshi saman
Akash marg se vicharte
Sankat-mochan Hanuman ko
Shayad koi yaad bhi nahin karta
Na shiv-puran likha jata
Na hi Ramayan

Na janata koi
Mahabharat ki katha ko
Na Gita ka updesh
Arjun ke sarathi
‘Dwi-chakra ashwa-rath-chalak’
Shri Krishna ki leela ko
Na hi Gurgaon ko
Guru Dronacharya ke ashram ko
Jahan Arjun ne seekha
Pakshi ki ankh
Aur machhli ki ankh bhedna
Wo bhi kewal parchhain dekh

Kintu divya-chakshu nahin paye
Wo kisi Ashram mein
Lal batti dekh jaise
Arjun jab tham gaya
Kurukshetra ke maidan mein
Divya-chakshu tab paya
Guruon ke Guru
Athva Yogiraja
Peetamber Krishna se!

अनामदास said...

लगता है आजकल कुछ ज्यादा ही ट्रैवल कर रहे हैं पीक आवर्स में, देर से जाइए, देर से आइए, या फिर जल्दी जाइए, जल्दी आइए...पीक आवर्स से बचिए वर्ना टेंशन भी पीक पर होगा.

एक बात ज़रूर चौंकाती है कि राजधानी के ट्रैफ़िक जैम में फँसा कोई भी आदमी मुझे पढ़ता हुआ नहीं दिखता है, उपन्यास उन्हें समर्पित भी कर दिया जाए तो क्या वे पढ़ेंगे...

ravish said...

प्रमोद जी और अनामदास
अब हर समय पीक आवर रहने लगा है। दोपहर में भी रास्ता जाम हो जाता है। सीधी बस सेवा नहीं है वर्ना तो कार तो लात ही मार देता। अपना भी आने जाने के वक्त का पता नहीं होता। कुछ लोग कार में लैपटाप पर ईमेल करते दिखते हैं लेकिन पढ़ते नहीं देखे हैं।
रही बात प्रमोद जी की फरमाइश की तो वो दिन दूर नहीं। हां बैक मिरर में कभी कभी कुछ अंतरंग लम्हें दिख जाते हैं। उन्हें पता नहीं होता कि कार में कुछ करें तो लोग सामने से नहीं पीछे से देख लेते हैं। ऐसे में क्या किया जाए। अपने बैक मिरर को ऊपर कर उनके एकांत को महफूज़ कर देता हूं। खुद कार की लाइन बदल लेता हूं। मगर यह भी हो रहा है। जाम में शाम कई तरह से तमाम हो रही है।

JC said...

Ravishji
Nahin maloom hum bhagyawan the
Ki aap jawan log vartman mein

Bachpan mein dilli ki sardkon per
GNIT ki bus ghanton baad dikhti thi
Aur thorde se route hua karte the
Log paidal
Ya cycle mein adhik deekhte the
Kuch ek logon ke paas car hoti thi

Izzat se dekhe jaate the wo
Doosre ki cycle tak ko
Koi haath nahin lagata tha

Dilli ke dil mein -
Nai Dilli mein shanti thi
Na Gk tha na Dwarka hi

Aisa nahin tha
Ki chor nahin the tab
Per bahut kum the
Aur wo darpok bhi the

Kintu aaj
'Channel walon' ki baat manein
To neta hi sabse barda chor hai
Jo humse hi shakti pa
Nidar bhi ho gaya hai
Chakravyuha bhed kar
Arjun ki tarah
Abhimanyu ki tarah nahin
Swatantrata poorva!

Shaktishali Angrez paraye the tab
Per hum sabhi
Aaj unke sague rishtedar
Aur ‘neta ke’
Mausere bhai lagte hain!

Punascha:
Hindi aap ke karan Roman mein
Shayad Soniaji ke prabhav se
Software ke abhav mein
Bahut din baad likh raha hoon

JC said...

Hamare school mein
Ek angrezi bhasha ke guru the
Ekdam guru hi the
Anuvad karne mein paseena ata tha
Ek exam mein anuvad hetu diya
Ek namoona pesh hai

"Hindi bhasha ajib hai
Jo guzar gaya wo kal tha
Jo guzreja wo bhi kal hoga"

Ek shishaya ne likha
"Hindi language is strange
It has two kals
One that has gone away
And the other that will come"

Shayad aise hi
Guzare kal ka
Mazak bana dete hain
Vartman ke itihaskar...

डेटलाइन इंडिया said...

रवीश बॉस , आपसे ईर्ष्या होती है. टीवी की नौकरी में भी लिखने का वक्त निकल पाना और इतना अच्छा लिख डालना.आप बस लिखते रहिये ताकि हम पढ़ते रह सकें.
आलोक तोमर