हो मेरा काम ग़रीबों की हिमायत करना


हो मेरे दम से ही मेरे वतन की ज़ीनत
जिस तरह फूल से होती है चमन की ज़ीनत
ज़िंदगी हो मेरी परवान की सूरत यारब
इल्म की शम्मा को हो मुझसे मोहब्बत यारब
हो मेरा काम ग़रीबों की हिमायत करना
दर्दमंदों से ज़ईफ़ों से मोहब्बत करना
मेरे अल्लाह बुराई से बचाना मुझको
नेक जो राह हो उस रह पे चलाना मुझको

मालूम नहीं आज इस गाने को क्यों बार बार सुनता चला गया । आपको भी सुनना चाहिए । इन दिनों राहुल गांधी और नरेंद्र दामोदर मोदी अपने अपने भारत का सपना बेचने निकले हैं। दोनों के सपने ख्वाब कम कोरे भाषण ज़्यादा लगते हैं। ये कैसा ख़्वाब है जिसमें सब अपने अपने भारत के नाम पर तमाम सपनों को कुचल रहे हैं। इतनी शाब्दिक हिंसा के साथ कोई भारत का ख़्वाब कैसे देख सकता है। काबुलीवाला की तरह ये दोनों अभी कई बाज़ारों में निकलेंगे। इनके भाषणों में भारत का अतीत और उसके नायक विचित्र तरीके से आते हैं और इनके काम में सीनाज़ोरी के साथ भुला दिये जाते हैं। तुर्रा ये कि इनके भारत ने जैसे कुछ किया ही न हो। जैसे इन्हीं दो के आगमन का इंतज़ार है कुछ होने के लिए। एक ऐसे भारत की तस्वीर खींची जा रही है जहां हकीकत का ऐसा अतिरेक है कि आप चाहें भी तो यकीन नहीं कर सकते कि सचमुच हम किसी अतीत में अटके हुए वतन हैं। केंद्र से लेकर राज्यों के बीच कई सरकारों से गुज़रते हुए इस मुल्क ने काफी कुछ हासिल किया है। उसके बड़े ही गौरवक्षण हैं। भारत को दांव पर लगाकर अपने सत्ता स्वपनों को हासिल करने के लिए घुड़सवार छोड़ देने से भारत नहीं मिल जाता। बुद्ध को समझ लेने से आज का भारत नहीं मिल जाता। इनके भाषणों का भारत नारेबाज़ी से ज़्यादा कुछ नहीं। सब स्लोगन है। कुछ रोचक है तो कुछ ताली कमाऊं हैं। दलीलों के अपने अपने गुट हैं। इन्हीं में जो जीतेगा दिल्ली से हुकूमत की सत्ता उसके हाथ में होगी। ये इतिहास की एक सामान्य घटना है जो लोकतंत्र के कारण हर पांच साल पर स्वत घट जाती है। लेकिन आप इनके भाषणों को सुनिये। मिलान कीजिए। देखिये कि सत्ता की भूख कितनी है और भारत के लिए त्याग कितना है। कैसे ये दोनों एक दूसरे के भाषणों के संदर्भों को उड़ा लेते हैं, उन्हें भावनात्मक रूप देकर अपने कार्यकर्ताओं के बीच ताली बजवा लेते हैं। यही दो दावेदार हैं जो निकले हैं आपके वोट के लिए। भारत के लिए कोई नहीं निकलता। सत्ता ही वो भारत है जिसे हर राजनीतिक दल हासिल करना चाहता है। आजकल दल नहीं उनके नेता हासिल करना चाहते हैं। राजनीति का एक दिलचस्प दौर शुरू हो चुका है। तल्ख़ियों और पटखनियों के बीच भारत एक सपने के रूप में आज भी वहीं टंगा है जहां से इस खूबसूरत प्राथर्ना की आवाज़ आ रही है।
ज़िंदगी शम्मा की सूरत हो खुदाया मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी

17 comments:

suchak said...

:(

Sudhir Kumar said...

Hindustan ki janta shayad ye gaana na gungunaye par apna faisla sahi aur sakaratmak pesh kregi,
aisi soch ke chale to aaj kal jaise bhashan sunne me aa rhe hai maayne nhi rkhta, par inki kahi baaton ko nazar andaz bhi nhi kiya ja skta aakhir bhashano se rajniti kahan jaa rhi hai ye pata chal jata hai, jo us janta ko pata hona chahiye usey kisko chunna hai aur kisko nakarnaa.

Profcomm said...

Excellent thoughts! We really need as a country to step back and evaluate our leaders critically. Indeed, it is difficult for a democracy to thrive without its citizens exercising vigilance and demanding accountability from their leaders. At the same time, we need to remember that despite enormous challenges we have achieved some good things in the last sixty years: democracy has taken roots, despite imperfections; diversity is valued; the nation has risen in eminence, especially in the last decade or so. I believe we are at an important stage in our history, and we must rise to the occasion. In our past, we did so; for example, following the Emergency in the late 1970s. There is a proverb in English: "Don't throw the baby out with the bathwater." We must honestly take an account of things that are "right" with our country and those that need to be improved or corrected. Our country's problems cannot be corrected by one or even a few individuals. We all need to do our part by being good workers, smart thinkers, and useful citizens. -- Anish Dave

mohammed raza said...

नमस्कार।सर।बहुत याद आती है आपकी।बहुत खुब लिखा है आप ने मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना ।
हिंदी हैं हम वतन हैं हिंदुस्तान हमारा।

Gopal Girdhani said...

आँखें खोलो इंडिया !

Gopal Girdhani said...

आँखें खोलो इंडिया !

astha said...

it's an old story..there have been less rulers like Akbar, Ashoka..
India has long been witnessing this and will continue till we do not change our mindsets.

prabhaker said...

CHLIYE KAM SE KAM BLOG TO SHURU KIYA
WAISE AAPKAA NAKLI TWITTER A/C BHI ACHA HAI

indianrj said...

इतनी तल्खी ठीक नहीं रविशजी। इतने अविश्वास और निराशा के माहौल में कम से कम कहीं कोई उम्मीद दिखाई दे रही है, तो हमारी आँखों में चमक क्यों न आये? आखिर हम कब तक वोही पुराने राजनेताओं की घिसी पिटी जाति, धर्म, इलाका, के आधार पर वोट देते रहेंगे। अगर आज हमें एक राजनेता ऐसा मिला है, जिसने 'सेकुलरिज्म' को नयी परिभाषा देने की कोशिश की है, तो उसका स्वागत क्यों न हो? लेकिन इससे तथाकथित pseudo-secularists को बेचैनी तो होगी ही, आखिर उनकी दूकान बंद होने की नौबत जो आ जाएगी।
रवीशजी, आप बहुत अच्छे पत्रकार हैं, लेकिन आजकल कुछ confuse लग रहे है। एक ही चश्मे से देखना ठीक नहीं और इतना शक करना भी ठीक नहीं, आगे आपकी मर्ज़ी।

punam gupta said...

सर आप ने नरेन्द्र मोदी और राहुल गांधी के भाषणों पर तो अपने विचार प्रकट कर दिए, लेकिन क्या आप को नहीं लगता कि महाराष्ट्र के सूखा पीड़ितों के दर्द का अपने बयान द्वारा मखौल उड़ाने वाले महाराष्ट्र उप मुख्यमंत्री अजित पवार के शब्दों पर भी कोई टिप्पणी होनी चाहिए। सिर्फ पवार ही क्यों दिग्विजय सिंह, बेनी प्रसाद वर्मा और शिवपाल यादव के बयानों पर क्यों नहीं। क्या आप को लगता है कि यह भारत को आगे ले जाएगें। क्या वास्तव में यह नेता कहलाने के लायक हैं हमारे अग्रणी भारत के नेता!

madho das said...

समयोचित व्याख्या.

infertilitydho said...
This comment has been removed by the author.
abhay gupta said...

दर्द जो बहता है , उड़ेल देते हैं
कह ना पायें , तो लिख देते हैं
क्या कहेंगे और करेंगे क्या
ये हुक्मरान वो तो मालूम है हमें
चल ये अकेले दिल कहीं दूर
छावं ना मिले ना सही
धुप में ही कुछ गुन लेते हैं

प्रवीण पाण्डेय said...

किसी ग़रीब के चेहरे पर छोटी सी मुस्कान ही आ जाये।

yashpal khajuria said...

Mujhey na Toh RaGA ka Aalochak kehlane mein khushi hai, Aur Na Hi NaMo bhakt Kehlane mein Mujhey Koi Izzat hi milegi Lekin, Beetey Kuch Dino'n se jo "RaGa" aur "NaMo" Gyan ka Seedha Prasaran News Channel Dikha Rahe Hain, Aur main Patrakarita se Juda Hone ke karan Logon mein Jo Iska Prabhav Mehsoos karta hoon, Uske baad Ek Samay Yaad aata hai Jab Doordarshan pe Ramayan ka Prasaran Hota Tha Aur Logon mein uska Craze bhi Tha...
In Sabke Bawjood mehz Ek Shrouta (Listener) na Hoker main Jo Mehsoos Karta hoon aur Jo Samajhta hoon .. Uske Hisaab Se Agar Kahoon Toh Rahul Gandhi Aur Narender Modi Bina Ghoshit Kiye Do Alag -Alag Political Partion ko Lead kar rahe hain .., Ek Taraf Jahan Charo'n Aur Se Doob Rahi Congress Ki Naav Ko Rahul Apni bedaag Patwar ke sahare Par lagane ka Prayas kar rahe hain .. Usmein Unko Zor Lagane Waale hath ki kami mein Mehsoos karta hoon ..Rahul ke Bina unki Party Ke paas Dikhane Layak Kuch Khaas nazar Nahin aata albatta "Akaash Se Pataal" Tak (CoalGate to Copter Scam) Ghotalo'n se trast Congress Ke pass dikhane layak Shakal Abb Jhoorion se Bhari aur Anna hazare + Arvind kejriwal Ki Migrain se Dukhi Lag Rhi hai ... In Sabke beech apni Image aur Sadgi ko Daav pe Lagaker Rahul Chunavi Abhiyan Ko Lead karne ki Koshish Kar rahe hain aur Kuch Sapne Congress mOBILE van ke Display mein Lagaker Bechne Ki Koshish mein Pryasrat hain.. lekin Ek Baat Jo mujhey Ajeeb Lagti hai Woh yeh Ki Rahul Gandhi Kis badlaav ki Baat karte hain, Congress ne Azaadi ke baad se 90% Desh pe Raaj Kiya hai ya kahein ki Desh ko Chalaya hai Uske Baad Rahul kiski Khilafat Kar rahe Hain yeh Mujhey Ajeeb Lagta hai .. Aur Ek Bar agar Woh PradhanMantree Bante hain toh Mujhey Darr Hai ki Kal Apni Kisi Uplabdhi pe manmohan Singh Ji Ki Gumnaam Zubaan Ki bali na Lagg Jaye.. Ki Ek Kamzoor PM ke Muqable Desh ko Ek Bulletproof Comandoo NSG Guard / ATS Squad Type PM Mila ... Lekin Abhi bhi 10 Janpat ke liye Delhi Door nazar aati hai kyunki rahul Kora prospectus Dikhaker admission lena Chahte hain. jo aaj Ke Pratespardhita ke Samay mein Mushqil Lag Rha Hai..

yashpal khajuria said...

Wahin Dosri Taraf Baat karne se pEHLE Mujhey Katrina kaif Maaza Ki add Karti Hui Nazar Aati hai .. Apne aapko garmi se pehle hi tyyar ho Chuke Aam Ki trah Jise aap Aanand Lekar Swaad le Sakte Hain Kuch Is Trah Project kar rahe Narender mODI Ki jo Wave Dikhaaye Ja rhi hai Uske Liye agar Narender Modi Bhartiya Media ke Karta-Dharta jo Hain Unhein Bharat Ratan hi Dilwayein toh Kuch Balancing Act Jaise baat Ho Sakti hai, har Baar, Baar Baar PM padh ke Liye NaMo Ki Footbal Ko Media kaBHI Free hit toh Kabhi Penelty Corner ki Trah Udaa De Rha Hai.. Muaf Kijiyega Lekin Aapke Show "Rajeev Ki Report" (Jisne Mujhey Patrakaarita mein Dhakela aur main Desh ke Tathakathit Fourth Pillar of Democracy ka Kuch Matlab Samajh Paaya) ke Bandh Hone ke baad Mujhey Samajh Aaya Ki NDTV ne Aapki Stories Se Paida hue Pressure Ko Exhuast Karne ke Liye Aapko Dekar Aur Prime Time mein Aapko Suit pent Pehnakar Jo Khidki Nikaali hai Ussey Kam_S_kam Channel Ab Pressure ki Ghutan Ko Safalta Purvak Kamm kar Sakne mein Safal Dikha Hai ..
(Aapka liye Mujhey Likhna Ya Bolna ho Toh Shayd mein Ek Kitaab Likh Doon poori Kekin Abhi Main Utna Pripakva Khud ko Nai Samajhta)
Lekin aapko NDTV ki Screen pe Jab mein Nahin Dekhta hoon Aur kabhi NDTV ka Number lagg jata hai Toh Main Paata hoon aur Sochta hoon Ki JO NDTV Ravish Mujhey Dikhate Hain yeh Ussey Ultee Disha mein Kyun JaaRha hai.. :(
Khair Uss Sabse Alag Modi Ki baat ho rhi Thi Toh Modi ke Bhashan Ka Maine Kaafi Der Se Avlokan karna Shuru Kiya Toh yeh Paaya Ki ... Ek Aadmi Ahankaar Ko Practical Sabit karne ke Liye Apne Pradesh mein Apni hi party Ko Dakhal nai Dene Deta yeh Sabit karne Ke Liye ki Woh tareekh mein Khud Ko Party Se Bada Banane mein Aur Khud Ko GangaSnaan karwaane mein Kamyaab Ho Chuka hai,..
Modi Ki Hat-Trick ke Baad ki Jo Tasveer Dikhti hai Ussey main ye maanta Hoon ki Beshak Modi Hi Ek Vikalp nai hai, Lekin Aakhir kaar Jab Dukaan pe Pepsodent Aur Coalgate Hi Milenge Toh aapko ek Toh lena Hi Padega,
Lekin Jo Prospectus Rahul Dikhate hain .,. Usmein Aur Jo Report Card Modi Uthaye ghoom Rahe hain USmein Jab Tulna Karta hoon Toh Modi mein Ek Spasht vakta (Complete n Influencial Orator) nazar aata hai Jo apne Sutli Bomb ke Experiment Ko Aadhar Banakar Pramanu parikshan Ki Permission maang Rha hai,
Kul Milakar Modi Jo Sapne bechne Nikle hain Kam Se Kam Uska Model Woh Gujrat Ko Dikhakar Aapne Customers ko Impress Karne mein Kaamyaab Hoo pa arahe hain.. Wahin Wallmart ke Menu se Dikhte Rahul baba ke Prospectus Se Common Man Connect nai hoo paa Rha ki Keemat Zyaada na Chukaani Pad jaye.. :)

Pehla Comment Kiya aapke Blog ko Dhoondh kar Facebook Account aapne band Kar Diya hai toh Dhoondhna Pada .. Lihaaza Galti Hoone Guru Ji Jaise Fatkaar Aur Muafi ki Aasha Karta Hoon..

# Yashpal Khajuria.
Jammu

nptHeer said...

Aap ki yahee baat to achhi lagti hai-aap ke kaarunya bhaav ko bal mile...