भ्रूण हत्या

भ्रूण हत्या
कल तक जो ख़बर थी
उसी ख़बर की हो चुकी है
भ्रूण हत्या
चुपचाप किसी मां के अनचाहे गर्भ की तरह
पत्रकारों ने गर्भ गिरा दिया है
कुछ ने एक्स रे मशीन से ढूंढ कर
डॉक्टर और दाई से मिलकर किसी रात
पता लगा लिया है कुछ पैसे देकर
उस छोटे से भ्रूण को
जिसके बड़े होने के शुरूआती हफ्तों में
बेटी की तरह लगती है ख़बर
कहां से देंगे पढ़ाई का ख़र्चा
कहां से लायेंगे दहेज
और कहां कहां खोजेंगे दूल्हा
मार देना सबसे बेहतर विकल्प है
न्यूज़ चैनलों की दुनिया के लिंग अनुपात में बदलाव आ चुका है
एक हज़ार कूड़ा कड़कट के बीच
ख़बरों की संख्या दो रह गई है
भ्रूण हत्या करने वाले मां बाप
कभी रोते नहीं है उसके मार दिये जाने पर
बल्कि मार देने की योजना बनाते हैं
एक ऐसी मौत जिसके लिए
ब्राह्मणों ने भी श्राद्ध का प्रावधान जैसा
कोई कर्मकांड नहीं बताया है
न सर मुंडाया है न खिलाया है मोहपातर को
तसल्ली देने के लिए बाहर एक बोर्ड लगा है
हमारे यहां लिंग परीक्षण नहीं होता
भ्रूण हत्या कानूनी अपराध है

16 comments:

Sajid Khan said...

yeh sirf kavita nahi hia yeh un lakho maa baap ka dukh hia jo beti hoone ki saza bhugatne se pehle hi beti ko gharbh mai hi maar dete hai.bahoot achi hia kavita...

कुलवंत हैप्पी said...

खबरों की भ्रूण हत्या...के बारे में लिखकर नई समस्या को सामने ला खड़ा किया है...कुछ दिन पहले आपकी तालिबान और भारतीय टेलीविजन पर आपकी रिपोर्ट देखी, जिस पर कुछ ने टिपप्णी की, लेकिन वो आपका पेशा और जहां आप खुद की स्वतंत्रता के मध्यम एक सच को उजागर करते होए..कस्बे का रविश कुमार और एनडीटीवी का रविश कुमार अलग अलग हैं..

prabhat gopal said...

acha raha. bhrun hatya abhi ki sabse badi trasadi ban gayi hai

creativekona said...

भाई रवीश जी ,
न्यूज़ चैनलों की दुनिया के लिंग अनुपात में बदलाव आ चुका है
एक हज़ार कूड़ा कड़कट के बीच
ख़बरों की संख्या दो रह गई है .....

अच्छी लगी ये कविता भी ,भ्रूण हत्या के माध्यम से आपने खबरों ,चैनलों,और पत्रकारिता ..सभी का असली मुखौटा दिखलाया है.आपकी कवितायें भी हेड लाइन्स की ही तरह काफी धारदार हैं.
शुभकामनाओं के साथ .
हेमंत कुमार

रश्मि प्रभा said...

तसल्ली देने के लिए बाहर एक बोर्ड लगा है
हमारे यहां लिंग परीक्षण नहीं होता
भ्रूण हत्या कानूनी अपराध है
........
koi samadhaan nahi,bas hum apni vichaardhaara badlen,yahi kaafi hai....
aakhiri panktiyan hi bahya sach hai

अजित वडनेरकर said...

कई वार कर रही है ये कविता
किसी उल्का पिंड की तरह बहुत कुछ खरोचती-झुलसाती दिलो-दिमाग में न धंसे तो क्या कविता हुई ?
बढ़िया है...

himani said...

bhrun hatya.... shabd sunkar bhi atpta lagta haI !!! vo bhi us desh mai jahan ki parampara me chinti marna bhi log paap samajhte hai. Ajkal sab kuch apni jarurat ke hisab se kiya jaane laga hai news channelo ko TRP ki jarurat hai aur tathakathit abhibhavko ko apni jhuti shaan ke liye saputo ki

neelima sukhija arora said...

बहुत सोचने पर मजबूर कर रही है यह कविता, कुछ शब्दों में आज तो वाकई बहुत कुछ कह गए हैं रवीशजी।

Arvind Mishra said...

आपकी चिंता स्पष्ट मुखरित है इन पंक्तियों में !

Kashif said...

इस कविता में आपने आज के पढ़े लिखे हिन्दुस्तानी की कूर मानसिकता का नक्षा पेश किया है, जो आज के दौर में भी बेटी को लक्ष्मी नही मानता है.....आज भी वो पहले की तरह जी रहा है जैसे पहले बेटी होने पर उसे दूध के घडे में डूबा कर मार देते थे और अगले साल छोरे की प्राथना करते थे....

shashi said...

Ise hi kahte hain jis daal par baithey ho usi ko kaatna.Maada bhrun hatya samaaj me ho ya media ki khabaron me ,dono apni jarein hi khod rehe hain ,dono ko is daldal se baahar aana hai to media aur samaaj ko ek doosre kaa haath thaamnaa hoga kyonki koi pargrahi taaranhaar nahi aane waale.Yun hi nahi hain maa-baap ki chintaa ki lakiren ladkiyaan.Gundon ,netaaon,dharmaandhon aur dhanaarhon aur unke bigrailon ki rakhail bani kaanoon wyawasthaa aur prashashan kabhi ablaa ko sablaa naa hone degi.Naari ke Saksham yaa pratibhaawaan hote huye bhi asuraksha naari-aatmnirbhartaa ke maarg me awrodhak banaa rahega.Falswaroop dahej ki kooriti jarein jamaye rahegi.Nikamma tantra aur ashakt wyawasthaa ko unmoolit karne ke liye jansaadhaaran ko uttprerit aur jaagrook MEDIA hi karega.


Par media to khud khujlaahaa paglaa kutta banaa huaa hai.Kuch aatmwikretaa patrakaar bin aatmaawalokan kiye janta ko dosh dete hain ki jantaa hi khabron ke badle “kachrey” pasand karti hai. Media samaaj ko garhtaa hai naa ki samaaj media ko.Dukh ki baat hai media ko apne hone kaa arth aur apni bhooomikaa nahi pataa.Swatantrataa sangram me kraanti paidaa karne me soochnaa aur patron ki kya bhoomikaa thi sabko maalooom hoga.Punah arajak bane is loot-taantrik desh me jahan loksambandhi tano wyathaa ,jwalant mudde aur khabre padi ho wahaan patrakaaron kaa ye wyawahaar dekhkar hataashaa hi hoti hai.Nirih jantaa kaa kya hai netaaon aur baabuon se muh marai hoti hi hai ab media bhi muh maaregi.

Jo samay abodh aamjan ki aankhein kholne kaa ho us samay unhe draamon se nashamagn karna patrakaaron ke chichorepan aur bikaupan ko hi darshaata hai.Ab to khabar bechne waale dukaan un sharaab aur afim ke dukaan se pratit hote hain jinki roti jalte gharon aur laashon par sikti hai.Har jagah dhandhai ,aatmaa to bech daala kooch dino me pariwaar ko bhi bechenge.
Baajaaru duniyaa me janhit ki bajai kimat ke paimaane se khabron ki praathmiktaa tai ho rehi hain ,yadi channelon kaa astitva draamon se hi bachtaa hai to kaahe kaa news ?full time saabun wikretaa ban jayen.Pehle kabhi dhang ke patrakaar rah chuke channel maalik sirf netaon aur udyogpatiyon ke bich ping-pong karte dikhte hain inkaa jantaa se jurao kitnaa reh gaya hai pataa nahi.


Mai samajhtaa hooon manchale ho chuke “janpratinidhiyon” ne karyapaalikaa aur nyaypaalikaa ko prabhwaawit kar hi diyaa hai media bhi paaltoo ho hi jayegaa.Jantaa ki naao me shark machliyon ne ched kar hi diyaa hai media gayi to patwaar bhi chin hi jaayegaa .Par jantaa ka bedaa paar lagaane ke liye arthloluptaa aur bhrastaachaar ke bahaav ke wirrudh bahne waale karmath,nisprih evam kraantidharmi patrakaaron ki sakht aawashyaktaa to hogi.

hamarijamin said...

Khabar dena or khabar lena....na jane kaha bilate ja raha hai.

DEEPAK KUMAR said...

RAVISHJI, AAPKEE YAH KAVITA AAJ KEE DOGALEE PATRAKARITA KO SUNDARTA SE BYAN KARTA HAI. MUJHE EK PATRIKA SE PATA CHALA THA KI AAP TV PATRAKAAR BHEE HAIN. PHIR EK PATHAK KE TIPPANI SE PATA CHALA KI AAP NDTV ME HAIN. AAPKA "BLOG VARTA" HINDUSTAN ME PADHKAR AAPKEE UNCHEE SOCH KA BAKHUBEE PATA CHAL JATA HAI. NISCHAY HEE AAP JAISE PATRAKAAR SE LOKTANTRA KA CHAUTHA STAMBH AUR BHEE MAJBOOT HOGA. IS SUNDAR KAVITA KE LIYE AAPKO BAHUT-BAHUT SHUKRIYA. ---AAPKA
DEEPAK
E-MAIL: deepakkazh@gmail.com

खबरची said...

रविश जी आप का ये कॉमेंट्स बिल्कुल सही हैं हमारे जेसो की भी इस भ्रूण हत्या में ही हत्या हो गई हैं

shubhi said...

एक अखबार में एक खबर देखी थी वर्षों पहले, जब डाक्टर का छुरा बच्चे तक जाता है तो वह डर से सहम जाता है ऐसा वैज्ञानिक शोध हुआ है। कैसे हम अपने ही अंश के साथ ऐसा ट्रीटमेंट कर सकते हैं।

Mohan said...

"ek esi mot jiske liye brahmano ne bhi shradh ya koi karamkand nahi bataya hai.Ma bap rone ki jagah khus hote hain"chubhta hooya teer bimar mansikta ko jinjhorta hai.Naye dhang se kahi gai yeh bat
seedhe dil dimg ko bechen kar rahi hai.Yeh kavita nahi -injection hai. m.k.bhardwaj