सफल होने के उपाय-

सत्य और सफलता पर खूब शोध होता रहता है। हासिल करने के तमाम उपाय बताये जाते हैं। वनिता पत्रिका के साथ एक आरती संग्रह आया है। जिसमें राशि के अनुसार सफलता के उपाय दिए गए हैं।कुछ उपायों को पेश कर रहा हूं ताकि आपकों भी पढ़कर पता लग जाए कि सफलता कितनी दो कौड़ी की चीज़ होती है जिसे आलतू फालतू तरीके से भी हासिल किया जा सकता है। हर राशि के नीचे मेरा नोट भी है। देखिए सफल होने के नाम पर क्या कूड़ा हमारे घरों में आ रहा है।

मेष- हर मंगलवार हनुमान जी को प्रसाद चढ़ाएं और पूरा प्रसाद मंदिर में ही बांट दें। पहले हनुमान जी के पैर देखें फिर चेहरा।
( नोट- ये कैसा प्रसाद है। जो घर नहीं ला सकते। भगवान के भोग के साथ ऐसा व्यावहार। जातिवाद की बू आती है)
वृषभ- काम शुरू हो क बीच में अधूरा रह जाता हो तो २१ गुरुवार गरीब ब्राह्मण को भोजन कराएं।
(नोट- इतने में क्या अधूरा काम पूरा नहीं हो सकता है? इतना बड़ा बवाल क्यों लादे भई?)
मिथुन- बीमारी में पैसा खर्च हो रहा हो या दफ्तर मे परेशानी आ रही हो तो किसी को मीठा व नमकीन दोनों खिलाएं।
---शोहरत पाने के लिए पानी में फिटकरी डाल कर स्नान करें।
(नोट- धोनी, अमिताभ या मडोना की तरह शोहरत पानी हो तो फिटकरी लेकर चलिए। नहाते नहाते आप दुनिया में मशहूर हो जाएंगे। लेकिन बाथरूम से निकलिएगा नहीं। नहाते रहिएगा।)
कर्क- बहस हो जाती हो तो शिव मंदिर में लाल चंदन दान करें
( नोट- आस पास शिव मंदिर न हों तो बहस ही न करें)
सिंह- ७ शुक्रवार कुएं में फिटकरी का टुकड़ा डालें। काम बन जाएगा।
--सौहार्द के लिए हर बुधवार गणेश जी को किशमिश चढ़ाएं।
(नोट- कुंआ ढूंढने के लिए दिल्ली से रोहतक जाना होगा। गुजरात के लोग गणेश जी को किशमिश खिलाएं। सांप्रदायिक सौहार्द बन जाएगा)
कन्या- परेशानी से बचने के लिए घर में कुत्ता न पालें।
-किसी से बेकार बहस हो जाती हो तो खाने के बाद सौंफ खाएं।
(नोट- दफ्तर सौंफ ले कर जाएं। खूब बहस करें और सौंफ खाते रहें, लेकिन कन्या राशि वालों ने कुत्तों का क्या बिगाड़ा है ???)
तुला-- दो सौ ग्राम गुड़ का रेवड़ी और दो सौ ग्राम बताशे इक्कीस मंगलवार तक बहते पानी में प्रवाहित करें। धन की समस्या दूर होगी।
( नोट- चार सौ ग्राम गुड़ और बताशे से अमीर बन सकते हैं। अंबानी को बता दीजिए। स्टाक मार्केट छोड़ बताशा खाना शुरू कर दें)
वृश्चिक--उच्च शिक्षा के लिए केले के पेड़ की पूजा करें, जल चढ़ाएं।
( नोट- अर्जुन सिंह सर्व शिक्षा अभियान बंद करें। और ज्योतिष से पूछें कि प्राथमिक शिक्षा के लिए किस पेड़ की पूजा कराएं)
धनु-- उच्च शिक्षा के लिए तांबे के बरतन में पानी भर कर अपने कमरे में रखें और सुबह पौधे में डाल दें।
( नोट- यूजीसी सारे विद्यार्थियों को तांबे का बर्तन उपलब्ध कराये। जेएनयू और दिल्ली विश्वविद्यालय में खासकर)
मकर- परेशानी से बचने के लिए लाल सांड को मीठी रोटी खिलाएं।
(नोट- कहां मिलेगा ये लाल सांड, दिल्ली के साउथ एक्स पर या नरीमन प्वाइंट में)
कुंभ-- उच्च शिक्षा के लिए तुलसी के पत्ते खाएं।
( नोट- यूजीसी या नॉलेज कमीशन ध्यान दें)
मीन-- नौकरी में परेशानी आ रही हो तो पीपल की जड़ में पानी डालें और कभी भी झूठ न बोलें।
(नोट- सही आइडिया है। झूठ बोलने से भी परेशानी होती है।)

बाप रे बाप। भगवान बचाए इस मुल्क को। वो भी अपने बंदों को कैसा कैसा आइडिया देता रहता है। राशिफल के नाम पर ज्योतिष भाई लोग खूब फल खा रहे

11 comments:

Rajesh Roshan said...

ये बाबा लोग राशिफल बता कर राशि(Money) को फल की तरह खा रहे हैं. और हमे चीनी टू छोडिये गुर भी नही खाने दे रहे हैं. सब बरबाद हैं. Huuhh...

जोगलिखी संजय पटेल की said...

अविनाश भाई;
आलसी लोगों की नेशनल यूनियन के प्रेसीडेंट ने
जारी किया है क्या ये चार्ट.

Udan Tashtari said...

सभी राशियों के लिये:-

अपनी ब्लॉग पोस्ट सफल कराने के लिये ब्लॉग पोस्ट चढ़ाने के २१ मिनट के भीतर उड़न तश्तरी पर जाकर टिप्पणी चढ़ायें, आपको आपकी पोस्ट पर टिप्पणी की प्राप्ति होगी.

-स्वामी समीरानन्द

anitakumar said...

कोई भी मंत्री मीन राशी का नहीं होगा जी, पहले ये मार्ग दर्शन मिल जाता तो सोच समझ कर राशी चुन कर पैदा होते न जी, अब का करीं, अपना तो सफ़ल होने का कोई चानस ही नहीं

हिन्दी टुडे said...

'राशिफल' और वोह भी जानी-मानी पत्रिका में…………अच्छा विश्लेशण किया है आपने। रवीश जी,जरा कुछ टी वी चैनल वालों को भी अपने ब्लाग का रास्ता दिखा दो। आपके 'विश्लेशण' से सीख लेंगे।

अजित said...

बहुत खूब.....और उस पर समीरानंद की टिप्पणी बहुत बहुत खूब:)

सुरेश कुमार said...

क्‍यों ज्‍योतिषों की दूकान बंद करवाने पर तुल गए हैं, इनका भी जीडीपी रेट बढ़ना चाहिए ताकि देश के विकास ये पीछे न छूट जाएं।

ramkumar singh said...

सभी राशियाें के सुख एवं समृद़धि के लिए टाेटका
करम करें तथा कामयाबी के लिए दूसरा टाेटका अपनाने से पहले रवीश कुमार की राय जानें या उनकी टिप्पणी पढें
बधाई

सफ़र said...

भाई लोग का बताएं दो दिन से देख रहा हूं मोहल्ले और आसपास की महिलाओं को (अपनी मां समेत) उन बच्चियों को खोजते फिर रहे हैं खिलाने के लिए जिनके दांत भी नहीं आए हैं अभी ढंग से.


ये ही है जी हमारा महान गौरवशाली भारत देश. टोटके माइनस कर दें तो इन बाबाओं और ज्योतिषियों को कौन पूछेगा. बढिया लिखा.

Sagar Chand Nahar said...

चलिये हम भी अब तुलसी के पत्ते खाने शुरु कर ही देते हैं।
मजेदार है कई बार सुबह सुबह चैनलों पर इस तरह के टोटके सुन, देखकर बड़ा मजा आता है। मैं तो इसे हास्य कार्यक्रम की तरह देख लेता हूँ। सुझाव भी बड़े मजेदार होते हैं जैसे कुछ उदाहरण आपने दिये हैं।

kirtikumar said...

aapke ideas achchhe hai, iska amal hona chahiye....