वेतन का सच और सवाल

पिता- कितना मिलता है?
पुत्र- काम चल जाता है।
पिता- कितना?
पुत्र- खर्चा इतना कि बचता नहीं।
पिता- कितना?
पुत्र- स्कूल, दवा और किराया।
पिता- कितना?
पुत्र- साल भर से नया कपड़ा नहीं खरीदे।
पिता- कितना?
पुत्र- बैंक में एक रुपया नहीं।
पिता- कितना?
पुत्र- दिल्ली में रहना महंगा है।
पिता- कितना?
पुत्र- टैक्स भी भरना है।
पिता- कितना?
पुत्र- आपके पास कुछ है?
पिता- है। चाहिए।
पुत्र- कितना?
पिता- उतना तो नहीं।
पुत्र- कितना?
पिता- रिटायरमेंट के बाद मकान में लग गया।
पुत्र- कितना?
पिता-चुप...
पुत्र- चुप

नोट-( कहानी ख़त्म नहीं हुई। खत्म नहीं हो सकती। चलती रहेगी। बस आप बता दीजिए। किस किस घर में इस सवाल का जवाब बाप और बेटे ने ईमानदारी से दिया है)

21 comments:

Rajesh Roshan said...

मैंने अपने बाप से नही दिया है । पिता ने हमेशा सही दिया है। हिंदी प्रिंट का पत्रकार शायद दे भी नही पायेगा । अफ़सोस । हां, लेकिन मुझे अफ़सोस नही है है क्योंकि मैं अपनी मर्जी से नौकरी कर रहा हू

Sanjeet Tripathi said...

सही!!

Siddharth Rai said...

अिनशचत्ता और अित्रपत्ता का बेहत्रीन उदाहरण।

Pramod Singh said...
This comment has been removed by the author.
Pramod Singh said...

प्रमोद: कभी हमारी मुलाक़ात नहीं हुई, मगर मन से आपको दोस्‍त ही समझता हूं!
रवीश: अच्‍छा. कितना?
प्रमोद: ग़लत मत समझिएगा, जेब में मेरे आत्‍मसम्‍मान बहुत है..
रवीश: हूं. कितना?
प्रमोद: एक बात थी, प्‍यारे. सुनता हूं कुछ पैसे-वैसे आपके हाथ आए हैं, और अपने को हमेशा तंगी रहती है, तो सोच रहा था अगर..
रवीश: कितना?
प्रमोद: (कान में फुसफुसाकर राशि)
रवीश: (चुप)
प्रमोद: क्‍या हुआ? लगता है मैं ठीक से कम्‍यूनिकेट नहीं कर सका..
रवीश: (चुप)
प्रमोद: (चुप)
रवीश: (चुप)

monika said...

mere ghar me mere pati aur devar apne pita yani mere sasur g ko sahi-sahi batate hai=KITNA. yahi nahi maine bhi unhe sahi bataya hai- KITNA. kya aap bata sakte hai ki mere comment ko aap sthaan denge- KITNA

pawan lalchand said...

ravish ji kahani ghar- ghar ki hai lekin jawaab kisi se nahi diya jata imandari se..

monika said...

pawan g, kya aapka ishara meri taraf hai?
agar hai to mai apko bata dun ki mai aisi baaton ke liye jhooth nahi bolti, jo pakdi jaa sakti ho-pahli baat.
aur doosri baat ye ki beimaaani ki is duniya me kuch imaandaar shabdo par agar aap yakin nahi karenge to vo shabd agli baar abhivyakt hone se pahle 100 baar sochenge ki kahin unhe jhootha to nahi thahra diya jayega.
maaf kijiyega, magar mujhe aap bhi usi jamaat me bathe hue dikh rahe hain jo juth aur sach me yakin nahi kar paate. sach-sach hota hai, koi kasauti use jhoota sabit nahi kar sakti
shukriya

ravish said...

मोनिका जी
मुझे आपकी बात पर यकीन है। क्योंकि इस सवाल का जवाब मैंने अपने पिता को ईमानदारी से दिया था। मगर अपने वृहत्तर परिवार में किसी को इस सवाल पर सच बोलने नहीं सुना। आस पास दोस्तों को भी झूठ बोलते सुना है। राजेश रोशन और आप जैसे चंद लोग होंगे। मगर इस झूठ का सामाजिक विश्लेषण किया जाना चाहिए।

हम अपने पिता से झूठ बोलकर अपने बच्चों को सच बोलने की शिक्षा कैसे दे सकते हैं। बड़े सवाल को गोली मारिये। छोटा सा सवाल करते हैं। आखिर क्यों ऐसा होता है? क्यों मन रोकता है कि रूक जाना चाहिए। सब बता देने से मुश्किल आ

Raju Sajwan said...

रविश जी, इस कहानी में माँ का जिक्र नहीं है। बेटा माँ से पूछ लेता है कि पिता को इतना वेतन मिलता है, लेकिन माँ को अपने वेतन के बारे में नहीं बताता।

monika said...

ravish g
namaskaar
aaj pahli baar patrakarita me hone ka santosh ho raha hai. kabhi nahi socha tha ki aap jaise patrakaar se apratyaksh roop se hi sahi, RUBRU hone ka mauka milega,
chaliye, in blogs ki badaulat kuch to achcha hua, magar afsos, ki isme apka msg adhura hi mila padhne ko.
maine haal hi me in do-teen mancho ka chakkar lagaaya, lekin apka manch mujhe isliye jyaada pasand aaya ki yahaan vivaad ke bina hi kuch achcha padhne ko mil jaata hai. aage bhi aisi hi ummeed hai, niraash nahi kijiyega, pls.
kya hindi ke liye mail karna hoga, apke manch par ye vyavastha nahi ho sakti hai kya, yahin se padhkar yahin abhivyakt karna aasaan hai

Sudeep said...

रवीश जी,

यह हमारे समय का सच है.
अब तो अपराधबोध का आवरण भी उतर चुका है.

Sudeep said...

रवीश जी,


यह हमारे समय का सच है.

रिश्तों के बीच अब तो अपराधबोध का आवरण भी नहीं रहा.

rishikesh said...

Ravish ji......aapne sahi kaha hai..lekin ye tab tak sahi hai jabtak naye patrakar struggle k daur me hote hai....lekin jab jeb mein achhe paise aane lagte hai to apne pita se juth nahi bola jata....yakin maniye apne samaj me abhi bhi mata pita k liye aadar bhaw zinda hai.....kam hua hai to metro city mein.....

Dino Spomoni said...

Here you can find TOP sites about insurance , life insurance, car insurance high quality and on normal prices. All information is FREE. Insure yourself - Your life depends from it! http://catalog.netserg.info

fly558 said...

runescape money
runescape gold
eq2 gold
eq2 plat
ffxi gil
wow gold
cheap wow gold
buy wow gold
cheape runescape money
cheap runescape gold
runescape account
runescape accounts
lotro gold
cheap lotro gold
lotr gold
cheap lotr gold
lotro account
lotro accounts
eq2 platinum
cheap eq2 gold
everquest 2 plat
everquest2 plat
eq2 account
eq2 accounts
maplestory mesos
maple story mesos
cheap mesos
buy mesos
maple story account
maplestory accounts
coh influence
city of heroes influence
cov influence
city of villains influence
final fantasy xi gil
cheap gil
cheap ffxi gil
ffxi account
cheap ffxi accounts
gw gold
cheap gw gold
guild wars gold
guildwars gold
dofus kamas
dofus money
dofus gold

2moons dil
cheap 2moons dil
archord gold
cheap archlord gold
eve isk
cheap eve isk
eve money
cheap eve money
flyff penya
fly for fun penya
gaia gold
cheap gaia gold
hero online gold
lineage 1 adena
lineage adena
cheap adena
lineage accounts
lineage account
Ro zeny
cheap RO zeny
ragnarok zeny
silkroad gold
silkroad online gold
silkroad accounts
silkroad account
silkroad power leveling
silkroad online
swg credit
cheap swg credit
Tabula Rasa
tabula rasa online
tabula rasa credits

bole-bindas said...

Ravish ji sach bataunto apne ekdam sach ko shabdon me utaar diya hai...........mere paas shabd nahi hai ki mai....apki taarif karoon.........har hidustaani k ghar ka sach hai.........

guddi said...

sach hai lekin har ghar ka nahi. sawal-jawab ho rahe hain it means rishto ne apnapan aur vishwas kho diya hai !
reason may be- struggle for life !

AMIT MISHRA said...

बहुत सुन्दर विश्लेषण किया आपने रवीश जी। वैसे तो पिता जी से सवाल करने की मेरी उम्र अभी हुई नहीं है और भगवान करे कभी हो भी न। लेकिन सच-सच कहूं तो पिता जी सवाल यही होते हैं और मेरे जवाब भी यही

ABHIVYAKTI...Manifestation of the Soul said...

Pichhle kuchh dino se aapko follow kar raha hun..bharsak koshish rehti hai ki raveesh ki report ke maadhyam se sapnon k bharat ka jaagta chehra bhi dekhta rahun..
hindi me ruchi thi par engineeron ki bhid me shaamil hona likha tha..lekin aapke vicharon ne fir shabdon se ghulne milne ki hasrat jagaa di..kuchh aur bade khwaab paal rakhe hain..koshish rahegi ki apki ye "not so slow yet very very steady" approach jeevan me utaar saken..aapki ye shaili bahot prernadayak hai..zameen se jude rehna sikhati hai..aise hi sochte, bolte aur likhte rahiye..All the Best Sir

Manisha verma said...

मेरे घर में और आखिर पिता कंगाल हो गए और बेटा लाचार