अहमदाबाद

अहमदाबाद
दंगों के बाद का शहर
पतली टांगों में फंसी जिन्स का शहर
लिवाइस जीन्स का खरीदार शहर
मारे गए लोगों के लिए रोता नहीं है
वह नया ब्रांड पहनता है
जैन पिज़्‍ज़ा खाता है
और नवरात्रा में कंडोम की बिक्री बढ़ाता है

अहमदाबाद

मोदी पर मंत्रमुग्ध है शहर
मॉल के माल पर मालामाल है शहर
गोधरा से पहले और बाद के दंगों से भागता
एक्सक्लेटर से गड्ढे में उतरता एक कतराता शहर
सब दोषी है
लेकिन पहले वो दोषी हैं
गोधरा के बाद ही हम दोषी हैं
हिसाब किताब करता एक अच्छा सा साहूकार शहर

अहमदाबाद

दंगों में मारे गए लोगों के लिए रोता नहीं है
प्लाईओवर पर भागता रहता है
हवाई जहाज़ में छुपता रहता है
स्टाक एक्सचेंज में गिरता चढ़ता है
कांग्रेस को गरियाता
मोदी को मर्द बताता है

अहमदाबाद

दंगों में मारे गए लोगो के लिए रोता नहीं है
रात भर नाचता रहता है
जासूस की निगाहों से बचता हुआ
जल्दी से कहीं रात गुजार देता है
नवरात्रा में कंडोम की बिक्री बढ़ाता है

अहमदाबाद

हादसों को भूल जाने वाला शहर
हादसे के बाद घर में छुप जाने वाला शहर
मर्दानगी ढूंढता रहता है नेता में
वह मोदी को पसंद करता है
बिजली पानी की कमी नहीं
वह एक मर्द को ढूंढता रहता है
दंगों में मारे गए लोगों के लिए रोता नहीं है

अहमदाबाद

एक ही तो नेता हुआ है शहर में
गोधरा के पहले का सच
गोधरा के बाद का सच
कभी एक से छुपता है
तो कभी एक से भागता है
मर्दों की मर्दानगी वाले इस शहर में
सिर्फ एक ही मर्द क्यों मिलता है
अहमदाबाद
दंगों में मारे गए लोगों के लिए रोता नहीं हैं

13 comments:

satish said...

kavita ke karigar aap bante ja rahe hain. Aab to tukbandi bhi dikh rahi hai.

abhishek said...

kya baat hai, sir kyon har bahati hawa main dango ka sach doond raha hain , such hai ki jo hua bahut vibhatsa tha,gujrat yadi use bhul kar aage bad raha hai to hame shubhkamna hi deni chahiye,
mujhe mere guru ka kathan yaad aata hai, hum khbar dene wale hain khabar banane wale nahi............

himanshu said...

raveesh bhai
internet/broadband ka naya user aur apka (is mere liye naye roop ka)naya fan!

Mired Mirage said...

अहमदाबाद भूकम्प से भी बहुत जल्दी उभर कर बाहर आ गया था । गुजरातियों की यही बाउन्सिंग बैक की खासियत ही उन्हें खास बनाती है । परन्तु बात तो तब बनती जब दंगों से पीड़ित भी न्याय पाकर बाउन्स बैक करते । प्रकृति द्वारा दी गई पीड़ा से उभरना सरल होता है किन्तु पड़ोसी से उठा विश्वास वापिस लाना कठिन होता है ।
घुघूती बासूती

अजित वडनेरकर said...

आजकल अच्छी कविताएं लिखी जा रही हैं। इस खूबी को कहां छुपाए हुए थे अब तक...जर्नलिज्म बजरिये कविता ....
वाह , क्या बात है...

संजय बेंगाणी said...

तो क्या घावों को कुरेदता रहे

अहमदाबाद.

भई अहमादाबाद आये थे तो एक फोनवा घूमा देते, कुछ दुसरी तस्वीरे भी देखा देते अहमदाबाद की.

himanshu said...

maare gaye lgon ke liye rota nahin hai....
sanjay ji
kya aapko pata hai holocaust ke apraadhion ko bahut baad mein bhi dhoondh dhoond kar saza di gayee thee.bhoolkar kya gujrat is apradhbodh se mukt ho paayega?

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

कमोबेश हर शहर का यही तो हाल है! वह चाहे अहमदाबाद हो या दिल्ली, बंगलौर हो या हैदराबाद, बनारस हो जम्मू ....... किस-किस की बात की जाए?

thoughtme said...

kabhi bihar yad ata hai, waha ka badh,apharan, berojgari,resource ki kami, padhai ka abhav, hospital ki kami kya yar dilli ake pure dehlite ho gaye ho, hamesha modi ,gujrat bahut achha hai , bihar ko bhi modi chahiye ye kyo nahi likhte, kya karoge ndtv me naukari karni hai to ye sab to karna hi padega nahi to parav rai kan pakad kar bahar kar dega,

ashwaryaashish said...

sir yah haqiqat hi hai ki is daur me insaan apne mulyon ko bhool chuka hai ..apne Dayitwo se bhaaag raha hai..kabhi
mahatma Gandhi ka rajya aaj..Godhra or uske baad ke dango ki paryaay ban chuka hai...vibhats haqiqat ko sabhi jante hai..par na jane Q khamoshi odhe hai..Modi ab moditwa ka pratik hai..Ahinsa kho chuki hai...ghrina- dwesh charo tarfa faila hai..chupe taur pe hai sahi par aab bhi logo ke dil Hindu musalman me bate hain..vikash samaj ka hota hai..par aatankit Rajya kabhi v vikash nahi kar sakta...Qyunki vikash samuh ke har sttar par hota hai..chamkti sarke..bdhati kamayi...kabhi bhi vikash ka pratik nahi ho sakta..ye sab chanik hi hai..vikash ka dawa reet ka kila hai..Jo Aam Gujrati Janmans ke Ghrina ke tufan me bhah jayega...aaj naho to kal..par wo waqt zarur aayega...

saharsh said...

abhishek, mired mirage, sanjay bengani, ishta dev aur thoughtme se sahmat hun. Waise kataksha achchha hai. Magar, itnee maar-kaat ke baad bhi kisi ko 'buddham sarnam gachchhami' ki yad nahi aati.

surta chaudhary mehta said...
This comment has been removed by the author.
aadi said...

Ravishji,

Subah se aap ka hi blaog padhe ja rahe hai..aaj hi to mila hai ! Mere lie ye achhi kitab ka kaam kar raha hai..!

Par aankhe yahi is post pe thehar gai..! Ye kya hua ? Ahmedabad sirf godhra hi nahi hai..aur ye me islie nahi keh raha k me ahmedabad se belong karta hu. magar isliye keh raha hu k muje kabhi ayodhya 6 dec k liye yaad nahi aaya. Rahi baat modi ki to lasho ki rajniti karnewale kisi se meri koi chah nahi hai. Jo bhi hua wo sahi nahi tha..par usiko leke is rajya ko dekhna sahi bhi nahi hai...aur wese bhi godhra ho ya hal hi me hua muzaffarnagar...hum is mulk ko shayd dusra pakistan banane ki aur budh rahe hai...