आइडिया काल की एक तस्वीर





















यह तस्वीर गाज़ियाबाद के लाइसेंस दफ्तर के बाहर की है। मारुति वैन में फोटो स्टेट की दुकान। नागपुर शहर में आपको मारुति वैन में पानी की दुकानें दिख जायेंगी। स्कूली बच्चों को ढोने के अलावा ये वैन चलती फिरती दुकानों में तब्दील होकर कई शहरों में चाट से लेकर चाउमिन तक परोस रही है।

12 comments:

Saba Akbar said...

व्हाट अन आईडिया सर जी !!

.... हमारे शहर में भी RTO ऑफिस के बाहर ऐसे ही एक मोबाइल फोटोस्टेट की दूकान चलती है..

विनय ‘नज़र’ said...

वाह जी
---
Carbon Nanotube As Ideal Solar Cell

Vivek Rastogi said...

अरे वाह ये तो बहुत बढि़या है।

Rishi Badola said...

ye bharat desh ki vividhta hai sir , omni car ki ekta may anekta.

Rishi Badola said...

ye bharat desh ki vividhta hai sir , omni car ki ekta may anekta.

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

बिजली का जुगाड़?

Ankur said...

bharat me har chiz ka jugad mil jayega..
agar aap samay par hai tab bhi sahi aur nahi hain tab aur bhi sahi....

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

रवीश जी, दुकान की पेशगी जिसे पगड़ी कहते हैं मालूम है कि कितनी देनी होती है? कहीं कहीं तो तीन चार लाख रुयपे तक। इतनी रकम हो तो वह दुकान चलायेगा?
ये सब पैसे वालों के हाथ ही बात है। इस तरह के मजबूर लोग तो ऐसे ही जुगाड़ से काम चलाते हैं।

Mahendra Singh said...

Lucknow main bati chokha aur morning walk walon ke liye Aloevera, lauki etc ke juice apko bikte mil jayenge.

Harsh said...

waah sir ji kya idea hai?

kabad khana said...

ravish bhai main 19years ka mass communication ka student hun aur aap mere adarsh hain main aap banna chahta hun mera blog hai kabadkhana kabhi time mile to nazar daliyega.

Uzma said...

waah... chalti phirti dukaan ..kaamka kaam jeb mein daam.. MOGAMBO KHUSH HUA