वज़ीराबाद घाट से छठ की कुछ तस्वीरें












3 comments:

रंजन said...

छा गए गुरु :))
तो लोकल बन ही गए ..:))

VARUN GAGNEJA said...

सब की पूजा एक सी अलग अलग हर रीत
मस्जिद जाए मोलवी कोयल गाये गीत

brebabu said...

हमेशा की तरह लाजवाब ,
कुछ न कहते हुए बहुत कुछ कह जाने की अदा आपकी निराली है ,