मार्केट में जाति-वैदिक,ब्राह्मण और बसपा

इस लेख में सुधार किया गया है। मैंने यहां चार तस्वीरें लगाई थी। एक तस्वीर चमड़िया हींग गोली की थी । मुझे लगा कि इसका संबंध दलित चमड़िया जाति से है। लेकिन मेरे कई मित्रों ने बताया कि मारवाड़ी भी चमड़िया होते हैं। मारवाड़ियों में एक टाइटल सुल्तानिया का भी होता है। मैं तस्वीर को हटा तो नहीं रहा लेकिन लेख बदल रहा हूं। ताकि आपको भी पता चले कि मुझसे ग़लती कहां हुई थी। भूल सुधरवाने के लिए मित्रों का शुक्रिया। अजीब है यादव भी जाटव होते हैं और चमड़िया भी मारवाड़ी।

पहली तस्वीर में पं अमरपाल शर्मा ब्राह्मणों के नेता बन गए हैं। मैं जहां रहता हूं उस मोहल्ले में और ठीक इसी जगह पर जहां उनकी परशुराम सम्मेलन वाली होर्डिंग लगी है, कई नीली होर्डिंग देखे हैं। तब बसपा का राज था। अमरपाल शर्मा को बसपा ने टिकट भी दिया था। शर्मा सर्वजन सरकार का नारा मायावती की तस्वीरों के साथ होर्डिंग में लगाते दिखते थे। सरकार जाने के बाद ब्राह्मणवाद का दामन पकड़ लिया है। जैसे जात एक गंजी भी है। वक्त आने पर कमीज़ उतार कर हम डालर,लक्स,ऑन,वीआईपी। दूसरी तस्वीर में परशुराम सेना में भर्ती का विज्ञापन है। आटो में लगा है। यह भी मेरे ही इलाके में दिखा था।



 सौ मीटर के इलाके के भीतर इनकी तस्वीरें उतारी हैं मैंने।यह मार्केट फ्रैंडली जातिवाद है।

15 comments:

काजल कुमार Kajal Kumar said...

जाति‍ अपने आप में ही सबसे बड़ा ब्राण्‍ड है हमारे यहां

जाटदेवता संदीप पवाँर said...

प्रधान पद से लेकर प्रधानमंत्री तक, सब के सब जाति वादी वोटो के चक्कर में हारते-जीतते है, कही भी इमानदारी हो तो बता देना

संजय @ मो सम कौन ? said...

कई लोग आपको पहले ही बता चुके हैं, न तो हम बता देते:)

Aditya Agrawal said...

Ravish Ji,

Your enthusiasm is misplaced. The "Churan", "Hingoli" brand is owned by a Marwari. I am a Agrawal so I know about it.

some lesser known Marwari surnames:
Sultania, Chamaria, Barjoria, Goenka, Tola

मसिजीवी said...

चमडिया प्रकरण में आपके (और मेरे भी) उत्‍साह की वजह दलित वर्ग में चमडि़या के शुमार होने की वजह से था... संभव है कि ये चमडि़या गैर दलित हों किंतु ऐसा होने तो बात का दम और बढ़ता ही है... सवाल साफ कम दलित आत्‍मविश्‍वास इतना होगा कि वे भी अपने ब्रांड जातिनाम पर रखेंगे (या कोई नहंी रखेगा) उससे भी ज्‍यादा मैं यह जानने में इच्‍छुक हूँ कि कब वो सुबह आएगी जब किसी खानपान की चीज के नाम के साथ बिना धंधे में नुकसान की आशंका के ये घोषणा हो सकेगी कि ये दलित ने बनाई है।

nptHeer said...

'Jotin baar gaayatri snaan kare,havishyaan le,daya-karuna-tap kare,mitbhaashi-santoshi ho,ishtdev puje,vedadhyayan kare,ved ko jabaani yaad kare,ved sikhayen,nirgun avastha se bina aakanksha ke duniya main rahe---yahan kahe uttarottar adhik guni brahman ke gun brahmavastha dete hai-aisa naaradya smriti aur skand puran aur rigved sanhita main kaha gaya hai-kahin bhi jyotish jaane usko ya aayurved jaane sirf usko brahman kaha gaya nahin hai.rahi baat vyopar ki-to brahman ko shiksh ka vyavsaay fir raksha fir vyopar aur fir kheti is tarah se vyavsaay karneka aadesh hai vedon main-matlab agar shiksha na de paaye to rajraksha fir nyun se nyun vyavsaay kahe gaye hai :) thode main jyada samjh lo :) sayane bano:)bhagwan saath chalte hai-bhagwan hamare vikalp main nahin chalte hai:)

DR.capt alok ranjan said...

जब धनुखी हलवाई का इनार था
केवल टोले में और
सिर्फ और सिर्फ इनार था
पीने के पानी का इकलौता स्रोत
तो दादी उसी इनार से
पानी लाया करती थी
और धोबी घर की बाकी औरतें भी

और घरों की जनानियां भी
पानी भरती थीं वहां
पर धोबनियों से सुविधाजनक छूत
बरता करती थीं
ये गैर धोबी गैर दलित शूद्र स्त्रिायां
जबकि खुद भी अस्पृश्य जात थीं ये
सवर्णों के चैखटे में

अलबत्ता उनके बदन पर
जो धवल साड़ी लिपटी होती थीं
उनमें धोबीघर से धुलकर भी
रत्तीभर छूत नहीं चिपकती थी

पर इन गैर सवर्ण स्पृश्यों की
एक छोटे से मंदिर के अहाते में
रोज आती थी एक भिखारन
भक्तों के दान पुण्य की रहम पर
पलता था उसका पेट

एक कुत्ता भी हर रोज बिन नागा किए
आता था वहां एक खास समय
आरती की घंटी बजते ही

पुजारी को कोई दैव शक्ति
दिखी गई उस महादेववाहन वंशज में
और कुछ भक्तों को भी

मंदिर में होने लगी
अब उस कुत्ते की पूजा

उस कुक्कुर की जिन्दगी दैव योग से
हो गयी सामान्य व्यक्ति से अधिक सम्मानित
और उस भिखारन का अस्मिताविहीन जीवन
रहा वैसे ही दैव और भगत भरोसे
जैसे हो कोई अदना कुत्ते की जिन्दगी ।

Unknown said...

sir...a grand salute to u frm me for ur blogs, ur twitter updates, prme time nd every thng dat u share publicly to us, really a class imagination u have, i m following u recently 10 mnths nd i also want to be a tv anchor like u... Thnx

Unknown said...

sir...a grand salute to u frm me for ur blogs, ur twitter updates, prme time nd every thng dat u share publicly to us, really a class imagination u have, i m following u recently 10 mnths nd i also want to be a tv anchor like u... Thnx

प्रवीण पाण्डेय said...

जाति उभर उभर कर आ रही है और पठार बन चुकी, और बीच में वह रही है द्वेष की नदी..

रश्मि प्रभा... said...

http://bulletinofblog.blogspot.in/2012/06/2.html

सुरेन्द्र चतुर्वेदी said...

रवीश जी,गफ़लत में ही सही आपने चमड़िया हींग गोली का विज्ञापन बड़े सलीके से दे दिया...सच में स्‍वाद भी और समाधान भी।
एक बात और एनडीटीवी पर कुछ देखना है तो प्राइमटाइम और प्राइमटाइम तभी जब रवीश हों।...

Shyanki Kumar said...

hi sir,
i'm following u on twitter,facebook,ur blogs and also at prime time.i love the way you convey the thoughts and how delicately you conclude the debate,it's simply amazing.i'm your very big fan.keep going, you are a source of inspiration for me....

anurag anand said...

2000 saal beet gaye hain, lekin ye manuvadi mansikta khatam hoti nahi dikh rahi hai. Facebook pe to khoob phalphool rahi hai iski tagging.bematlab k photos.

anurag anand said...

Manuvadiyon ka dangerous ishq.desh aur janta bhale barbad ho jaye.

Maine jeevan me lord ram ko kafi follow kiya lekin abhi pata chala ki wo manu ke vanshaj the , ab kya kiya jaye.